तीन तलाक बिल आज होगा पेश, सांसदों की गैर मौजूदगी का राज्यसभा में बीजेपी को मिल सकता है फायदा

Triple Talaq Bill: केंद्र सरकार की ओर से दावा किया गया था कि तीन तलाक बिल पर सरकार के पास 117 सांसदों का समर्थन हासिल है.

News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 7:27 AM IST
तीन तलाक बिल आज होगा पेश, सांसदों की गैर मौजूदगी का राज्यसभा में बीजेपी को मिल सकता है फायदा
Triple Talaq Bill: केंद्र सरकार की ओर से दावा किया गया था कि तीन तलाक बिल पर सरकार के पास 117 सांसदों का समर्थन हासिल है.
News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 7:27 AM IST
केंद्र सरकार मंगलवार को राज्यसभा में तीन तलाक बिल पेश करने जा रही है. इसके लिए विपक्षी दलों को मनाने की कोशिश जारी है. प्राप्त जानकारी के अनुसार कम से कम 4 केंद्रीय मंत्री और दो वरिष्ठ राज्यसभा सांसदों ने गठबंधन और विपक्षी दलों से तीन तलाक बिल पर बात की. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस विधेयक पर मतदान के दौरान जनता दल यूनाइटेड, तेलगु देशम पार्टी, तेलंगाना राष्ट्र समिति, वाइएसआर कांग्रेस के सांसद अनुपस्थित रह सकते हैं.

सूत्रों की मानें तो नेश्नलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP) और समाजवादी पार्टी के भी कुछ सांसद राज्यसभा में अनुपस्थित रहेंगे. बताया गया कि ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) के सांसद भी विधेयक पर मतदान के दौरान अनुपस्थित रहेंगे. अगर सदन में सत्ता पक्ष के संख्या बल की बात करें तो भारतीय जनता पार्टी के पास 77, अकाली दल 3, नामित 3, निर्दलीय चार, अगप 3, एलजेपी 1, बीपीएफ 1, एनपीपी 1, 1 बीजेडी, आरपीआई 7, 1 एसडीएफ के सांसद हैं. ऐसे में बीजेपी का आंकड़ा 103+ जा रहा है.

वहीं विपक्ष की बात करें तो कांग्रेस के 45, डीएमके के 5, 1 पीएमके, 6 लेफ्ट, 4 बसपा, 10 सपा, 3 आप, 2 पीडीपी, 1 IUML, 4 राजद, 1 तुलसी, 1 वीरेंद्र कुमार, 1 केरल कांग्रेस और 12 टीएमसी के सांसद हैं. ऐसे में विपक्ष का संख्या बल 100 के आस-पास है.

ऐसे में अगर विपक्ष के सांसद राज्यसभा में विधेयक पर वोटिंग के दौरान अनुपस्थित रहे तो इसका सीधा फायदा बीजेपी को मिल सकता है.

यह भी पढ़ें:  तीन तलाक पर जिंदा रहने वाले परेशान हैं- आरिफ मोहम्मद

पहले भी था सरकार का दावा
बता दें सरकार को राज्यसभा में तीन तलाक बिल पर बीजेडी का साथ मिलता दिखाई दे रहा है. वहीं टीआरएस, वाईएसआर कांग्रेस वोटिंग के दौरान वॉकआउट करने पर सहमत हो गए हैं. अभी हाल में राज्यसभा के संख्या बल पर नजर दौड़ाएं तो वह कम रही है. ऐसे में अगर सपा और राजद के कुछ सदस्य आगे भी अनुपस्थित रहते हैं तो इसका फायदा सरकार को मिल सकता है.
Loading...

सूत्रों की मानें तो सरकार की ओर से दावा किया गया था कि तीन तलाक बिल पर सरकार के पास 117 सांसदों का समर्थन मौजूद है. खबर है कि सरकार की राह आसान करने के लिए सोमवार को राज्यसभा से जदयू, टीआरएस और वाईएसआर कांग्रेस के 14 और सपा-राजद के कम से कम तीन सदस्य वोटिंग के दौरान वाकआउट करेंगे.

राज्यसभा में इस समय 240 सदस्य हैं. ऐसे में अगर सरकार को किसी भी बिल को पास करना है तो उसे 121 सदस्यों का समर्थन चाहिए होता है. इससे पहले सरकार का दावा था कि उसके पास राज्यसभा में 117 सदस्यों का समर्थन मौजूद है.

यह भी पढ़ें: तो राज्यसभा में ऐसे पास हो सकता है ट्रिपल तलाक बिल

अभी तक की खबर के अनुसार...
अभी तक की खबर के मुताबिक, अगर जदयू, टीआरएस, वाईएसआर के 14 और राजद-सपा के तीन सदस्यों ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लेते हैं तो सदन की शक्ति 223 रह जाएगी. इस लिहाज से से बिल पास कराने के लिए 223 में से केवल 112 सदस्यों के समर्थन की जरूरत होगी, जबकि सरकार के पास 117 सदस्यों का समर्थन होगा.

सरकार ने तीन तलाक बिल पर अपनी रणनीति गुरुवार को आरटीआई संशोधन बिल को देखते हुए बनाई है. बता दें RTI के समर्थन में 117 तो विरोध में महज 74 मत पड़े थे. जिस समय ये बिल राज्यसभा में रखा गया था उस वक्त 49 सदस्य या तो अनुपस्थित थे या वोटिंग में हिस्सा नहीं ले रहे थे.

यह भी पढ़ें: ट्रिपल तलाक पर JDU सांसद बोले- हमारा स्टैंड पहले साफ है

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 30, 2019, 7:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...