लाइव टीवी

87% पाकिस्तानी ज़मीन भारत की नज़र में, एयर स्ट्राइक के लिए ISRO ने दी थीं तस्वीरें

News18Hindi
Updated: February 28, 2019, 6:19 PM IST
87% पाकिस्तानी ज़मीन भारत की नज़र में, एयर स्ट्राइक के लिए ISRO ने दी थीं तस्वीरें
प्रतीकात्मक तस्वीर

गृह मंत्रालय के लिए इसरो के एक खास उपग्रह लॉंच करने के बाद भारत की ताकत और बढ़ जाएगी. भारत अब भी अंतरिक्ष में पाकिस्तान से काफी आगे है. पिछली सर्जिकल स्ट्राइक की तरह इसका फायदा इस एयर स्ट्राइक में भी हुआ.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2019, 6:19 PM IST
  • Share this:
भारतीय सेना आसमानी जंग में पाकिस्तान से आगे है ही, इसके साथ ही अंतरिक्ष की जंग में भी आगे है और युद्ध के हालात में निश्चित तौर पर इसका फायदा भारत को मिल सकता है. पहले की ही तरह हाल में हुए बालाकोट हमले में भी भारत को अंतरिक्ष में स्थित अपने उपग्रहों के ज़रिये बड़ी मदद मिली.

इसी साल जनवरी में आई खबरों के मुताबिक यह तय किया गया था कि गृह मंत्रालय के लिए इसरो एक खास उपग्रह लॉंच करने वाला है, जिसके ज़रिये भारत के पड़ोसी देशों की ज़मीन और सीमाओं की निगरानी सुनिश्चित की जा सकेगी. इस उपग्रह के माध्यम से ज़मीनी ढांचों, रास्तों और हर तरह के इन्फ्रास्ट्रक्चर की तस्वीरें मिलने की बात कही गई है. इस उपग्रह के बाद भारत के पास रणनीति, युद्धनीति और निगरानी के लिए पूरा रोडमैप तैयार करने में साफ तौर पर बड़ी मदद होगी.

अंतरिक्ष में भारत का जितना दबदबा अभी है, उसके ज़रिये फिलहाल भारत सीमाओं या पड़ोसी देशों की ज़मीन पर पूरी निगरानी रख पाने में ज़रूर सक्षम नहीं है लेकिन इसके बावजूद पाकिस्तान के तीन चौथाई से ज़्यादा लैंड एरिया पर भारत सर्विलांस करने की स्थिति में है.

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक पिछले दिनों पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित जैश ए मोहम्मद के ठिकानों पर की गई एयर स्ट्राइक में भी इसरो के उपग्रहों की मदद से योजना तैयार की गई थी. इसरो के उपग्रहों की मदद से पाकिस्तान के कुल क्षेत्रफल 8.8 लाख वर्ग किलोमीटर में से 7.7 लाख वर्ग किलोमीटर पर भारत नज़र रखने की स्थिति में है यानी 87 फीसदी पाकिस्तानी ज़मीन भारत की निगरानी में है.



टीओआई की एक रिपोर्ट में इसरो के सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि सिर्फ पाकिस्तान ही नहीं, बल्कि भारत अपने पड़ोसी 14 देशों की ज़मीनों पर नज़र रखने की स्थिति में है. अपने उपग्रहों की मदद से 14 देशों के करीब 55 लाख वर्ग किलोमीटर के एरिया की हाई रिज़ॉल्यूशन वाली तस्वीरें भारत को मिल रही हैं. लेकिन, चीन की ज़मीन के बारे में अब भी भारत के पास खास डिटेल्स नहीं हैं.

सेना के लिए इसरो की ये महत्वपूर्ण मदद कार्टोसेट उपग्रहों में शामिल जीसैट-7, जीसैट-7ए सहित माइक्रोसैट, रीसैट और हाइपर स्पैक्ट्रल इमेजिंग सैटेलाइट जैसे उपग्रहों के ज़रिये मुहैया हो पा रही है. भारतीय वायु सेना पहले भी कह चुकी है कि उसे और उपग्रहों की दरकार है लेकिन साथ ही यह भी मान चुकी है कि एयरफोर्स के साथ ही भारतीय सेनाओं के 70 फीसदी से ज़्यादा ज़रूरत की पूर्ति वर्तमान उपग्रहों से हो रही है.

वहीं, चीन की मदद से पाकिस्तान अपने उपग्रहों को लॉंच करता रहा है. पिछले साल आई खबरों के मुताबिक चीन के ज़रिये पाकिस्तान ने दो जासूसी उपग्रह लॉंच किए थे जिनके ज़रिये वह भारत की ज़मीन पर नज़र रखने की कोशिश में है. लैंड सर्वे, मॉनी​टरिंग के लिहाज़ से पाकिस्तान ने रिमोट सेंसिंग उपग्रह लॉंच करवाए थे लेकिन इसके बावजूद भारत की तुलना में पाकिस्तान अंतरिक्ष में काफी पीछे है और उपग्रहों की जितनी मदद भारतीय सेना के पास है, उतनी पाकिस्तान के पास नहीं.

गौरतलब है कि सितंबर 2016 में एलओसी पर भारत ने जिस सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था, उसकी रणनीति बनाने के लिए भी इसरो ने ही अच्छी क्वालिटी की तस्वीरें खास तौर से भारतीय आर्मी को मुहैया करवाई थीं. इसके बाद से ही इसरो भारतीय सेना के लिए लगातार हालात बेहतर कर रहा है. 2017 में इसरो ने कार्टोसेट 2ई सीरीज़ के उपग्रह लॉंच किए थे और 2018 में भी सैटेलाइट्स लॉंच की गई थीं. इस साल भी खास उपग्रह लॉंच किए जाने वाले हैं.

ये भी पढ़ें- 

'पाकिस्तान में सिर्फ अभिनंदन ही नहीं ये एयर फोर्स अफसर भी हैं, लेकिन पाक कर रहा इनकार'
'पाकिस्तान को खुश होना चाहिए कि हम उसे आतंकवाद मुक्त बना रहे हैं'
Air strike: 3 विमान भरते हैं उड़ानएक गिराता है बम, 2 ऐसे करते हैं दुश्मन से रक्षा
एयर स्ट्राइक: ये हैं वो चार खास पॉइंट जिस पर टिकी होती एयर स्ट्राइक
एयर स्ट्राइक: इसलिए कारगिल के बाद एयर स्ट्राइक में मिराज एयरक्राफ्ट का हुआ इस्तेमाल 

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 28, 2019, 5:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर