आज का मौसम, 1 नवंबर: दिल्‍ली में अक्‍टूबर में ठंड ने तोड़ा रिकॉर्ड, एयर क्‍वालिटी सुधरने के आसार

दिल्‍ली में छाया है वायु प्रदूषण.
दिल्‍ली में छाया है वायु प्रदूषण.

Weather Forecast: IMD के बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पश्चिम हिस्‍से और तमिलनाडु के तटीय क्षेत्र में एक चक्रवाती दौर बना हुआ है. दिल्‍ली की हवा सुधरने की संभावना जताई गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2020, 6:57 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के आंकड़ों के अनुसार इस वर्ष दिल्ली में अक्टूबर का महीना पिछले 58 वर्षों में सर्वाधिक ठंडा (Delhi Winter) रहा. आईएमडी के अनुसार इस साल अक्टूबर में न्यूनतम तापमान 17.2 डिग्री सेल्सियस रहा, जो 1962 के बाद अक्टूबर महीने में सबसे कम तापमान है. दिल्ली में अक्टूबर महीने में सामान्य रूप से औसत तापमान 19.1 सेल्सियस रहता है. वहीं दिल्‍ली में चल रहे वायु प्रदूषण (Delhi Air Pollution) को लेकर एक राहत की खबर है. एक सरकारी पूर्वानुमान एजेंसी ने कहा है कि हवा की अनुकूल गति के कारण अगले कुछ दिन में प्रदूषण की स्थिति में सुधार हो सकता है.

दिल्‍ली में कड़ाके की ठंड
गुरुवार को दिल्ली में न्यूनतम तापमान 12.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो करीब तीन दशक में अक्टूबर महीने में सबसे कम तापमान था. इससे पहले दिल्ली में 1994 में इतना कम तापमान दर्ज किया गया था. आईएमडी के आकड़ों के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी में 31 अक्टूबर 1994 को 12.3 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया था.

आईएमडी ने कहा कि साल के इस समय सामान्य तौर पर न्यूनतम तापमान 15-16 डिग्री सेल्सियस रहता है. आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि आकाश में बादल नहीं छाए होना तापमान में कमी का एक मुख्य कारण है. उन्होंने कहा कि दिल्ली में अब तक का सबसे कम तापमान 31 अक्टूबर 1937 को 9.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था.
यह भी पढ़ें: MP उपचुनाव 2020: सिंधिया का कमलनाथ पर 'प्रहार', कहा- जनता के प्रति वफादार रहने वाला कुत्ता हूं



अब हवा सुधरने के आसार
दिल्ली की वायु गुणवत्ता में मामूली सुधार हुआ है लेकिन शनिवार सुबह यह ‘बहुत खराब’ श्रेणी में बनी रही. वहीं अगले कुछ दिन में प्रदूषण की स्थिति में सुधार हो सकता है. दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) सुबह 9.30 बजे 369 मापा गया. शुक्रवार को 24 घंटे का औसत एक्यूआई 374 रहा. गुरुवार को यह 395, बुधवार को 297, मंगलवार को 312 और सोमवार को 353 दर्ज किया गया.

जहांगीरपुरी में शनिवार को हवा की गुणवत्ता 412, मुंडका में 407 और आनंद विहार में 457 दर्ज की गयी, जो ‘गंभीर’ श्रेणी में हैं. पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की वायु गुणवत्ता निगरानी एजेंसी ‘सफर’ के अनुसार शुक्रवार को दिल्ली में पीएम 2.5 प्रदूषक कणों में पराली जलाने की भागीदारी 19 प्रतिशत रही. ‘सफर’ के अनुसार बृहस्पतिवार को पराली जलाने की हिस्सेदारी 36 प्रतशित रही. बुधवार को यह 18 प्रतिशत, मंगलवार को 23 प्रतिशत, सोमवार को 16 प्रतिशत, रविवार को 19 प्रतिशत और शनिवार को नौ प्रतिशत रही. ‘सफर’ ने कहा कि हवा की रफ्तार भी बढ़ गयी है. इसके मद्देनजर सोमवार को वायु गुणवत्ता में थोड़े सुधार का अनुमान है और यह ‘खराब’ श्रेणी में आ सकती है.

उत्तर-पूर्व मानसून की शुरुआत हुई
दक्षिण-पश्चिम मानसून आखिरकार बुधवार को देश से विदा हो गया. यह अपनी सामान्य तिथि के 13 दिन बाद वापस गया. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि इसके साथ ही उत्तर-पूर्वी मानसून की शुरुआत हो गई है जिसके चलते तमिलनाडु, पुडुचेरी, आंध्र प्रदेश के हिस्सों, कर्नाटक और केरल में अक्टूबर से दिसंबर के दौरान बारिश होती है.

आईएमडी ने कहा, ' देश के अधिकतर भागों में वर्षा संबंधी गतिविधियों में आई खासी कमी के मद्देनजर दक्षिण-पश्चिम मानसून की आज 28 अक्टूबर को पूरी तरह से विदाई हो गई।' उन्होंने कहा कि बंगाल की दक्षिण-पश्चिम खाड़ी और तमिलनाडु के तटीय क्षेत्र में एक चक्रवाती दौर बना हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज