कामगारों को मुक्त कराने में 'नाकाम' रही केंद्र सरकार : आप

केंद्रीय सरकार को निशाने में लेते हुए आम आदमी पार्टी ने इस्लामिक स्टेट द्वारा अपहृत कामगारों के संबंध में जवाब मांगा है. वर्ष 2014 में इराक के मोसुल शहर में इस्लामिक स्टेट द्वारा अपहृत किए गए पंजाब के 39 लोगों को मुक्त कराने के लिए क्या ठोस कदम उठाए गए.

भाषा
Updated: July 23, 2017, 12:02 AM IST
कामगारों को मुक्त कराने में 'नाकाम' रही केंद्र सरकार : आप
आप नेता आशुतोष (Image: GettyImages)
भाषा
Updated: July 23, 2017, 12:02 AM IST
केंद्रीय सरकार को निशाने में लेते हुए आम आदमी पार्टी ने इस्लामिक स्टेट द्वारा अपहृत कामगारों के संबंध में जवाब मांगा है. वर्ष 2014 में इराक के मोसुल शहर में इस्लामिक स्टेट द्वारा अपहृत किए गए पंजाब के 39 लोगों को मुक्त कराने के लिए क्या ठोस कदम उठाए गए.

आप नेता आशुतोष ने कहा कि ताजा मीडिया रिपोर्टों में विदेश मंत्रालय के उन दावों की पोल खुल चुकी  है, जिनमें यह बताया गया कि निर्दोष कामगार मोसुल के समीप एक जेल में बंद हैं. इस महीने इराक के मोसुल शहर को आईएस के कब्जे से मुक्त कराया गया है और वहां कोई इमारत नहीं है. ऐसे में यह अत्यंत गंभीर मामला है. कामगारों के परिवार वालों को और देश को साफ़ तौर पर भ्रमित किया गया है.

इसके साथ ही यह 'गंभीर चिंता' का विषय है कि मोदी सरकार इन गरीब कामगारों को मुक्त कराने में 'नाकाम' रही है और यह मुद्दा तीन वर्षों से चल रहा है.

आप नेता ने आगे कहा, 'आम आदमी पार्टी ने इन निर्दोष कामगारों की तथ्यात्मक स्थिति के बारे में उच्च स्तर पर केंद्र सरकार से स्पष्ट बयान की मांग करती है.'

आम आदमी पार्टी फिलहाल पंजाब में मुख्य विपक्षी दल है.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 23, 2017, 12:02 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...