लाइव टीवी

चीन से लौटे 5 लोगों में दिखे कोरोना वायरस के लक्षण, एम्‍स में जांच के लिए भेजे गए नमूने

भाषा
Updated: February 3, 2020, 9:39 PM IST
चीन से लौटे 5 लोगों में दिखे कोरोना वायरस के लक्षण, एम्‍स में जांच के लिए भेजे गए नमूने
चीन से लौटे पांच लोगों को खांसी-जुकाम के लक्षण दिखने के बाद बेहतर इलाज के लिए दिल्ली कैंट के बेस अस्पताल शिफ्ट किया गया है. (Photo/AP)

अधिकारियों ने जानकारी दी कि पांच लोगों के सैंपल लिए जाने के बाद अलग-अलग जांचों के लिए एम्स (AIIMS) भेजा गया है. डॉक्टरों के अनुसार, कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के लक्षण बुखार, सूखी खांसी के साथ सांस लेने में तकलीफ के साथ शुरू होते हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. चीन (China) से भारत (India) लौटे भारतीय नागरिकों में से पांच लोगों में कोरोना वायरस (Corona Virus) जैसे मिलते-जुलते लक्षण देखे जाने के बाद उन्हें दिल्ली कैंट स्थित बेस अस्पताल में भर्ती किया गया है. इन पांच लोगों को खांसी-जुकाम के लक्षण दिखने के बाद बेहतर इलाज के लिए हरियाणा के मानेसर स्थित क्वारंटाइन फैसिलिटी (Manesar Quarantine Facility) से बेस अस्पताल शिफ्ट किया गया है.

अधिकारियों ने जानकारी दी कि पांच लोगों के सैंपल लिए जाने के बाद अलग-अलग जांचों के लिए एम्स (AIIMS) भेजा गया है. डॉक्टरों के अनुसार, कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण बुखार, सूखी खांसी के साथ सांस लेने में तकलीफ के साथ शुरू होते हैं.

केरल में अब तक तीन पॉज़िटिव मामले
वहीं केरल (Kerala) में कोरोना वायरस से प्रभावित चीन से दो हफ्ते पहले लौटे दो लोगों को कफ और सर्दी के लक्षण के कारण यहां के सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल के पृथक वार्ड में भर्ती कराया गया है. यह जानकारी सोमवार को सरकारी अधिकारियों ने दी. अधिकारियों ने बताया कि स्वास्थ्य कर्मी दोनों के घरों में विषाणु की नियमित जांच के लिए पहुंचे और उनमें लक्षण देखते ही उन्हें अस्पताल ले गए. उन्होंने कहा कि रोगियों से लिए गए नमूनों को अलाप्पुझा के राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान में भेजा गया है. भारत में अभी तक कोरोना वायरस के तीन मामले सामने आए हैं और तीनों केरल के हैं.

मंत्रियों ने की बैठक
देश में घातक कोरोना वायरस संक्रमण को काबू में करने के लिए तैयारियों की समीक्षा, निगरानी और मूल्यांकन के लिए गठित एक मंत्रिसमूह की सोमवार को पहली बैठक हुई. मंत्रिसमूह में केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन, हरदीप पुरी, एस जयशंकर, जी किशन रेड्डी, अश्विनी कुमार चौबे और मनसुख लाल मंडाविया शामिल हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि मंत्रियों को कोरोना वायरस के तीन पुष्ट मामलों के बारे में जानकारी दी गई जो केरल से सामने आये हैं. साथ ही मंत्रियों को कोरोना वायरस के मद्देनजर उठाये गए कदमों के बारे में भी अवगत कराया गया.कार्यबल का किया गया गठन
केन्द्रीय मंत्री जी. किशन रेड्डी ने सोमवार को कहा कि कोरोना वायरस के कहर के कारण उत्पन्न स्थिति पर नजर रखने के लिए केन्द्र ने एक कार्यबल का गठन किया है. इस कार्यबल में स्वास्थ्य, गृह, नागरिक विमानन और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के प्रतिनिधि शामिल होंगे.

केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री ने कहा कि जो भारतीय चीन से लौटना चाहते हैं उन्हें वापस लाया जाएगा. उन्होंने कहा, "जो भी भारत लौटना चाहते हैं वे हमारे दूतावास से सम्पर्क करें."

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को अपना यात्रा परामर्श अद्यतन किया और चीन के हुबई प्रांत में फैले घातक कोरोना वायरस के मद्देनजर लोगों से वहां की यात्रा करने से बचने को कहा था. मंत्रालय ने यह भी कहा कि पड़ोसी देशों से लौट रहे लोगों को भी अलग रखा जाएगा.

(भाषा के इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें-
जानलेवा कोरोना वायरस का असर, 30 दिन में चीन के डूबे 30 लाख करोड़ रुपये

चीन में फंसी लड़की ने वीडियो जारी कर मांगी मदद, इसी महीने होनी है शादी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 3, 2020, 8:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर