होम /न्यूज /राष्ट्र /मोबाइल उत्पादन, डेटा की खपत और टेक्नोलॉजी; 5G की लॉन्चिंग पर PM मोदी ने क्या-क्या कहा, 10 प्वाइंट में समझें

मोबाइल उत्पादन, डेटा की खपत और टेक्नोलॉजी; 5G की लॉन्चिंग पर PM मोदी ने क्या-क्या कहा, 10 प्वाइंट में समझें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में भारतीय मोबाइल कांग्रेस 2022 में देश में 5G Services की शुरुआत की.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में भारतीय मोबाइल कांग्रेस 2022 में देश में 5G Services की शुरुआत की.

PM Narendra Modi launches the 5G Services: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को देश में 5जी सेवाएं शुरू कीं, जिससे मो ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली: देश में हाई स्पीड इंटरनेट युग की आज से शुरुआत हो गई है. दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित इंडिया मोबाइल कांग्रेस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को देश में 5जी सर्विस की शुरुआत की. जिससे मोबाइल फोन पर अल्ट्रा हाई स्पीड इंटरनेट के युग का आगाज हो गया है. पीएम मोदी ने भारतीय मोबाइल कांग्रेस (आईएमसी) 2022 में चुनिंदा शहरों में 5जी सेवाएं शुरू कीं. ये सेवाएं अगले कुछ वर्षों में धीरे-धीरे देशभर में उपलब्ध करा दी जाएंगी. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि आज भारतवासियों को 5जी के रूप में शानदार गिफ्ट मिला है और डिजिटल इंडिया की तारीफ कर कहा कि इसने सबको एक मंच दिया है. पीएम मोदी मोबाइल उत्पादन से लेकर डेटा की कीमत में कमी को लेकर बहुत सी बातें कीं. जानते हैं 10 प्वाइंट में पीएम मोदी का भाषण…

