अपना शहर चुनें

States

संजय सिंह की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, आपराधिक केस खारिज करने की याचिका पर सुनवाई टली

संजय सिंह गिरफ्तार किए जा सकते हैं. (File Pic)
संजय सिंह गिरफ्तार किए जा सकते हैं. (File Pic)

संजय सिंह (Sanjay Singh) ने कहा था कि उत्तर प्रदेश की सरकार जातिवादी सरकार है और यहां सिर्फ एक जाति का वर्चस्व है. उसके बाद उनके खिलाफ कई मुकदमे दर्ज हुए हैं. एक गैर जमानती वारंट भी जारी हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 2, 2021, 12:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह (Sanjay Singh) की मुश्किलें जल्‍द ही बढ़ सकती हैं. आप सांसद संजय सिंह के खिलाफ उत्तर प्रदेश में दर्ज आपराधिक मामलों को खारिज करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अगले हफ्ते के लिए टाल दिया है.

संजय सिंह ने कहा था कि उत्तर प्रदेश की सरकार जातिवादी है और यहां सिर्फ एक जाति का वर्चस्व है. उसके बाद उनके खिलाफ कई मुकदमे दर्ज हुए हैं. एक गैर जमानती वारंट भी जारी हुआ है. सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को संजय सिंह की गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग पर कोई आदेश नहीं दिया. यानि पुलिस अगर चाहे तो उन्हें गिरफ्तार भी कर सकती है.

सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके संजय सिंह ने उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में दर्ज एफआइआर को रद्द करने की मांग की है. एफआईआर संजय सिंह की लखनऊ में आयोजित प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के बाद दर्ज कराई गई थीं. संजय सिंह का कहना है कि उनके खिलाफ मुकदमा राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से दर्ज कराया गया है.

आप नेता ने कहा कि उन्हें आठ जिलों में दर्ज आठ एफआइआर की जानकारी है जिनमें लखनऊ, संत कबीर नगर, खीरी, बागपत, मुजफ्फरनगर, बस्ती और अलीगढ़ शामिल है. उनका कहना है कि इन एफआइआर का मकसद याचिकाकर्ता और उसके राजनीतिक सहयोगियों को परेशान करना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज