Home /News /nation /

न किसी को ATM कार्ड दिया, न OTP बताया फिर भी 88 लोगों के अकाउंट हुए खाली

न किसी को ATM कार्ड दिया, न OTP बताया फिर भी 88 लोगों के अकाउंट हुए खाली

फाइल फोटो.

फाइल फोटो.

88 पीड़ित थाने के चक्कर लगा चुके हैं. लेकिन अपराधी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है. पुलिस की साइबर सेल दिन-रात इस अपराधी के पीछे पड़ी हुई है.

    दिल्ली वेस्ट में तिलक नगर थाने के पुलिसकर्मी आजकल एफआईआर लिख-लिखकर परेशान हैं. इस इलाके के 88 लोगों की शिकायत है कि न तो उन्होंने कहीं ATM कार्ड इस्तेमाल किया और न ही किसी को भी OTP नंबर बताया लेकिन फिर भी उनके अकाउंट से पैसे निकाल लिए गए हैं.

    मिली जानकारी के मुताबिक इसी अपराध में पिछले 10 दिन के अन्दर एक ही थाने में करीब 88 एफआईआर दर्ज हो चुकी हैं. पुलिस की साइबर सेल दिन-रात इस अपराधी या गैंग की तलाश कर रही है.

    क्या है मामला?

    मामला कुछ ये है कि तिलक नगर थाना क्षेत्र में रहने वाले लोगों ने शिकायत दर्ज कराई है कि उनका एटीएम कार्ड उनके पास था. कार्ड से कहीं कोई लेन-देन नहीं किया, कोई अनजानी कॉल नहीं आई और न किसी को ओटीपी बताया बावजूद इसके उनके अकाउंट से रुपये निकाल लिए गए. थाने में दर्ज रिकार्ड के अनुसार 88 लोगों के खाते से करीब 19 लाख रुपये निकाल लिए गए हैं. और ठगी का पता तब चलता है जब बैंक से मैसेज आता है.

    ये सभी घटनाएं अलग-अलग बैंक के एटीएम कार्ड धारकों के साथ हुई हैं. पुलिस भी हैरान है कि अपराधी एक के बाद एक घटनाओं को अंजाम दिए जा रहा है. गौरतलब रहे कि दो दिन पहले इसी तरह की ठगी के मामले में मेरठ पुलिस ने दिल्ली में पटलू गैंग के होने का दावा किया था.

    20 से 75 हजार रुपये की निकाली रकम

    जानकारों के अनुसार 88 लोगों में आधा दर्जन से अधिक ऐसे लोग हैं, जिनके अकाउंट से 50 हजार की रकम निकाली गई जबकि तीन-चार लोग ऐसे हैं, जिनके अकाउंट से 75-75 हजार रुपये निकाल लिए गए. कुछ ऐसे भी पीड़ित हैं जिनकी रकम 50 हजार से 75 हजार के बीच निकली है। सबसे ज्यादा तादाद उन बैंक अकाउंट होल्डरों की है, जिनके 15 से 50 हजार के बीच निकाले गए हैं.

    घटना अलग-अलग लेकिन तरीका एक

    88 अलग-अलग लोगों के साथ हुई इस ठगी में एक चीज एक जैसी है कि ठगने का तरीका एक जैसा ही है. सबके पास अपना कार्ड मौजूद था. किसी ने भी कार्ड से कोई लेन-देन नहीं किया. कहीं कोई ओटीपी और पिन नम्बर नहीं बताया. किसी दूसरे से कार्ड की जानकारी भी साझा नहीं की. लेकिन इसके बाद भी किसी के कम तो किसी के ज्यादा रुपये अकाउंट से निकल गए.

    कार्ड को ठगी से कैसे बचाएं

    आईटी एक्सपर्ट यश कुशवाह बताते हैं कि होता ये है कि अक्सर बहुत सारे यूजर अपने कार्ड की जानकारी को किसी ऐसी बेवसाइट पर सेव कर लेते हैं जिसे वो अक्सर इस्तेमाल करते हैं. बस इसी का फायदा हैकर उठाते हैं. इसलिए ध्यान रहे कि कभी भी आप अपने कार्ड की जानकारी किसी भी साइट और अपने फोन में सेव न करें. दूसरा ये कि एटीएम में हैकर डेटा स्कीमिंग डिवाइस लगा देते हैं और जब यूजर अपना कार्ड स्वाइप करता है तो उनकी पूरी जानकारी कॉपी कर ली जाती है. पब्लिक प्लेस के वाइ-फाइ से अपने फोन को कनेक्ट करके ऑनलाइन पेमेंट से बचें.

    इसलिए पुलिस तुरंत दर्ज नहीं करती है रेप की एफआईआर

    सिगरेट और सीरिंज में दिल्ली-नोएडा के कॉलेजों तक पहुंचा स्यूडोएफिड्रिन!

    NCB को ऐसे मिली थी नोएडा में आईपीएस के घर करोड़ों के ड्रग्स कारोबार की सूचना
    आईपीएस के घर में बन रहा था नशे का सामान, 1818 किलो ड्रग्स बरामद 

    समारोह में दादी ने पिस्टल से चलाई 5 गोलियां, नाती को लगी
    दिल्ली से एग्जाम देने फ्लाइट से मणिपुर जाएगा जेल में बंद ये कैदी

    Tags: ATM security, Cyber Crime, Delhi police, Online fraud

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर