अपना शहर चुनें

States

यूपी में सरकारी कार्यक्रम की 'झूठी खबर' छापने वाले पत्रकारों पर मामला दर्ज

देहात जिला मजिस्‍ट्रेट दिनेश चंद्र सिंह ने जिन लोगों ने यह खबर की है, हमें उनकी खोज है. प्रतीकात्मक तस्वीर (nw18)
देहात जिला मजिस्‍ट्रेट दिनेश चंद्र सिंह ने जिन लोगों ने यह खबर की है, हमें उनकी खोज है. प्रतीकात्मक तस्वीर (nw18)

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी (District Basic Education Officer) ने पुलिस को सौंपी अपनी शिकायत में कहा है कि उक्त पत्रकार कार्यक्रम में उपस्थित नहीं थे और उन्होंने सरकारी कार्यक्रम की गलत खबर छापी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 27, 2021, 6:54 PM IST
  • Share this:
कानपुर. कानपुर देहात जिले में तीन स्‍थानीय पत्रकारों (Local Journalists) के खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया है. उन पर आरोप है कि उन्‍होंने सरकारी स्‍कूल (Government School) के स्‍टूडेंट्स द्वारा किए गए योग कसरत कार्यक्रम (Yoga Session) की गलत खबर दिखाई. इस खबर में कहा गया था कि बच्‍चे आधी बांह की शर्ट और शॉर्ट्स में सरकारी आयोजन में शामिल हुए जबकि कड़ाके की ठंड पड़ रही थी. इस कारण बच्‍चे कांप रहे थे. जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी सुनील दत्‍त ने पुलिस को सौंपी अपनी शिकायत में कहा कि ये पत्रकार उस कार्यक्रम उपस्थित नहीं थे और उन्‍होंने कार्यक्रम को गलत ढंग से पेश किया. पत्रकारों पर धारा 505 और धारा 506 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया गया है.

इस कार्यक्रम के विजुअल्‍स बताते हैं कि कार्यक्रम में जिला न्‍यायाधीश, एक राज्‍य मंत्री और स्‍थानीय विधायक मौजूद थे. वहीं स्‍कूली बच्‍चों को कतारबद्ध दिखाया गया. शिकायत में कहा गया है कि ठंड में पहने जाने वाले कपड़ों को पहनकर योग अभ्‍यास नहीं किया जा सकता, यह बात सभी जानते हैं. कसरत के समय बच्‍चे अपने ऊनी कपड़ों को उतार कर ढीले कपड़े पहन लेते हैं. योग अभ्‍यास के दौरान ढीले कपड़े पहनते हैं और अपनी परफार्मेंस के तुरंत बाद गर्म कपड़े पहन लेते हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक एक स्‍टूडेंट ने इवेंट में हिस्‍सा लिया था, उसने रिपोर्टर को बताया कि ठंड के कारण बच्‍चे कंपकपा रहे थे, जबकि टीचर ने बच्‍चों को योग अभ्‍यास के लिए कपड़े बदलने को कहा था. देहात जिला मजिस्‍ट्रेट दिनेश चंद्र सिंह ने बताया कि मुझे बड़ा दुख है कि कुछ पत्रकारों ने जो उस इवेंट में मौजूद नहीं थे, उन्होंने ऐसी खबर प्रकाशित की है कि स्‍कूली बच्‍चे ठंड के कारण बुरी तरह कांप रहे थे.

उन्‍होंने कहा कि कोई भी स्‍टूडेंट स्‍वेटर या कोट पहनकर योगा-कसरत नहीं कर सकता. इन बच्‍चों ने बहुत अच्‍छा परफार्मेंस किया, मैं उनकी प्रशंसा करता हूं, लेकिन जिन लोगों ने यह खबर की है, हमें उनकी खोज है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज