Home /News /nation /

6 year old brain dead girl saves 5 lives becomes youngest organ donor at aiims delhi

ब्रेन डेड बच्ची ने अंग दान कर बचाई 5 जिंदगियां, 6 साल की 'रोली' की कहानी ने किया भावुक

6 साल की 'रोली' ने अंग दान कर बचाई 5 जिंदगियां (Image- ANI)

6 साल की 'रोली' ने अंग दान कर बचाई 5 जिंदगियां (Image- ANI)

Organ Donate: दिल्ली के एम्स में एक 6 साल की बच्ची ने पांच लोगों को जिंदगी दी है. इस मासूम बच्ची को नोएडा में अज्ञात हमलावरों ने सिर में गोली मार दी थी. जिसकी वजह से वह कोमा में चली गई थी. काफी कोशिशों के बाद डॉक्टर्स ने उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया था. डॉक्टर्स की टीम रोली के माता-पिता से मिले और अंगदान को लेकर बात की. हमने उन्हें समझाया कि अगर वे अनुमति देते हैं और अंगदान के लिए तैयार हो जाते हैं तो अन्य बच्चों की जान बच सकती है. इसके बाद रोली के पैरेंट्स अंगदान के लिए राजी हो गए.

अधिक पढ़ें ...

दिल्ली: एम्स (Delhi AIIMS) में एक 6 साल की बच्ची ने पांच लोगों को जिंदगी दी है. इसके साथ ही रोली प्रजापति दिल्ली एम्स के इतिहास में अंग दान करने वाली सबसे कम उम्र (Youngest Organ Donor) की बच्ची बन गई. इस मासूम बच्ची को नोएडा में अज्ञात हमलावरों ने सिर में गोली मार दी थी. जिसकी वजह से वह कोमा में चली गई थी. काफी कोशिशों के बाद डॉक्टर्स ने उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया था. इसके बाद रोली के माता-पिता ने अपनी बेटी के अंगों को दान करने का फैसला लिया.

एम्स के सीनियर न्यूरो सर्जन डॉ दीपक गुप्ता ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा कि, 27 अप्रैल को साढ़े 6 साल की रोली को अस्पताल लाया गया था उसके सिर में गोली लगी हुई थी और पूरा हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया था. वह ब्रेन डेड की हालत में अस्पताल पहुंची थी. इसके बाद हमने उसका इलाज शुरू किया.

डॉ दीपक गुप्ता ने बताया कि, इस दौरान हमारे डॉक्टर्स की टीम रोली के माता-पिता से मिले और अंगदान को लेकर बात की. हमने उन्हें समझाया कि अगर वे अनुमति देते हैं और अंगदान के लिए तैयार हो जाते हैं तो अन्य बच्चों की जान बच सकती है. इसके बाद रोली के पैरेंट्स अंगदान के लिए राजी हो गए और बच्ची का लिवर, किडनी, कॉर्निया और हार्ट वाल्व जैसे 5 अंग दान कर दिए गए.

3 बार के MLA ने अंगदान का लिया फैसला तो पत्नी ने कहा- पहले मैं करूंगी दान

अपनी मासूम बच्ची के अंगदान के फैसले को लेकर एम्स के डॉक्टर्स ने रोली के माता-पिता की सराहना की. न्यूरोसर्जन डॉ दीपक गुप्ता ने कहा कि, अंगदान के बारे में जानते हुए यह फैसला लिया. वे जिंदगी बचाने के महत्व को समझते हैं.

अपनी बेटी के अंगदान के बारे में एएनआई से बात करते हुए रोली के पिता हर नारायण प्रजापति ने कहा कि, डॉ दीपक गुप्ता ने हमें अंगदान के बारे में बताया और कहा कि हमारी बच्ची अन्य लोगों की जान बचा सकती है. फिर हमने इस बारे में सोचा और तय किया कि वह दूसरे बच्चों में जीवित रहेगी और उनकी मुस्कान का कारण बनेगी. वहीं रोली की मां ने भावुक होते हुए कहा कि, उनकी बेटी भले ही चली गई हो लेकिन वह दूसरों को जिंदगी देने में कामयाब रही.

Tags: AIIMS, Organ Donation

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर