आज का मौसम, 21 नवंबर: दिल्ली में पहली बार शीत लहर के आसार, तापमान में गिरावट की आशंका

दिल्ली में पिछले 14 साल में नवंबर की सबसे सर्द सुबह (फाइल फोटो)
दिल्ली में पिछले 14 साल में नवंबर की सबसे सर्द सुबह (फाइल फोटो)

Weather Forecast Today: मौसम विभाग ने कहा है कि दिल्ली में इस मौसम में पहली बार शीत लहर के आसार हैं. आम तौर पर मैदानों में लगातार दो दिन जब तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या इससे कम रहे और सामान्य से 4.5 डिग्री सेल्सियस कम होता है तब मौसम विभाग शीतलहर की घोषणा करता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 21, 2020, 6:27 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में कई स्थानों पर शुक्रवार को तापमान सामान्य से नीचे दर्ज किया गया वहीं राष्ट्रीय राजधानी में न्यूनतम तापमान 7.5 डिग्री सेल्सियस रहा जो पिछले 14 वर्षों में नवंबर के महीने में सबसे कम है. मौसम विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि 29 नवंबर 2006 के बाद यह पहला मौका है जब दिल्ली का तापमान नवंबर में इतना कम हुआ है. 29 नवंबर 2006 को यहां का न्यूनतम तापमान 7.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था.

मौसम विभाग ने कहा है कि दिल्ली में इस मौसम में पहली बार शीत लहर के आसार हैं. आम तौर पर मैदानी इलाकों में लगातार दो दिन जब तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या इससे कम रहे और सामान्य से 4.5 डिग्री सेल्सियस कम होता है तब मौसम विभाग शीतलहर की घोषणा करता है.

श्रीवास्तव ने कहा, 'यह मानदंड शुक्रवार को पूरा हो गया. अगर शनिवार को भी स्थिति ऐसी ही रहती है तो हम शनिवार को शीत लहर की घोषणा करेंगे.' दिल्ली में पिछले साल नवंबर में न्यूनतम तापमान 11.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. इसी तरह 2018 में न्यूनतम तापमान 10.5 डिग्री सेल्सियस और 2017 में 7.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था.



शनिवार तक ऐसी स्थिति बनी रहेगी
आंकड़ों के अनुसार, अब तक नवंबर में सबसे कम न्यूनतम तापमान 3.9 डिग्री सेल्सियस 28 नवंबर 1938 को दर्ज किया गया था. मौसम पूर्वानुमान बताने वाली निजी एजेंसी ‘स्काईमेट वेदर’ के एक विशेषज्ञ महेश पालावत ने कहा कि पश्चिमी हिमालय क्षेत्र की ओर से बर्फीली हवाओं के आने के कारण तापमान में गिरावट आयी और शनिवार तक ऐसी स्थिति बनी रहेगी.

उन्होंने कहा कि एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ 23 नवंबर को उत्तर पश्चिमी भारत की ओर आ रहा है. इससे न्यूनतम तापमान में कुछ वृद्धि होने के आसार हैं. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अधिकारियों के अनुसार, इस महीने 16 नवंबर को छोड़कर न्यूनतम तापमान बादलों के अभाव में सामान्य से 2-3 डिग्री सेल्सियस कम रहा है.

मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में शीतलहर जारी है तथा केलांग और काल्पा जैसे पर्यटन स्थलों में तापमान शून्य से नीचे चला गया है. शिमला में न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार राजस्थान के कई इलाकों में रात के तापमान में कमी आयी है और राज्य के एकमात्र हिल स्टेशन माउंट आबू में तापमान दो डिग्री सेल्सियस तक गिर गया.मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि अधिकतर शहरों में अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस या उससे कम दर्ज किया गया.

विभाग के पूर्वानुमान में कहा गया है कि अगले 24 घंटों में रात के तापमान में और गिरावट होने का अनुमान है. हरियाणा और पंजाब में अधिकतम और न्यूनतम तापमान सामान्य से नीचे दर्ज किया गया. मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में अधिकतम तापमान 23.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से तीन डिग्री नीचे है.

माउंट आबू में रात का तापमान गिरा, 2.0 डिग्री सेल्सियस पर पहुंचा
वहीं राजस्थान में सर्दी लगातार बढ़ती जा रही है और माउंट आबू में रात का न्यूनतम तापमान गिरकर 2.0 डिग्री सेल्सियस पर आ गया है. मौसम विभाग के अनुसार बृहस्पतिवार को रात का न्यूनतम तापमान पहाड़ी स्थल माउंट आबू में सबसे कम 2.0 डिग्री सेल्सियस रहा.

इसी तरह रात का न्यूनतम तापमान चुरू में 5.7 डिग्री, सीकर में 6.0 डिग्री, पिलानी में 7.1 डिग्री, गंगानगर में 9.8 डिग्री, बीकानेर में 10.0 डिग्री सेल्सियस रहा. राज्य के ज्यादातर हिस्सों में दिन का अधिकतम तापमान भी 30 डिग्री सेल्सियस या इससे कम बना हुआ है. मौसम विभाग के मुताबिक राज्य के तापमान में आगामी 24 घंटे में और गिरावट आने का अनुमान है.

दिल्ली में वायु गुणवत्ता अभी भी 'खराब'
इसके साथ ही राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में शुक्रवार को वायु गुणवत्ता खराब दर्ज की गयी, हालांकि, केंद्र सरकार की एजेंसियों का कहना है कि हवा चलने की गति अनुकूल होने के कारण इसमें कुछ सुधार की संभावना है. शहर का पिछले 24 घंटों में औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 296 दर्ज किया गया. बृहस्पतिवार को यह 283 था जबकि बुधवार एवं मंगलवार को यह क्रमश: 211 एवं 171 दर्ज किया गया था.

केंद्र सरकार की वायु गुणवत्ता अग्रिम चेतावनी प्रणाली के अनुसार, दिल्ली एवं राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में वायु गुणवत्ता में सुधार होने की संभावना है, हालांकि शुक्रवार को यह खराब श्रेणी में बनी रहेगी और शनिवार को मध्यम श्रेणी में आने की संभावना है.

इसने कहा है कि सतह की हवा की दिशा शनिवार को उत्तर पश्चिम और इसकी अधिकतम गति 15 किमी प्रति घंटे हो सकती है. प्रणाली के अनुसार पंजाब, हरियाणा एवं पाकिस्तान में बृहस्पतिवार को 600 स्थानों पर खेतों में पराली जलाने की घटना की जानकारी मिली है.

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सफर के अनुसार, दिल्ली में बृहस्पतिवार को पीएम 2.5 प्रदूषण के ​लिये पराली का जलना 20 प्रतिशत जिम्मेदार है. बुधवार को यह आठ जबकि मंगलवार को तीन प्रतिशत था. सफर का कहना है कि तेज हवा चलने से अगले दो दिन में वायु गुणवत्ता में सुधार होने का अनुमान है.

मौसम विभाग ने कहा है कि शुक्रवार को न्यूनतम तापमान 7.5 डिग्री सेल्सियस था जो पिछले 14 साल में सबसे कम है. हवा में ठहराव और तापमान कम होने से प्रदूषक नीचे की ओर आने लगते हैं और फिर अनुकुल गति से हवा चलने से वे बिखर जाते हैं. इससे वायु गुणवत्ता में सुधार होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज