अपना शहर चुनें

States

CAA विरोधी प्रदर्शनों में शामिल होने के चलते 5 विदेशियों को दिया गया देश छोड़ने का आदेश: सरकार

नए नागरिकता कानून को लेकर देश में कई जगहों पर प्रदर्शन हो रहे हैं (सांकेतिक फोटो)
नए नागरिकता कानून को लेकर देश में कई जगहों पर प्रदर्शन हो रहे हैं (सांकेतिक फोटो)

आव्रजन ब्यूरो (BOI) द्वारा दी गई सूचना के अनुसार, सीएए विरोधी प्रदर्शनों (Anti-CAA Protests) में भाग लेकर वीजा नियमों का उल्लंघन (Violation of Visa Rules) करने वाले पांच विदेशी नागरिकों को भारत छोड़ने के लिए कहा गया है.’’

  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने मंगलवार को लोकसभा (Lok Sabha) में बताया कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) विरोधी प्रदर्शनों में भाग लेकर वीजा नियमों (Visa Rules) का उल्लंघन करने वाले पांच विदेशी नागरिकों (Foreign Citizens) को भारत छोड़ने के लिए कहा गया है.

निचले सदन में पीके कुन्हालीकुट्टी और उत्तर कुमार रेड्डी के प्रश्न के लिखित उत्तर में गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय (Minister of State for Home Nityananda Rai) ने कहा, ‘‘किसी कानून के विरूद्ध प्रदर्शनों से संबंधित केंद्रीयकृत आंकड़े नहीं रखे जाते हैं. आव्रजन ब्यूरो (BOI) द्वारा दी गई सूचना के अनुसार, सीएए विरोधी प्रदर्शनों में भाग लेकर वीजा नियमों का उल्लंघन (Violation of Visa Rules) करने वाले पांच विदेशी नागरिकों को भारत छोड़ने के लिए कहा गया है.’’

'केंद्र, राज्य सरकारों के अनुरोध पर उनकी सहायता'
गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि भारत के संविधान की सातवीं अनुसूची (Seventh Schedule of the Constitution of India) के अनुसार ‘लोक व्यवस्था’ और पुलिस’ राज्य के विषय हैं. संबंधित राज्य सरकार, राज्य में कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने एवं कानून तोड़ने वाले लोगों के विरूद्ध कार्रवाई करने के लिए उत्तरदायी है.’’
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार राज्यों में कानून और व्यवस्था (Law and Order) की स्थिति की निगरानी करती है और कानून एवं व्यवस्था की बड़ी समस्या पैदा होने की स्थिति में राज्य सरकारों के अनुरोध पर केंद्रीय सशस्त्र बलों की तैनाती करके राज्य सरकारों की सहायता करती है.



बंगाल के विश्वविद्यालयों में सामने आई थीं ऐसी 2 घटनाएं
इससे पहले आई खबर के मुताबिक जादवपुर यूनिवर्सिटी (Jadavpur University) में पढ़ने वाले पोलैंड (Polish) के एक छात्र को विदेशी नागरिक क्षेत्रीय पंजीकरण कार्यालय (FRRO) ने देश छोड़कर जाने को कहा था. यूनिवर्सिटी के सूत्रों ने बताया था कि कोलकाता में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में निकाली गई रैली में छात्र के हिस्सा लेने के बाद यह कदम उठाया गया.

इस घटना से ठीक पहले विश्व भारती यूनिवर्सिटी की बांग्लादेशी छात्रा को एफआरआरओ ने इसी तरह का निर्देश जारी किया था जब छात्रा ने परिसर में सीएए विरोधी प्रदर्शन की तस्वीरें सोशल मीडिया (Social Media) पर पोस्ट कर दी थीं.

FRRO ने दिया था नोटिस
जादवपुर विश्वविद्यालय के एक सूत्र ने बताया कि तुलनात्मक साहित्य के छात्र पोलैंड (Poland) के कामिल सिएदसिंस्की को एफआरआरओ ने अपने कोलकाता कार्यालय में आने को कहा था और वह 22 फरवरी को गया भी था.

सूत्र ने बताया, ‘सिएदसिंस्की को एफआरआरओ ने एक नोटिस थमा दिया और नोटिस की तारीख से दो हफ्ते के भीतर देश छोड़कर जाने को कहा. छात्र वीजा (Student Visa) पर भारत में रह रहे विदेशी नागरिक के कथित आचरण को अनुचित बताते हुए यह नोटिस दिया गया था.’

(भाषा के इनपुट सहित)

यह भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा मामले में 120 से अधिक FIR दर्ज, पुलिस खंगाल रही CCTV फुटेज- सरकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज