लाइव टीवी

कश्मीर: 68 दिन बाद पोस्ट पेड मोबाइल नंबरों पर दोबारा शुरू होगी सेवा

News18Hindi
Updated: October 11, 2019, 3:56 PM IST
कश्मीर: 68 दिन बाद पोस्ट पेड मोबाइल नंबरों पर दोबारा शुरू होगी सेवा
घाटी में करीब 68 लाख मोबाइल ग्राहक हैं. (News18 Creative by Mir Suhail)

5 अगस्त को केंद्र सरकार की ओर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही संचार की सभी सेवाएं रद्द कर दी गई थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2019, 3:56 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu kashmir) से अनुच्छेद 370 को खत्म करने और राज्य को केंद्र शासित प्रदेश बनाने के 68 दिन बाद पोस्टपेड मोबाइल सेवाएं शनिवार से शुरु हो सकती हैं. अधिकारियों ने यह स्पष्ट किया कि घाटी में ग्राहकों को इंटरनेट सेवाओं के दोबारा शुरू होने के लिए कुछ और समय तक इंतजार करना होगा.

अधिकारियों ने कहा कि निर्णय लिया गया है कि शुरुआत में पोस्ट-पेड मोबाइल सेवाओं को  शुरू किया जाएगा और फिर प्री-पेड सेवाओं को फिर से शुरू किया जाएगा. उन्होंने यह भी जोर दिया है कि पोस्ट-पेड मोबाइल सेवाओं के लिए ग्राहक का उचित सत्यापन किया जाए.

लगभग 66 लाख मोबाइल ग्राहक 
घाटी में लगभग 66 लाख मोबाइल ग्राहक हैं, जिनमें से लगभग 40 लाख ग्राहकों के पास पोस्ट-पेड सुविधाएं हैं. केंद्र द्वारा पर्यटकों के लिए घाटी खोलने की सलाह जारी करने के दो दिन बाद यह कदम उठाया गया.

ट्रैवल एसोसिएशन ने प्रशासन से संपर्क किया था, जिसमें कहा गया था कि जहाँ कोई भी मोबाइल फोन काम न करे वहां कोई भी पर्यटक नहीं आना चाहेगा.

 5 अगस्त को मोबाइल सेवाएं बंद कर दी गईं
केंद्र द्वारा संविधान के अनुच्छेद  370 के प्रावधानों को रद्द करने के बाद बाद 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर में मोबाइल सेवाएं बंद कर दी गईं थी.
Loading...

घाटी में 17 अगस्त को आंशिक फिक्स्ड लाइन टेलीफोन को फिर से शुरू किया गया था और 4 सितंबर तक लगभग 50,000 की संख्या वाली सभी लैंडलाइनों को चालू घोषित कर दिया गया था.

जम्मू में, नाकाबंदी के दिनों के भीतर संचार प्रणाली को बहाल कर दिया गया था और यहां तक ​​कि मोबाइल इंटरनेट भी अगस्त के मध्य में शुरू किया गया था. हालांकि, इसके दुरुपयोग के बाद, 18 अगस्त को सेलुलर फोन पर इंटरनेट की सुविधा छिन गई थी.

यह भी पढ़ें:  जम्मू कश्मीर: जल्द रिहा किए जाएंगे शाह फैजल,राजनीति छोड़कर जा सकते हैं अमेरिका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 3:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...