कोविड-19 खत्म करने के लिए पुजारी ने दी मानव बलि, लेकिन...

कोविड-19 खत्म करने के लिए पुजारी ने दी मानव बलि, लेकिन...
'सपने में देवी का आदेश मिलने के बाद' कोविड-19 वैश्विक महामारी खत्म करने के लिए मानव बलि दी है.

पुलिस के अनुसार आरोपी संसारी ओझा ने शुरू में दावा किया था कि उसने 'सपने में देवी का आदेश मिलने के बाद' कोविड-19 वैश्विक महामारी खत्म करने के लिए मानव बलि दी है.

  • Share this:
भुवनेश्वर/कटक. ओडिशा (Odisha) के कटक जिले में 72 वर्षीय एक पुजारी ने मंदिर परिसर में 52 वर्षीय एक व्यक्ति की कथित रूप से सिर काटकर हत्या कर दी. पुलिस ने बताया कि पीड़ित ने कथित तौर पर पुजारी का खाना खा लिया था, जिससे पहले दोनों ने साथ में गांजा का सेवन किया था.

पुलिस के अनुसार आरोपी संसारी ओझा ने शुरू में दावा किया था कि उसने 'सपने में देवी का आदेश मिलने के बाद' कोविड-19 वैश्विक महामारी खत्म करने के लिए मानव बलि दी है. हालांकि, कटक (ग्रामीण) के पुलिस अधीक्षक आर बी पाणिग्रही ने बताया कि पूछताछ के दौरान आरोपी ने कबूल किया कि उसने सरोज कुमार प्रधान को गुस्से में आकर मार दिया क्योंकि प्रधान ने उसका खाना खा लिया था.

पुलिस ने कहा नहीं है मानव बलि का मामला
एसपी ने बताया कि दोनों ने इससे पहले साथ में गांजा का सेवन किया था. पाणिग्रही ने कहा कि घटना नरसिंहपुर थाना क्षेत्र के बांधाहुड़ा गांव के ब्राह्मणी देवी मंदिर में बुधवार रात को घटी जिसके बाद ओझा ने पुलिस के समक्ष आत्म-समर्पण कर दिया. उन्होंने कटक से करीब 100 किलोमीटर दूर गांव का दौरा करने के बाद कहा, ‘‘यह कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए मानव बलि का मामला नहीं है.’’
अक्सर होती थी दोनों में लड़ाई


एक ही गांव के रहने वाले ओझा और प्रधान के बीच पुराना विवाद था और दोनों को गांजे की लत थी. एसपी ने बताया कि दोनों छोटे-मोटे मुद्दों पर अक्सर लड़ लेते थे. अधिकारी के अनुसार आरोपी पुजारी अपने परिवार को छोड़ चुका था और उसके बाद से मंदिर परिसर के तहखाने में रहता था, वहीं अविवाहित प्रधान अक्सर रात में मंदिर आता था और ओझा के साथ रुक जाता था.

लंबे समय से चल रहा था विवाद
उन्होंने कहा, ‘‘बुधवार रात को जब प्रधान ने ओझा का खाना खा लिया, तो दोनों में झगड़ा हो गया.’’ पाणिग्रही ने बताया कि ओझा ने गुस्से में आकर पास में पड़ा धारदार हथियार उठा लिया और प्रधान का सिर काट दिया. उन्होंने बताया कि हत्या करने के बाद वह आधी रात के करीब थाने पहुंचा और कई कहानियां सुनाने के बाद इस बात का खुलासा कर दिया कि उसने गुस्से में आकर एक व्यक्ति की हत्या कर दी है. एसपी ने कहा कि इलाके के लोगों का दावा है कि ओझा का गांव में आम के एक बाग को लेकर भी प्रधान से लंबे समय से विवाद चल रहा था. अधिकारी ने बताया कि हत्या में इस्तेमाल हथियार को जब्त कर लिया गया है तथा कटे हुए सिर और धड़ को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है.

ये भी पढ़ेंः-

कोरोना के बाद भारत में इस रहस्यमय बीमारी ने दी दस्तक, बच्चों को है ज्यादा खतरा, जानें इसके लक्षण

कोरोना की 'संजीवनी बूटी' बनीं ये 5 दवाइयां, दुनिया भर में ठीक हो रहे मरीज

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज