अगर आप इस नेशनल हाइवे से जाएंगे तो हथेली पर लगवानी होगी मुहर, जानें क्या है मामला

जम्मू और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट इस मुद्दे पर ट्वीट किया है.

News18Hindi
Updated: April 10, 2019, 12:59 PM IST
अगर आप इस नेशनल हाइवे से जाएंगे तो हथेली पर लगवानी होगी मुहर, जानें क्या है मामला
News18 Hindi
News18Hindi
Updated: April 10, 2019, 12:59 PM IST
जम्मू और कश्मीर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर यात्रा करने के लिए लोगों को अपने हाथ पर मुहर लगवानी पड़ रही है. लोगों की हथेली पर मजिस्ट्रेट की ओर से मुहर लगाई जा रही है. इस मुद्दे पर जम्मू और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया है.

अब्दुल्ला ने ट्वीट कर कहा है- 'कुछ इस तरह से कश्मीर के लोगों को उनके हाईवे का इस्तेमाल करने के लिए अनुमति दी जा रही है. उनके हाथ पर स्टैंप लगाये जा रहे हैं और लिखा जा रहा है. मैं नहीं जानता क्या कहा जाये. मैं लोगों से अपमानजनक, अमानवीय व्यवहार पर  नाराज हूं.'



यह भी पढ़ें:  इस देश में समुद्र किनारे सेल्फी क्लिक करने वालों को मिलेगी मौत की सजा!

मिली जानकारी के अनुसार यह मामला राज्य के अनंतनाग में सामने आया है. बीते दिनों हफ्ते में दो दिन तक हाईवे बंद करने संबंधी अधिसूचना भी जारी की गई थी जिसका राज्य के नेताओं ने काफी विरोध किया था.

यह भी पढ़ें:  'मी टू' मामले में एमजे अकबर को दिल्ली की अदालत से झटका

अधिसूचना में कहा गया था कि श्रीनगर, काजीगुंड, जवाहर-सुरंग, बनिहाल और रामबन से होकर गुजरने वाले बारामूला-उधमपुर राजमार्ग पर नागरिक यातायात पर लगा बैन प्रभावी होगा. यह प्रतिबंध दो दिन सुबह 4 बजे से शाम 5 बजे तक लागू रहेगा.

यह भी पढ़ें: चुनाव से ठीक पहले सरकार को झटका, सुप्रीम कोर्ट ने राफेल के लीक दस्तावेज माने वैध, फिर से होगी सुनवाई


यह भी पढ़ें:  लोकसभा चुनाव से पहले गुजरात में कांग्रेस को झटका, अल्पेश ठाकोर ने छोड़ी पार्टी

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार एक अधिकारी ने कहा था कि यह कदम लोकसभा चुनाव प्रक्रिया के दौरान सुरक्षाबलों के काफिले पर फिदायीन आतंकी हमलों  की आशंका को खत्म करने के लिए उठाया जा रहा है.

यह भी पढ़ें:  अगर आपके पास नहीं है वोटर आईडी, तो इन 11 आईडी प्रूफ से कर सकते हैं वोटिंग

बीते 14 फरवरी को आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के एक स्थानीय सदस्य ने पुलवामा में हाईवे से गुजर रहे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के काफिले से विस्फोटकों से भरी गाड़ी को टकरा दिया था. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों की मौत हो गई थी उसके बाद से ही सरकार सतर्क हो गई है.

यह भी पढ़ें:   तीन साल के बच्चे ने पार्किंग लॉट में किया सूसू, पुलिस ने गर्भवती मां पर लगाया जुर्माना

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार