लाइव टीवी

J&K: हिज्बुल कमांडर ज़हूर ठोकर सहित 3 आतंकी ढेर, सेना से झड़प में 7 लोगों की मौत

News18Hindi
Updated: December 15, 2018, 5:26 PM IST

इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर ज़हूर ठोकर सहित तीन आतंकियों को ढेर कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 15, 2018, 5:26 PM IST
  • Share this:
जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच शनिवार सुबह हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर ज़हूर ठोकर सहित तीन आतंकियों को ढेर कर दिया है. इस अभियान में सेना का एक जवान भी शहीद हो गया.

वहीं इस एनकाउंटर के बाद इलाके के युवाओं ने सुरक्षाबलों पर पथराव शुरू कर दिया. इस दौरान सुरक्षाबलों की तरफ से की गई रक्षात्मक फायरिंग में कम से कम सात लोगों की मौत की खबर है. फिलहाल इलाके में इंटरनेद सेवा कर दी गई है और सुरक्षाबल के जवानों ने इलाके को घेर रखा है.

पुलिस ने बताया कि जैसे ही ठोकर के मुठभेड़ में फंसे होने के बारे में खबरें फैली तो लोगों ने मुठभेड़ स्थल पर जुटना शुरू कर दिया. ठोकर इसी गांव का था. अधिकारियों ने बताया कि तीन आतंकवादियों के मारे जाने के साथ ही मुठभेड 25 मिनट में खत्म हो गई, लेकिन सुरक्षाबल तब मुश्किल में पड़ गए जब लोगों ने सेना के वाहनों पर चढ़ना शुरू कर दिया, उन्होंने बताया कि लोगों को चेतावनी देने के लिए हवा में गोलियां भी चलाई गईं, लेकिन उससे भी उग्र भीड़ रुकी नहीं जिससे सुरक्षाबलों को उन पर गोलियां चलानी पड़ी. इस घटना में सात नागरिकों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए, जिनमें एक युवक की हालत गंभीर बताई जा रही है.

ये भी पढ़ें- हिंदू बहुल गांव ने एकमात्र मुस्लिम परिवार के शख्स को चुना अपना पंच

दरअसल सुरक्षाबलों को यहां खारपुरा स्थित सेब के बागान में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी. इस खुफिया सूचना के आधार पर सुरक्षाबलों ने शनिवार सुबह इलाके को घेर कर तलाशी अभियान शुरू किया. इस दौरान आतंकियों ने खुद को घिरा हुआ पाकर फायरिंग शुरू कर दी, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई करते हुए सुरक्षाबल के जवानों ने तीन आतंकियों को मार गिराया.

ये भी पढ़ें- कश्मीर में दिखा सीआरपीएफ का मानवीय चेहरा

मोस्ट वॉन्टेड आतंकी जहूर ठोकर पहले सेना में था और 2016 में आतंक की राह पर चल पड़ा था. ज़हूर अहमद ठोकर सेना की 173 टीए बटालियन में तैनात था. उसने सेना की ट्रेनिंग लेने के बाद कई ऑपरेशन में भाग लिया था, लेकिन एक दिन अचनाक ठोकर अपनी राइफल के साथ कैंप से लापता हो गया. फिर जुलाई में हिज्बुल मुजाहिदीन ने प्रेस रीलीज जारी कर ठोकर के हिज्बुल में शामिल होने की पृष्टि की थी. सूत्रों का कहना है कि ठोकर के पास सेना की कई अहम जानकारियां थी, जिसमें कौन-कौन जवान जम्मू कश्मीर के हैं और वे कश्मीर में किन-किन ओपरेशन मे भाग ले चुके हैं. (भाषा इनपुट के साथ)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 15, 2018, 9:55 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...