लाइव टीवी

कोरोना वायरस: अमित मालवीय के ट्वीट पर भड़कीं ममता बनर्जी, कहा- बंगाल सरकार को बदनाम करने की हो रही कोशिश

News18Hindi
Updated: April 6, 2020, 7:09 PM IST
कोरोना वायरस: अमित मालवीय के ट्वीट पर भड़कीं ममता बनर्जी, कहा- बंगाल सरकार को बदनाम करने की हो रही कोशिश
अमित मालवीय ने आरोप लगाया है कि ममता बनर्जी सरकार राज्य में मौत के आंकड़े छिपा रही है.

भाजपा (BJP) के वरिष्ठ नेता और सूचना प्रौद्योगिकी प्रकोष्ठ के मुखिया अमित मालवीय (Amit Malviya) ने सोमवार को ट्वीट की एक श्रृंखला में आरोप लगाया कि ममता बनर्जी सरकार (Mamata Banerjee) कोविड-19 (Covid-19) के मामलों के संबंध में आंकड़े छुपा रही है.

  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) में कोरोना वायरस (Coronavirus) से हुई मौतों पर तृणमूल कांग्रेस (Trinmool Congress) और भाजपा (BJP) में ट्विटर (Twitter) पर जंग छिड़ गई है. भाजपा की आईटी सेल (सूचना प्रौद्योगिकी प्रकोष्ठ) के अध्यक्ष अमित मालवीय (Amit Malviya) ने राज्य सरकार पर संक्रमण के मामलों की जानकारी ‘छुपाने’ का आरोप लगाया जिस पर सत्ताधारी दल तृणमूल ने जवाब देते हुए कहा, “फर्जी खबरों को फैलाने में पीएचडी हासिल कर चुके व्यक्ति को आंकड़ों की प्रमाणिकता पर ट्वीट नहीं करना चाहिए.”

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार बंगाल में अब तक कोविड-19 के 80 मामलों की पुष्टि हुई है और तीन व्यक्तियों की मौत हुई है. हालांकि गैर सरकारी सूत्रों के अनुसार संक्रमण के कारण दस लोगों की मौत हो चुकी है.

अमित मालवीय का आरोप सरकार छिपा रही आंकड़े
भाजपा के वरिष्ठ नेता और सूचना प्रौद्योगिकी प्रकोष्ठ के मुखिया अमित मालवीय ने सोमवार को एक श्रृंखला में ट्वीट कर आरोप लगाया कि ममता बनर्जी सरकार कोविड-19 के मामलों के संबंध में आंकड़े छुपा रही है.



मालवीय ने ट्वीट किया, “ममता बनर्जी क्या छुपा रही हैं? बंगाल सरकार की ओर से दो, तीन और पांच अप्रैल को कोई मेडिकल बुलेटिन जारी नहीं किया गया. आश्चर्यजनक रूप से चार अप्रैल को जारी हुए बुलेटिन में कोविड-19 से हुई मौतों का कोई जिक्र नहीं था. इसके साथ ही यह भी जानिए की ममता प्रशासन ने कोविड-19 से होने वाली मौतों का कारण पता करने के लिए समिति बनाने का आदेश दिया है.”





मालवीय ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, “बंगाल में अस्पताल प्रशासन ममता बनर्जी के दबाव में काम कर रहे हैं. उन पर कोविड-19 के मामलों की जांच नहीं करने का दबाव है. डॉक्टरों से कहा गया है कि वे कोरोना वायरस से मरने वाले मरीजों के मृत्यु प्रमाण पत्र में मौत का कारण कोरोना वायरस न लिखें.”



इसका जवाब देते हुए तृणमूल की वरिष्ठ नेता और लोक सभा सदस्य काकोली घोष दस्तीदार ने कहा कि मालवीय को आंकड़ों की प्रमाणिकता की बात करना शोभा नहीं देता. दस्तीदार ने ट्वीट किया, “जब भाजपा के सूचना प्रौद्योगिकी प्रकोष्ठ के सीईओ और फर्जी खबर फैलाने में पीएचडी हासिल करने वाले आंकड़ों की प्रमाणिकता पर ट्वीट करते हैं तो ऐसा लगता है जैसे कोविड-19 सामाजिक दूरी बनाने की बात कर रहा हो और आप पर लॉकडाउन के नियमों को तोड़ने का आरोप लगा रहा हो.”

वहीं ममता बनर्जी ने कहा कि एक राजनीतिक पार्टी की आईटी सेल पश्चिम बंगाल सरकार को बदनाम करने के लिए फेक न्यूज़ का सहारा ले रही है.

एक अन्य वरिष्ठ तृणमूल कांग्रेस नेता ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा कि संकट के इस समय में मालवीय को मुद्दों का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए.

(भाषा के इनपुट सहित)

ये भी पढ़ें :-

कोरोना वायरस: कर्नाटक-केरल बॉर्डर बंद करने पर छिड़ी बहस के पीछे क्या है वजह?

लॉकडाउन के चलते मार्च में घटी पेट्रोल, डीजल की मांग, रसोई गैस सिलेंडर की बढ़ी


 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 6, 2020, 6:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading