लाइव टीवी
Elec-widget

गोवा में प्रस्तावित परियोजनाओं के लिए काटने पड़ सकते हैं 50 हजार पेड़

भाषा
Updated: December 3, 2019, 7:43 PM IST
गोवा में प्रस्तावित परियोजनाओं के लिए काटने पड़ सकते हैं 50 हजार पेड़
गोवा में अलग-अलग योजनाओं में 50 हजार पेड़ काटे जा सकते हैं (सांकेतिक फोटो)

गोवा (Goa) के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने बताया कि प्रस्तावित परियोजनाओं (Proposed Projects) से वन्यजीव अभ्यारण्य क्षेत्रों (Wildlife Sanctuary Areas) के प्रभावित होने की संभावना है.

  • Share this:
पणजी. गोवा सरकार (Goa Government) ने ढांचागत क्षेत्र की तीन प्रस्तावित परियोजनाओं (Three Proposed Projects) को पूरा करने के लिए अगर आगे बढ़ने का फैसला किया तो कम से कम 50 हजार पेड़ (Trees) काटने पड़ सकते हैं. यह बात एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को कही.

अधिकारी ने बताया कि गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत (Chief Minister Pramod Sawant) की अध्यक्षता में राज्य वन्यजीव बोर्ड (State Wildlife Board) की सोमवार शाम में इस मुद्दे पर बैठक हुई, लेकिन कोई नीतिगत निर्णय (Policy Decision) नहीं किया जा सका.

'प्रस्तावित परियोजनाओं से वन्यजीव अभ्यारण्य क्षेत्रों के प्रभावित होने की संभावना'
गोवा (Goa) के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने बताया कि प्रस्तावित परियोजनाओं से वन्यजीव अभ्यारण्य क्षेत्रों (Wildlife Sanctuary Areas) के प्रभावित होने की संभावना है.

अधिकारी ने कहा कि परियोजनाओं में दक्षिण गोवा में कैसलरॉक-कॉलेम-मारगाओ पट्टी में दक्षिण-पश्चिम रेल लाइन (South-West Rail Line) के दोहरेकरण, अनमोद-मोलेम सीमा क्षेत्र में 13 किलोमीटर क्षेत्र में राष्ट्रीय राजमार्ग को चार लेन (Four Lane) का करना और मोलेम में भगवान महावीर वन्यजीव अभयारण्य (Bhagwan Mahavir Wildlife Sanctuary) में नयी पारेषण लाइन डालना शामिल है.

'दक्षिण-पश्चिम रेलवे लाइन के दोहरीकरण के लिए काटने होंगे 21 हजार पेड़'
गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने बताया कि दक्षिण-पश्चिम रेलवे लाइन के दोहरीकरण के लिए कम से कम 21 हजार पेड़ काटने पड़ेंगे और 135 एकड़ वन भूमि का अधिग्रहण (Acquisition of Forest Land) करना पड़ेगा.
Loading...

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग (National Highway) को चार लेन का करने के लिए संरक्षित क्षेत्रों (Protected Areas) में और 12,097 पेड़ काटने पड़ेंगे. अधिकारी ने कहा, ‘‘उपरोक्त परियोजना के लिए कुल 33 हेक्टेयर वन एवं गैर वन भूमि क्षेत्रों का इस्तेमाल परिवर्तित करना पड़ेगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘नयी पारेषण लाइनें (New Transmission Lines) डालने के लिए 48 हेक्टेयर वन क्षेत्र पर कम से कम 16 हजार पेड़ काटने पड़ेंगे.’’

यह भी पढ़ें: SPG बिल राज्यसभा में पास: अमित शाह बोले- परिवार के लिए बिल नहीं लाए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 3, 2019, 7:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...