नया भारत टेक्नोलॉजी का सिर्फ कंज्यूमर बनकर नहीं रहेगा: पीएम मोदी ने कहा कि आज देश की ओर से देश की टेलीकॉम इंडस्ट्री की ओर से 130 करोड़ भारतवासियों को 5G के तौर पर एक शानदार उपहार मिल रहा है. 5G देश के द्वार पर नए दौर की दस्तक है. 5G अवसरों के अनंत आकाश की शुरुआत है. नया भारत टेक्नोलॉजी का सिर्फ कंज्यूमर बनकर नहीं रहेगा बल्कि भारत उस टेक्नोलॉजी के विकास में, उसके इंप्लीमेंटेशन में एक्टिव भूमिका निभाएगा. भविष्य की वायरलेस टेक्नोलॉजी को डिजाइन करने में, उस से जुड़ी मैनुफैक्चरिंग में भारत की बड़ी भूमिका होगी.
डिजिटल इंडिया ने सबको दिया मंच: पीएम मोदी ने कहा कि आज हमारे छोटे व्यापारी हों, छोटे उद्यमी हों, लोकल कलाकार और कारीगर हों, डिजिटल इंडिया ने सबको मंच दिया है, बाजार दिया है. आज आप किसी लोकल मार्केट में या सब्जी मंडी में जाकर देखिए, रेहड़ी-पटरी वाला छोटा दुकानदार भी आपसे कहेगा, कैश नहीं यूपीआई कर दीजिए. ये बदलाव बताता है कि जब सुविधा सुलभ होती है तो सोच किस तरह सशक्त हो जाती है. आज टेलीकॉम सेक्टर में जो क्रांति देश देख रहा है, वह इस बात का सबूत है कि अगर सरकार सही नीयत से काम करे तो नागरिकों के नीयत बदलने में देर नहीं लगती है. हमारी सरकार के प्रयासों से भारत में डेटा की कीमत बहुत कम बनी हुई है. ये बात अलग है कि हमने इसका हल्ला नहीं मचाया, बड़े-बड़े विज्ञापन नहीं दिए. हमने फोकस किया कि कैसे देश के लोगों की सहूलियत बढ़े, ईज ऑफ लिविंग बढ़े.
अब ऐप के जरिए रोज की जरूरत होती है पूरी: पीएम मोदी ने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि एक वक्त था जब इलीट क्लास के कुछ मुट्ठी भर लोग गरीब लोगों की क्षमता पर संदेह करते थे. उन्हें शक था कि गरीब लोग डिजिटल का मतलब भी नहीं समझ पाएंगे. लेकिन मुझे देश के सामान्य मानविकी की समझ पर, उसके विवेक पर, उसके जिज्ञासु मन पर हमेशा भरोसा रहा है. सरकार ने खुद आगे बढ़कर डिजिटल पेमेंट्स का रास्ता आसान बनाया. सरकार ने खुद ऐप के जरिए सिटीजन सेंट्रिक डिलीवरी सर्विस (citizen-centric delivery service) को बढ़ावा दिया. बात चाहे किसानों की हो, या छोटे दुकानदारों की, हमने उन्हें ऐप के जरिए रोज की जरूरतें पूरी करने का रास्ता दिया. हमारे देश की जो ताकत है, इस ताकत को हम नजरअंदाज नहीं कर सकते.
5जी के साथ भारत ने रचा इतिहास: पीएम नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि 2G, 3G, 4G के समय भारत टेक्नोलॉजी के लिए दूसरे देशों पर निर्भर रहा, लेकिन 5G के साथ भारत ने नया इतिहास रच दिया है. 5G के साथ भारत पहली बार टेलीकॉम टेक्नोलॉजी में ग्लोबल स्टैंडर्ड तय कर रहा है, लेकिन डिजिटल इंडिया सिर्फ एक नाम नहीं है, ये देश के विकास का बहुत बड़ा विजन है. इस विजन का लक्ष्य है उस टेक्नोलॉजी को आम लोगों तक पहुंचाना जो लोगों के लिए काम करे, लोगों के साथ जुड़कर काम करे. हमने 4 Pillars पर, चार दिशाओं में एक साथ फोकस किया. पहला-डिवाइस की कीमत, दूसरा-डिजिटल कनेक्टिविटी, तीसरा- डेटा की कीमत और चौथा- डिजिटल फर्स्ट की सोच.
इंटरनेट फॉर ऑल के लक्ष्य पर काम कर रही सरकार: पीएम मोदी ने कहा कि 2014 में जीरो मोबाइल फोन निर्यात करने से लेकर आज हम हजारों करोड़ के मोबाइल फोन निर्यात करने वाले देश बन चुके हैं. स्वाभाविक है इन सारे प्रयासों का प्रभाव डिवाइस की कीमत पर पड़ा है. अब कम कीमत पर हमें ज्यादा फीचर्स भी मिलने लगे हैं. उन्होंने आगे कहा कि जैसे सरकार ने घर-घर बिजली पहुंचाने की मुहिम शुरू की, जैसे हर घर जल अभियान के जरिए हर किसी तक साफ पानी पहुंचाने के मिशन पर काम किया, जैसे उज्जवला योजना के जरिए गरीब से गरीब आदमी के घर में भी गैस सिलेंडर पहुंचाया, वैसे ही हमारी सरकार इंटरनेट फॉर ऑल के लक्ष्य पर काम कर रही है.
