अपना शहर चुनें

States

इन 5 बातों में छिपा है महाराष्‍ट्र की राजनीति का राज़

महाराष्‍ट्र की राजनीति में हुआ बड़ा फेरबदल.
महाराष्‍ट्र की राजनीति में हुआ बड़ा फेरबदल.

महाराष्‍ट्र (Maharashtra) की जिस राजनीति को कांग्रेस (Congress) पिछले एक पखवाड़े से एक्‍स्‍ट्रा स्‍लो मोशन में चला रही थी, उसी राजनीति को भाजपा (BJP) ने फास्‍ट फॉरवर्ड मोड में चलारकर रातोंरात सत्‍ता का केंद्र बदल दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2019, 11:27 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. शुक्रवार रात को जब लोग आखिरी बार अपने मोबाइल पर खबरें देखकर सोए थे तो यह साफ था कि महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में शिवसेना (Shiv Sena) के नेतृत्‍व में कांग्रेस (Congress) और एनसीपी (NCP) को मिलाकर सरकार बनने वाली है. लेकिन सुबह जब मोबाइल पर खबरों के पहले नोटिफिकेशन आए तो महाराष्‍ट्र में भारतीय जनता पार्टी के देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) मुख्‍यमंत्री और एनसीपी के अजित पवार (Ajit Pawar) उपमुख्‍यमंत्री पद की शपथ ले चुके थे.

महाराष्‍ट्र की जिस राजनीति को कांग्रेस पिछले एक पखवाड़े से एक्‍स्‍ट्रा स्‍लो मोशन में चला रही थी, उसी राजनीति को भाजपा ने फास्‍ट फॉरवर्ड मोड में चलारकर रातोंरात सत्‍ता का केंद्र बदल दिया. इस तेज घनाक्रम के नीचे जरा वे पांच बातें देखें, जहां से लगता है कि महाराष्‍ट्र में वही सब नहीं चल रहा था जो दिख रहा था.

1. महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार बार-बार यही कहते रहे कि राज्‍य की जनता ने बीजेपी और शिवसेना को बहुमत दिया है, जबकि उनके लिए विपक्ष में बैठने का जनादेश है.



2. बातचीत के शुरुआती चरण में जब यह दिखने लगा था कि कांग्रेस और एनसीपी शिवसेना के साथ सरकार बनाने वाले हैं, तब यह खबर आई कि सोनिया गांधी और शरद पवार में फोन पर बातचीत हुई. यह भी कहा गया कि सोनिया इस बात पर चौंक गईं कि शरद पवार ने कहा है कि उनके पास उद्धव ठाकरे का कोई फोन नहीं आया है.
3. बातचीत के बीच शरद पवार ने एक बार कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. दोनों मुलाकात के बाद पवार ने कहा कि राज्‍य के किसानों के हालात पर चर्चा हई है.

4. राज्‍यसभा के 250वें सत्र के मौके पर भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एनसीपी की तारीफ की. संसद में प्रदूषण पर चर्चा के दौरान पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने की पवार की तारीफ.

5. तीनों दलों की बातचीत चलती रही, लेकिन मीडिया के सामने शरद पवार ने एक बार भी यह नहीं कहा कि वे सरकार बनाने की प्रक्रिया में हैं. तीनों दलों के बीच चल रही अंतिम बैठक से अजित पवार बीच में ही उठ कर चले गए और सुबह वह उपमुख्‍यमंत्री पद की शपथ लेते दिखे.

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र में बड़ा राजनीतिक उलटफेर: देवेंद्र फडणवीस ने फिर ली CM पद की शपथ, अजित डिप्टी CM

महाराष्‍ट्र के राजनीतिक घटनाक्रम पर बोले अभिषेक मनु सिंघवी, 'पवार जी तुस्‍सी ग्रेट हो'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज