होम /न्यूज /राजस्थान /

दलित छात्र मर्डर केस: मंत्री राजेन्द्र गुढ़ा ने दी गहलोत सरकार से समर्थन वापस लेने की धमकी

दलित छात्र मर्डर केस: मंत्री राजेन्द्र गुढ़ा ने दी गहलोत सरकार से समर्थन वापस लेने की धमकी

मंत्री राजेन्द्र गुढ़ा ने ये धमकी ऐसे समय में दी है जब गहलोत सरकार इस मामले में पहले से ही विपक्ष के साथ-साथ अपनों से घिरी हुई है.

मंत्री राजेन्द्र गुढ़ा ने ये धमकी ऐसे समय में दी है जब गहलोत सरकार इस मामले में पहले से ही विपक्ष के साथ-साथ अपनों से घिरी हुई है.

Dalit Student Murder Case Update: राजस्थान के जालोर के दलित छात्र इन्द्र मेघवाल मर्डर केस में अशोक गहलोत सरकार लगातार अपनों से घिरती जा रही है. इस मामले में अब बसपा से कांग्रेस में शामिल होकर मंत्री बने राजेन्द्र गुढ़ा (Minister Rajendra Gudha) ने सरकार से समर्थन वापस लेने की धमकी दी है. गुढ़ा ने कहा है कि फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले की सुनवाई करवाकर एक माह में फैसला होकर निर्णय करवाया जाना चाहिए.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

राजेन्द्र गुढ़ा बसपा से कांग्रेस में शामिल होकर गहलोत सरकार में मंत्री बने हैं
राजेन्द्र गुढ़ा और उनके साथी पांच विधायक संकट के समय गहलोत सरकार के साथ थे

जयपुर. जालोर में दलित छात्र की टीचर की पिटाई से हुई मौत के मामले (Dalit Student Murder Case) को लेकर राजस्थान की गहलोत सरकार को अपनों ने ही घेर लिया है. प्रकरण को लेकर गहलोत सरकार के मंत्री राजेन्द्र गुढ़ा (Minister Rajendra Gudha) ने बड़ा बयान देते हुये कहा है कि अगर सरकार ने दलित बच्चे को न्याय नहीं दिलाया तो बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए सभी छह विधायक अपना समर्थन सरकार से वापस ले लेंगे. फिर चाहे हमारी विधानसभा की सदस्यता ही क्यों न चली जाए. उन्होंने कहा कि घटना में जो भी दोषी है उसे सरेआम फांसी पर लटकाया जाना चाहिए.

मंत्री गुढ़ा ने कहा कि फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले की सुनवाई करवाकर एक माह में फैसला होकर निर्णय करवाया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि किसी भी विधानसभा क्षेत्र से ज्यादा मेरे विधानसभा क्षेत्र में दलित अधिकारी मेरे साथ कार्यरत हैं. गुढ़ा ने ये बयान ऐसे समय में दिया है जब सरकार इस मामले में पहले से ही विपक्ष के साथ-साथ अपनों से घिरी हुई है. वहीं बसपा भी इस केस को लेकर सरकार पर हमलावर हो रही है.

विधायक पानाचंद मेघवाल भी दे चुके हैं इस्तीफा
गुढ़ा के इस बयान से पहले गहलोत सरकार के विधायक पानाचंद मेघवाल अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं. वहीं कांग्रेस पार्टी के एक जिला परिषद सदस्य भी घटना से आहत होकर अपना पद छोड़ चुके हैं. राजस्थान एससी आयोग के अध्यक्ष खिलाड़ी लाल बैरवा सरकार की ओर से पीड़ित परिवार को दिये गये पांच लाख रुपये की मुआवजा राशि पर सवाल उठा चुके हैं. पीड़ित परिवार को ढांढस बंधाने गये पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने भी इस मामले में निशाना साधते हुये सरकार से बड़ा कदम उठाने को कहा था.

पिटाई के बाद छात्र की इलाज के दौरान हो गई थी मौत
उल्लेखनीय है जालोर के सायला थाना इलाके के सुराणा गांव में दलित छात्र नौ वर्षीय इन्द्र मेघवाल की बीते शनिवार को इलाज के दौरान अहमदाबाद में मौत हो गई थी. परिजनों का आरोप है कि छात्र इन्द्र की गत 20 जुलाई को सुराणा गांव की प्राइवेट स्कूल के टीचर छैल सिंह ने पिटाई की थी. इससे छात्र की तबीयत खराब हो गई थी. करीब 25 दिन के इलाज के बाद इन्द्र ने बीते शनिवार इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था. उसके बाद यह मामला राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में आ गया.

Tags: Ashok Gehlot Government, Jaipur news, Murder case, Rajasthan news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर