ममता से नाराज कोलकाता के 96 डॉक्टरों ने दिया सामूहिक इस्तीफा

पश्चिम बंगाल में हड़ताल पर बैठे डॉक्टरों में से 80 ने बड़ा कदम उठाते हुए इस्तीफा दे दिया है.

News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 2:02 PM IST
News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 2:02 PM IST
पश्चिम बंगाल में अलग-अलग अस्पतालों के 96 डॉक्टरों ने इस्तीफा दे दिया. कोलकाता के एनआरएस मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में दो जूनियर डॉक्टरों पर हमला होने और उनके गंभीर रूप से घायल होने के बाद पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टर मंगलवार से हड़ताल पर हैं.

वहीं राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी शुक्रवार को निजी और सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाएं प्रभावित रहीं. क्योंकि बड़ी संख्या में डॉक्टरों ने कोलकाता में प्रदर्शन कर रहे अपने साथियों के साथ एकजुटता दिखाते हुए एक दिन काम का बहिष्कार करने का फैसला किया था.



ममता बनर्जी के बयान से नाराज
मिली जानकारी के अनुसार डॉक्टर, राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बयान से नाराज हैं. डॉक्टरों की मांग है कि ममता बनर्जी अपने बयान के लिए माफी मांगे. इस्तीफा देने वाले डॉक्टरों में 80 कोलकाता के आरजीआर मेडिकल कॉलेज से संबद्ध हैं. कोलकाता में शुक्रवार को हड़ताल का पांचवां दिन था. जूनियर डॉक्टर, मारपीट का विरोध करते हुए सरकार से सुरक्षा की मांग कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें:  'हम डॉक्टर हैं, देव नहीं', संदेश के साथ डॉक्टरों का प्रदर्शनममता से माफी की मांग

ममता से माफी की मांग
News18 India संवाददाता ने बताया कि डॉक्टरों की मांग है कि जब तक ममता उनके धरना स्थल पर आकर माफी नहीं मांगतीं तब तक वह धरने से नहीं हटेंगे.
Loading...

एनआरएस मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में एक मरीज की मौत के बाद दो जूनियर डॉक्टरों पर हमला करने और उनके गंभीर रूप से घायल होने के बाद जूनियर डॉक्टर्स मंगलवार से सरकारी अस्पतालों में खुद की सुरक्षा की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं.



समाचार एजेंसी ANI के अनुसार आरजी कर मेडिकल कॉलेज एंड हास्पिटल, कोलकाता के 16 डॉक्टरों ने इस्तीफा दे दिया. इसके बाद डॉक्टरों के इस्तीफे की संख्या बढ़कर 96 हो गई है.

यह भी पढ़ें:  कोई हेलमेट लगाकर देख रहा मरीज तो किसी ने सिर पर बांधी पट्टी

डॉक्टर का आरोप- ममता ने दी धमकी
डॉक्टर अरिंदम दत्ता  ने बताया, 'मुख्यमंत्री ने जिस तरीके से जूनियर डॉक्टरों को धमकी दी है वह अप्रत्याशित है... यह हमारे समुदाय का अपमान है. हम इसकी निंदा करते हैं... उन्होंने कल जो कहा इसके लिए उन्हें माफी मांगनी चाहिए.'

राज्य के कई हिस्सों में चिकित्सा सेवाओं के बाधित होने के मद्देनजर गुरुवार को राजकीय एसएसकेएम अस्पताल का दौरा करने वाली बनर्जी ने डॉक्टरों को चेतावनी दी कि अगर वे काम पर नहीं आएंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

यह भी पढ़ें:  डॉक्टरों की हड़ताल: सैकड़ों सर्जरी रद्द, इमरजेंसी सेवा जारी
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...