लाइव टीवी

किसान ने फसल बेचकर रखे थे 50 हजार रुपये, चूहों ने कुतरे, बैंक ने किया बदलने से इनकार

News18Hindi
Updated: October 21, 2019, 11:46 PM IST
किसान ने फसल बेचकर रखे थे 50 हजार रुपये, चूहों ने कुतरे, बैंक ने किया बदलने से इनकार
किसान का दावा है कि बैंक अब उसके कुतरे हुए पैसों को बदल नहीं रहा है.

ये मामला तमिलनाडु (Tamilnadu) के कोयंबटूर (Coimbatore) जिले के वेलियंगाडु गांव का है. यहां के रहने वाले किसान ने अपने घर पर बैग में 50 हजार रुपये रखे. किसान के अनुसार, ये पैसे उसे फसल बेचकर मिले थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2019, 11:46 PM IST
  • Share this:
चेन्नई. एक किसान की जमापूंजी उसकी फसल की पैदावार होती है. जिसे बेचकर वह अपनी मेहनत की कमाई घर लाता है. लेकिन वही कमाई अगर डूब जाए तो किसान पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ता है. तमिलनाडु (Tamilnadu) का एक किसान (Farmer) ऐसी ही मुसीबत का सामना कर रहा है. कोयंबटूर (Coimbatore) जिले के वेलियंगाडु गांव के रहने वाले किसान की कमाई को चूहों ने कुतर दिया. अब वह बैंक के चक्कर काट रहा है, लेकिन कोई उसकी मदद नहीं कर रहा है.

ये मामला तमिलनाडु (Tamilnadu) के कोयंबटूर जिले के वेलियंगाडु गांव का है. यहां के रहने वाले किसान ने अपने घर पर बैग में 50 हजार रुपये रखे. किसान के अनुसार, ये पैसे उसे फसल बेचकर मिले थे, जिसे उसने बैग में रख दिया था. लेकिन इस बैग तक चूहे पहुंच गए और उन्होंने पूरे रुपये कुतर दिए. इसके बाद किसान ने स्थानीय बैंक में संपर्क किया. उसने बैंक से ये रुपये बदलने के लिए कहा, लेकिन बैंक ने उसके पैसे बदलने से मना कर दिया. अब किसान परेशान घूम रहा है, लेकिन उसकी कोई मदद नहीं कर रहा है.



इस खबर के सामने आने के बाद ट्विटर पर एक यूजर रिषी बागरी ने एएनआई को लिखा, कृपया मुझे इस किसान की सारी डिटेल भेज दें, मैं इनकी मदद करना चाहूंगा.
Loading...




दूसरे यूजर्स ने आरबीआई को टैग करते हुए उसे इस किसान की मदद करने का आग्रह किया. कुछ लोगों ने कहा, इस मामले में बैंक का नाम भी उजागर किया जाए.

ये भी पढ़ें...

कल हड़ताल की वजह से बंद रहेंगे बैंक, कामकाज पर पड़ सकता है असर
'हाउडी मोदी' की तर्ज पर शुरू हुआ 'हाउडी दिल्ली', मनोज तिवारी करेंगे जनसंवाद
इस कंपनी ने मानी पीएम मोदी की बात, प्लास्टिक से निपटने के लिए अपनाया ये तरीका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 10:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...