लाइव टीवी

तेलंगाना: कुएं से मिले 9 शव, सबने बच्ची के जन्मदिन पर साथ खाना खाया और...

News18Hindi
Updated: May 23, 2020, 4:55 PM IST
तेलंगाना: कुएं से मिले 9 शव, सबने बच्ची के जन्मदिन पर साथ खाना खाया और...
पुलिस को वारंगल में एक कुएं से 9 लोगों के शव मिले हैं (सांकेतिक फोटो)

तेलंगाना (Telangana) के वारंगल (Warangal) में पुलिस ने पहले गुरुवार को कुएं से 4 शव बरामद किये. बाद में 5 और शव (dead bodies) कुएं से शुक्रवार को निकाले गये.

  • Share this:
हैदराबाद. तेलंगाना (Telangana)  में एक ही कुएं से 9 लोगों के शव मिले है. पुलिस इस दिल दहलाने वाले मामले की गुत्थी में उलझ गई है. उसे यह समझ नहीं आ रहा है कि यह सामूहिक हत्या का केस है या खुदकुशी का. तेलंगाना पुलिस (Police) ने बताया कि वारंगल ग्रामीण जिले में एक कुएं से मिले शवों में से छह एक ही परिवार के हैं. बाकी 3 शवों में से 2 बिहार (Bihar) और एक त्रिपुरा (Tripura) के निवासी का है.

पुलिस (Police) ने पहले गुरुवार को कुएं से 4 शव बरामद किये. बाद में 5 और शव कुएं से शुक्रवार को निकाले गये. शवों पर कोई चोट के निशान नहीं हैं. वारंगल पुलिस के प्रमुख वी. रविंदर ने कहा कि संदिग्ध मौत का मामला दर्ज किया गया है और जांचकर्ता इस पड़ताल में जुटे हैं कि यह आत्महत्या (Suicide) है या हत्या.

सभी मजदूरों ने एक मजदूर की बेटी के साथ जन्मदिन पर किया था भोजन
कुएं का पानी अब निकाल दिया गया है. अधिकारियों ने कहा कि मृत पाए गए लोगों में से सात बोरा-सिलाई इकाई में काम करते थे. कहा जा रहा है कि सभी ने एक मजदूर की बेटी के तीसरे जन्मदिन पर एक साथ भोजन किया था, उसकी भी मौत हो गई.



राज्य के पंचायती राज मंत्री एर्राबेल्ली दयाकर राव ने उस अस्पताल का दौरा किया, जहां शवों का रखा गया है. उन्होंने कहा कि जो कुछ हुआ है, उसकी अच्छी समझ बन पाने के बाद ही कार्रवाई की जाएगी.



पुलिस के मानना पोस्टमार्टम के बाद ही सामने आएगी असली वजह
पुलिस ने पहले कहा था कि उन्हें शक है कि यह आत्महत्या का मामला है. लेकिन शरीर में कोई बाहरी हिस्से पर कोई चोट नहीं होने से, मौत की वजह पोस्टमार्टम के नतीजे सामने आने के बाद ही पता चलेगी. मंत्री एर्राबेल्ली दयाकर राव ने कहा, यदि मृतकों के परिवार चाहेंगे तो राज्य सरकार वारंगल में उनका अंतिम संस्कार करेगी या शवों को उनके गांवों में भेजने की व्यवस्था करेगी.

मृत पाये गये परिवार के मुखिया एक 48 वर्षीय व्यक्ति थे जो 20 साल पहले पश्चिम बंगाल (West Bengal) से पलायन कर यहां आये थे और वारंगल ग्रामीण में बस गये थे. पुलिस सूत्रों ने बताया कि उनका परिवार यूनिट के परिसर में दो कमरों में रह रहा था.

यह भी पढ़ें: बीजिंग का वो खूनी चौक, जहां हजारों प्रदर्शनकारियों को गोलियों से भून दिया गया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2020, 4:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading