सर्वे में खुलासाः एक साल में सड़क हादसों में हुई 9400 बच्चों की मौत

दिल्ली, मुंबई, जयपुर, कोलकाता, लखनऊ और बेंगलुरु जैसे शहरों के सर्वे में करीब 98.2 प्रतिशत लोगों ने माना कि वे रियर सीट बेल्ट का इस्तेमाल नहीं करते हैं.

News18Hindi
Updated: January 13, 2019, 12:11 PM IST
सर्वे में खुलासाः एक साल में सड़क हादसों में हुई 9400 बच्चों की मौत
प्रतीकात्मक फोटो
News18Hindi
Updated: January 13, 2019, 12:11 PM IST
सड़कों पर बच्चों की सुरक्षा देश के लिए अभी भी एक बड़ी चुनौती बनी हुई है. सेव लाइफ फाउंडेशन के हालिया सर्वे में सामने आया है कि 2017 में यात्रा के दौरान करीब 9400 बच्चों की मौत हुई. इस सर्वे में शामिल होने वाले 91.4 प्रतिशत लोगों ने माना कि चाइल्ड रोड सेफ्टी लॉ को और अधिक मजबूत बनाने की जरूरत है.

द इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, एनजीओ ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि हादसों में बच्चों की मौत का बड़ा कारण कार के पीछे की सीट पर सीट बेल्ट का इस्तेमाल नहीं करना है. सीट बेल्ट को लेकर कानून तो हैं लेकिन उनका सही तरीके से पालन नहीं किया जाता है. साल 2017 में सड़क हादसों में हुई मौतों में 26,896 लोगों की मौत सीट बेल्ट का इस्तेमाल नहीं करने की वजह से हुई थी.

वैशाली में ट्रक से कुचलकर बच्ची की मौत, सड़क जाम



सीट बेल्ट का इस्तेमाल नहीं करने की वजह से मारे गए लोगों की संख्या में 2016 की तुलना में 2017 में 5638 का इजाफा हुआ.

सर्वे में शामिल हुए 26 प्रतिशत बच्चों ने कहा कि उनके माता-पिता उन्हें सीट बेल्ट लगाने के लिए कहते हैं, जबकि 28 प्रतिशत ने कहा कि उनके माता-पिता ट्रैफिक नियमों का कड़ाई से पालन करते हैं.

चिंता करने वाली बात
दिल्ली, मुंबई, जयपुर, कोलकाता, लखनऊ और बेंगलुरु जैसे शहरों के सर्वे में करीब 98.2 प्रतिशत लोगों ने माना कि वे रियर सीट बेल्ट का इस्तेमाल नहीं करते हैं. लखनऊ, जयपुर और कोलकाता में एक भी व्यक्ति ने रियर सीट बेल्ट का इस्तेमाल करने की बात नहीं कही. रियर सीट बेल्ट का इस्तेमाल नहीं करने के पीछे जागरुकता की कमी सबसे बड़ी वजह है. लोगों को लगता है कि हादसे की स्थिति में फ्रंट सीट पर बैठने वालों को अधिक रिस्क होता है.
Loading...

बरेली: दो कारों की भीषण टक्कर, 4 लोगों की दर्दनाक मौत

सामने आई ये चौंकाने वाली बातें
- सर्वे में शामिल 63.3 प्रतिशत बच्चों ने माना कि उन्होंने 9 से 14 साल के बीच में ही गाड़ी चलाना सीख लिया था.
- सर्वे में शामिल 75.5 प्रतिशत पैरेंट्स को चाइल्ड रिस्ट्रेंट सिस्टम की जानकारी नहीं थी.
- 3.5 प्रतिशत लोगों ने माना कि उन्होंने कभी न कभी बूस्टर सीट का इस्तेमाल किया है.
- 70.5 प्रतिशत लोगों को रियर सीट पर सीट बेल्ट होने की जानकारी थी.
- 91 प्रतिशत लोगों ने माना कि रियर सीट बेल्ट का इस्तेमाल नहीं करने पर पुलिस ने उन्हें नहीं रोका.
- 11.2 प्रतिश ड्राइवरों ने कहा कि स्कूल बस और स्कूल वैन में हर बच्चे के लिए सीट बेल्ट होती है.
- सिर्फ 20.1 प्रतिशत लोगों के पास हेलमेट थी.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...