भारत में विशेष ट्रेनों के जरिए 9,440 मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन पहुंचाई गई

रेलवे ने कहा कि 55 टैंकरों में 970 टन से अधिक तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन लेकर 12 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन रास्ते में हैं (फाइल फोटो)

Oxygen Train: ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन पिछले कुछ दिन से देश में हर रोज लगभग 800 टन तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन पहुंचा रही हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. रेलवे ने रविवार को कहा कि उसने 19 अप्रैल से अब तक देश के विभिन्न राज्यों में लगभग 590 टैंकरों में 9,440 मीट्रिक टन से अधिक तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन पहुंचाई है.इसने कहा कि लगभग 150 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन अब तक अपनी यात्रा पूरी कर चुकी हैं जिससे विभिन्न राज्यों को राहत मिली है. रेलवे ने कहा कि 55 टैंकरों में 970 टन से अधिक तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन लेकर 12 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन रास्ते में हैं.

    दक्षिणी राज्यों-केरल, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक और तमिलनाडु को ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों के माध्यम से प्राणवायु की आपूर्ति प्राप्त करने में काफी मदद मिली है. ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन पिछले कुछ दिन से देश में हर रोज लगभग 800 टन तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन पहुंचा रही हैं.

    ये भी पढ़ें- केंद्र ने कहा- कोवैक्सीन बनाने की सुविधा देश की ज्यादातर कंपनियों के पास नहीं

    भारत पहुंचीं जिओलाइट ला रही फ्लाइट्स
    इसके अलावा देश में चिकित्सीय ऑक्सीजन की कमी के बीच 34,200 किलोग्राम जिओलाइट खनिज की खेप लेकर एयर इंडिया की दो उड़ानें रविवार को इटली के रोम से बेंगलुरु हवाई अड्डे पर पहुंच गईं. ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र में जिओलाइट का इस्तेमाल होता है.

    भारत कोरोना वायरस की दूसरी खौफनाक लहर का सामना कर रहा है. संक्रमण के मामले बढ़ने के कारण कई राज्यों में स्वास्थ्यकर्मियों, टीकों, चिकित्सकीय ऑक्सीजन और जरूरी दवाओं की किल्लत हो गयी है.

    बेंगलुरु अंतराष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा (बीआइएएल) ने एक बयान में कहा, ‘‘एयर इंडिया की दो उड़ानें 16 मई यानी रविवार को 34,200 किलोग्राम जिओलाइट खनिज की खेप लेकर रोम से बेंगलुरु अंतराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर पहुंचीं. सरकार ने ऑक्सीजन उत्पादन के लिए जिओलाइट की कई खेप मंगाई है जिसमें से यह पहली खेप है.’’

    गौरतलब है कि आगामी सप्ताह के दौरान एअर इंडिया दुनिया के विभिन्न स्थानों से डीआरडीओ के लिए जिओलाइट की खेप लेकर आएगी. रोम से बेंगलुरु के लिए 15-18 मई के बीच सात उड़ानें आने वाली है. इसके बाद 19 से 22 मई के बीच कोरिया से आठ उड़ानों से खेप बेंगलुरु आएगी.
    (Disclaimer: यह खबर सीधे सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है. इसे News18Hindi टीम ने संपादित नहीं किया है.)