होम /न्यूज /राष्ट्र /

मास्क पहनने को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी ये हिदायत, जानना जरूरी

मास्क पहनने को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी ये हिदायत, जानना जरूरी

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना समीक्षा बैठक में कोरोना वॉरियर्स को वीआईपी बताते हुए उन्हें इस लड़ाई में हर संभव सहूलियत देने की बात कही (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना समीक्षा बैठक में कोरोना वॉरियर्स को वीआईपी बताते हुए उन्हें इस लड़ाई में हर संभव सहूलियत देने की बात कही (प्रतीकात्मक तस्वीर)

ये राज्य हैं महाराष्ट्र (Maharashtra), आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh), कर्नाटक (Karnataka), उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) और तमिलनाडु (Tamilnadu). मंत्रालय (Health Ministry) द्वारा दिए गए आंकड़ों के मुताबिक प्रति दस लाख आबादी में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2792 है.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :
    नई दिल्ली. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने गुरुवार को बताया कि कोरोना (Covid-19) की वजह से 70 प्रतिशत मौतें (70 Per cent death) सिर्फ पांच राज्यों में हुई हैं. ये राज्य हैं महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु. मंत्रालय द्वारा दिए गए आंकड़ों के मुताबिक प्रति दस लाख आबादी में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2792 है. भारत उन देशों में शुमार है, जहां यह दर सबसे कम है. देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से उबर चुके लोगों की संख्या मौजूदा रोगियों की संख्या की तुलना में 3.6 गुना अधिक है.

    कितने महीने तक शरीर में रहती है एंटी बॉडी
    कोविड संक्रमण के बाद शरीर में बनने वाले एंडीबॉडीज को लेकर मंत्रालय ने कहा है कि विभिन्न रिपोर्ट्स में इसका असर 6 महीने से एक साल तक रहने की बातें कही गई हैं. वहीं मास्क को लेकर कहा गया है कि अगर आप अकेले अपनी निजी कार या वाहन चला रहे हैं तो मास्क की जरूरत नहीं है. अगर कार के भीतर आपके के साथ और भी लोग मौजूद हैं तो मास्क पहना जा सकता है. ग्रुप फिजिकल एक्टिविटी के दौरान भी मास्क पहनने की सलाह दी गई है.

    आंकड़ा 38 लाख के पार हो चुका है
    गौरतलब है कि भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या का आंकड़ा 38 लाख के पार हो चुका है. हालांकि रिकवर करने वालों की संख्या भी करीब 30 लाख के पास पहुंच चुकी है. एक्टिव केस की संख्या 815538 है जबकि अब तक 67376 लोग जान गंवा चुके हैं.

    साल के अंत या अगले साल की शुरुआत में हो सकती है वैक्सीन मिलने की संभावना
    गौरतलब है कि एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा था कि राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना वायरस के सामुदायिक प्रसार के कोई ज्यादा साक्ष्य नहीं हैं, लेकिन ‘हॉटस्पॉट हैं, उन शहरों में भी जहां मामलों में वृद्धि हो रही है, ऐसी संभावना है कि उन क्षेत्रों में स्थानीय प्रसार हो रहा है.’ यह पूछे जाने पर कि टीका कब उपलब्ध होगा, गुलेरिया ने कहा कि यह इस बात पर निर्भर करेगा कि हर चीज सही ढंग से काम करे. उन्होंने कहा, ‘संभव है कि हम कहें कि टीका सुरक्षित है और फिर हमें पता चले कि यह ज्यादा प्रभाव नहीं दे रहा तो हमें कुछ और अधिक करना होगा जिसमें कुछ महीने लग सकते हैं.’

    Tags: COVID 19, COVID-19 pandemic, Health Minister Harsh Vardhan, Health ministry

    अगली ख़बर