पहले मोबाइल आयात करते थे, अब निर्यात: पीएम मोदी ने कहा कि बहुत से लोगों ने आत्मनिर्भर बनने की मेरी बात का मजाक उड़ाया था. 2014 तक हम करीब 100 फीसदी मोबाइल फोन आयात करते थे. इसलिए हमने तय किया कि हम क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनेंगे. हमने मोबाइल मैनुफैक्चरिंग यूनिट को बढ़ाया. 2014 में जहां देश में 2 मोबाइल मैनुफैक्चरिंग यूनिट थे, अब उनकी संख्या 200 के ऊपर है. हमने भारत में मोबाइल फोन के उत्पादन को बढ़ाने के लिए इंसेंटिव दिए, प्राइवेट सेक्टर को बढ़ावा दिया और आज इसी योजना का विस्तार पीएलआई स्कीम में देख रहे हैं. इन प्रयासों का नतीजा बहुत पॉजिटिव रहा. आज भारत मोबाइल फोन के उत्पादन में दुनिया में नंबर 2 पर है. पीएम मोदी ने कहा कि इतना ही नहीं, कल तक जो मोबाइल में आयात करते थे, आज हम दुनिया को भेज रहे हैं. 2014 में जीरो मोबाइल फोन निर्यात करने से लेकर हजारों करोड़ रुपये के मोबाइल फोन निर्यात करने वाले देश बन गए हैं.
25 करोड़ से 85 करोड़ पहुंचे इंटरनेट यूजर्स: पीएम मोदी ने कहा कि आप भी जानते हैं कि कम्युनिकेशन सेक्टर की असली ताकत डिजिटल कनेक्टिविटी है. जितने ज्यादा लोग कनेक्ट होंगे, इस सेक्टर के लिए उतना अच्छा है. अगर हम ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी की बात करें तो 2014 में 6 करोड़ यूजर्स थे, आज इनकी संख्या 80 करोड़ से ज्यादा हो चुकी है. अगर हम इंटरनेट कनेक्शन की बात करें तो 2014 में जहां 25 करोड़ इंटरनेट कनेक्शन थे, वहीं आज इसकी संख्या करीब 85 करोड़ पहुंच गई है. यह बात भी नोट करने वाली है कि आज शहरों में इंटरनेट यूजर के मुकाबले हमारे ग्रामीण इलाकों में इंटरनेट यूजर्स की संख्या तेजी से बढ़ रही है.
पहले डेटा बहुत महंगा, अब काफी सस्ता: पीएम मोदी ने कहा कि ​भारत उन देशों में है, जहां डेटा की कीमत काफी कम है. पहले 1GB डेटा की कीमत लगभग 300 रुपये थी, जो अब घटकर 10 रुपये प्रति GB हो गई है. औसतन, भारत में एक व्यक्ति प्रति माह 14GB डेटा की खपत करता है. इसकी लागत 2014 में लगभग 4200 रुपये प्रति माह होती थी, लेकिन अब यह लागत 125-150 रुपये है. यह हमारी सरकार के प्रयासों के कारण हुआ है. इस तरह से हर महीने चार हजार रुपये बच रहा है. हमारी सरकार के इतने सारे प्रयासों से भारत में डेटा की कीमत कम बनी हुई है.
भारत की शताब्दी होगी: पीएम मोदी ने देश में 5जी सर्विस की लॉन्चिंग के अवसर पर कहा कि डिजिटल इंडिया ने हर नागरिक को एक जगह दी है. यहां तक ​​कि छोटे से छोटे रेहड़ी वाले भी यूपीआई की सुविधा का उपयोग कर रहे हैं. सरकार बिना बिचौलियों के नागरिकों तक पहुंची है. इसका लाभ सीधे लाभार्थियों तक पहुंचा है. प्रौद्योगिकी और दूरसंचार में विकास के साथ, भारत चौथी औद्योगिक क्रांति का नेतृत्व करेगा. यह भारत का दशक नहीं, भारत की शताब्दी होगी.
आज का दिन ऐतिहासिक: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21वीं सदी में 1 अक्टूबर, 2022 को भारत के लिए ऐतिहासिक दिन बताया और कहा कि 5जी तकनीक दूरसंचार क्षेत्र में क्रांति लाएगी. उन्होंने कहा कि आज देश की ओर से, देश की टेलीकॉम इंडस्ट्री की ओर से, 130 करोड़ भारतवासियों को 5G के तौर पर एक शानदार उपहार मिल रहा है. 5G, देश के द्वार पर नए दौर की दस्तक है. 5G, अवसरों के अनंत आकाश की शुरुआत है. मैं प्रत्येक भारतवासी को इसके लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं.

Tags: 5G network, PM Modi

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें