• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पटेल, बिरसा मुंडा से लेकर विश्व शांति तक पीएम मोदी के मन की बात की खास बातें

पटेल, बिरसा मुंडा से लेकर विश्व शांति तक पीएम मोदी के मन की बात की खास बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

पीएम ने कहा कि जब भी विश्व शांति की बात होगी तब भारत का नाम और योगदान स्वर्ण अक्षरों में अंकित होगा. लेकिन युद्ध की स्थिति में भी भारत किसी से पीछे नहीं रहता है.

  • Share this:
    पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को रेडियो के माध्यम से देश की जनता से 49वीं बार अपने 'मन की बात' की. इस कार्यक्रम में पीएम मोदी ने सरदार पटेल को याद किया कि इस साल उनकी जयंती बेहद खास होने वाली है क्योंकि इस दिन देश उन्हें स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की सौगात देगा जिसकी ऊंचाई अमेरिका की स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से दोगुनी है. मन की बात में पीएम मोदी ने बिरसा मुंडा, मेजर ध्यानचंद को भी याद किया. पीएम ने कहा कि जब भी विश्व शांति की बात होगी तब भारत का नाम और योगदान स्वर्ण अक्षरों में अंकित होगा. लेकिन युद्ध की स्थिति में भी भारत किसी से पीछे नहीं रहता है.

    पढ़ें पीएम मोदी के मन की बात की खास बातेंः

    - 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती है. हर साल की तरह इस बार भी देश के युवा रन फॉर यूनिटी के लिए तैयार हैं. इस साल सरदार पटेल की जयंती और भी अधिक खास होगी क्योंकि इस दिन हमें उन्हें स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की सौगात देंगे. नर्मदा नदी के तट पर बने इस प्रतिमा की ऊंचाई अमेरिका के चर्चित स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से दोगुनी है. सरदार पटेल ने देश को एक सूत्र में पिरोने का काम किया था.

    - खेल जगत में स्पिरिट, स्ट्रेंथ, स्किल, स्टैमिना ये सारी बातें बेहद महत्वपूर्ण हैं. ये किसी खिलाड़ी की सफलता की कसौटी होते हैं और यही चारों गुण किसी राष्ट्र के निर्माण के भी महत्वपूर्ण होते हैं. मुझे जकार्ता में एशियन गेम्स 2018 के हमारे पैरा एथलीटों से मिलने का मौका मिला. इन खेलों में भारत ने कुल 72 मेडल जीते. उनकी दृढ़ इच्छा शक्ति और विपरीत परिस्थितियों से लड़कर आगे बढ़ने का जज्बा हम सभी देशवासियों को प्रेरित करने वाला है.

    सेना से स्‍वच्‍छता अभियान और खादी की खरीद तक, पढ़ें PM के 'मन की बात' की बड़ी बातें

    - पिछले दिनों मैं एक कार्यक्रम में गया था जहां ‘सेल्फ फॉर सोसायटी’ नाम का एक पोर्टल लॉन्च किया गया है. यानी समाज के लिए हम, इस काम के लिए लोगों में जो उत्साह है उसे देखकर हर भारतीय को गर्व महसूस होगा. आईटी से सोसायटी, मैं नहीं हम, अहम् नहीं वयम्, स्व से समष्टि तक की यात्रा की इसमें महक है.

    - आज पूरी दुनिया पर्यावरण संरक्षण की चर्चा कर रही है. लोग बैंलेंस्ड लाइफस्टाइल के लिए नए रास्ते तलाश रहे हैं. प्रकृति के साथ सामंजस्य बनाकर रहना हमारी संस्कृति का हिस्सा रहा है. हमारे आदिवासी बेहद शांति से आपस में मिल जुलकर रहने में यकीन रखते हैं. लेकिन यदि कोई उनके प्राकृतिक संसाधनों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करता है तो वे लड़ने से भी पीछे नहीं हटते हैं. भगवान बिरसा मुंडा को कौन भूल सकता है जिन्होंने अपने जंगल को बचाने के लिए ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ कड़ा संघर्ष किया. आज हमारे पर जो वन संपदा बची है उसके लिए हम अपने आदिवासी भाई-बहनों के ऋणी हैं.

    जब ‘मन की बात’ करते हैं पीएम, तो किसानों की बात सुनने में क्या परेशानी: अजित सिंह

    - जब भी विश्व शांति की बात होगी तब भारत का नाम और योगदान स्वर्ण अक्षरों में अंकित दिखेगा. भारत के लिए 11 नवंबर का दिन बेहद महत्वपूर्ण है. 11 नवंबर को आज से 100 साल पहले प्रथम विश्व युद्ध समाप्त हुआ था. उस दौरान हुए विनाश और जनहानि को एक सदी पूरी हो जाएगी. उस युद्ध में भारत का सीधा कोई लेना-देना नहीं था लेकिन फिर भी हमारे जवान उस युद्ध में लड़े, शहीद हुए. भारतीय जवानों ने दुनिया को दिखलाया कि जब युद्ध की बात आती है तो वह किसी से पीछे नहीं है. हमारे सैनिकों ने दुर्गम क्षेत्रों में उल्लेखनीय शौर्य दिखाया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज