Home /News /nation /

पीएम किसान सम्मान Vs रायुतु बंधु योजना; तेलंगाना के सीएम RBY पर क्यों लगा रहे बड़ा दांव? 5-प्वाइंट में जानिए

पीएम किसान सम्मान Vs रायुतु बंधु योजना; तेलंगाना के सीएम RBY पर क्यों लगा रहे बड़ा दांव? 5-प्वाइंट में जानिए

तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर ने इन दिनों केंद्र सरकार के खिलाफ विभिन्न दलों काे लामबंद करने में लगे हैं.(फाइल फोटो)

तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर ने इन दिनों केंद्र सरकार के खिलाफ विभिन्न दलों काे लामबंद करने में लगे हैं.(फाइल फोटो)

Rythu Bandhu Scheme and PM-Kisan Samman Nidhi Yojana: तेलंगाना की केसीआर सरकार ने 2018-19 के बजट में ‘रायुतु बंधु’ के लिए 12,000 करोड़ रुपए का बंदोबस्त भी कर दिया. फिर 10 मई 2018 को करीमनगर जिले के धर्मराजपल्ली गांव आरबीएस का विधिवत शुभारंभ भी कर दिया गया. दिसंबर-2018 में ही इसका राजनीतिक प्रभाव भी दिखा, केसीआर की सरकार तीन-चौथाई बहुमत से दोबारा सत्ता में लौटी. इसकी गूंज राष्ट्रीय स्तर तक सुनाई दी और फरवरी-2019 में केंद्र सरकार के अंतरिम बजट में राष्ट्रीय स्तर पर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (PM-Kisan) लागू करने की घोषणा कर दी.

अधिक पढ़ें ...

हैदराबाद. तेलंगाना का बजट आने वाला है. धान की फसल भी आने वाली है. और इन दोनों चीजों का संबंध राज्य सरकार की एक बड़ी योजना है. ‘रायुतु बंधु योजना’ (Rythu Bandhu Scheme-RBS), जिसे तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (Telangana CM KCR) और बड़ा राजनीतिक और कल्याणकारी दांव माना जाता है. कहा जाता है कि इसी के बलबूते केसीआर ने 2018 में बड़ा जोखिम लिया था. समय से पहले विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) कराने का. और इसमें राज्य की 119 विधानसभा सीटों में 88 पर जीत हासिल कर दोबारा सरकार भी बनाई थी. अब ताजा खबर ये है कि तेलंगाना के वित्त मंत्रालय के अधिकारियों मुख्यमंत्री को प्रस्ताव दिया है कि आरबीएस (RBS) के तहत कोई दायरा तय किया जाए. सरकार की ओर से सभी के बजाय सिर्फ छोटे, जरूरतमंद किसानों को ही आरबीएस के तहत वित्तीय मदद देने का बंदोबस्त किया जाए. इससे राज्य पर वित्तीय बोझ कुछ कम हो जाएगा. लेकिन उच्च पदस्थ सूत्र बताते हैं कि केसीआर (KCR) ने यह प्रस्ताव सिरे से खारिज कर दिया है. ऐसे में सवाल उठ सकता है कि आखिर इस योजना में ऐसी क्या खास बात है, जो अब भी केसीआर इस पर बड़ा दांव खेलने के लिए तैयार हैं? और केंद्र सरकार ने भी एक ऐसी ही ‘किसान सम्मान निधि’ (PM-Kisan) योजना लागू की है, उससे यह केसीआर की आबीएस कैसे अलग है?’ 5-प्वाइंट (5-Points Explainer) में जवाब तलाशते हैं.

साल 2018 में केसीआर ने खेला था आरबीएस का दांव

यह 25 फरवरी 2018 की बात है. तेलंगाना के प्रोफेसर जयशंकर राज्य कृषि विश्वविद्यालय में रायुतु समन्वय समिति (Farmers Co-Ordination Committee) का कार्यक्रम था. उसी में केसीआर (KCR) से रायुतु बंधु योजना (RBS) की घोषणा की. इसके कुछ ही दिनों बाद 2018-19 के बजट में केसीआर की सरकार ने ‘रायुतु बंधु’ के लिए 12,000 करोड़ रुपए का बंदोबस्त भी कर दिया. फिर 10 मई 2018 को करीमनगर जिले के धर्मराजपल्ली गांव आरबीएस का विधिवत शुभारंभ भी कर दिया गया. गौर करें कि ये वही साल है, जब केसीआर (KCR) ने समय से पहले तेलंगाना में विधानसभा चुनाव (Telangana Assembly Elections) कराने का फैसला किया था. वैसे, वहां अप्रैल-2019 में लोकसभा चुनाव (Loksabha Assembly Elections) के साथ ही विधानसभा चुनी जानी थी.  

  

आरबीएस की कामयाबी पर सवार पीएम-किसान योजना

Tags: CM KCR, Hindi news live, PM Kisan Samman Nidhi Yojana, Telangana

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर