Assembly Banner 2021

छात्रों पर UAPA के तहत आरोप लगाया जाना स्वीकार्य नहीं: सीएम पिनराई विजयन

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा कि उनकी सरकार UAPA कानून के तहत छात्रों पर आरोप तय करने के पुलिस के फैसले से सहमत नहीं है.

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा कि उनकी सरकार UAPA कानून के तहत छात्रों पर आरोप तय करने के पुलिस के फैसले से सहमत नहीं है.

केरल (Kerala) के कानून मंत्री ए के बालन (AK Balan) ने पत्रकारों से कहा कि, ‘हम इस बात की जांच करेंगे कि क्या इस मामले में नियमानुसार प्राथमिकी दर्ज की गई.’

  • Share this:
तिरुवनंतपुरम. माकपा (CPM) के दो छात्र कार्यकर्ताओं पर यूएपीए (UAPA) के तहत आरोप लगाने को लेकर आलोचनाओं का शिकार हो रहे केरल (Kerala) के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने रविवार को स्पष्ट किया कि उनकी सरकार इन कानून के तहत आरोप तय करने के पुलिस के फैसले से सहमत नहीं है. पुलिस ने माकपा के छात्र कार्यकर्ताओं को कथित रूप से माओवादियों से सहानुभूति रखने और उनके कुछ पर्चे बांटने के आरोप में शनिवार सुबह गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत गिरफ्तार किया था. छात्रों की आयु लगभग 20 वर्ष है. विजयन ने इस मामले पर पहली बार प्रतिक्रिया दी है.

कांग्रेस को यूएपीए के खिलाफ बोलने का अधिकार नहीं है
विजयन ने कहा कि सरकार मामले की जांच करेगी और आवश्यक कदम उठाएगी. विजयन ने कहा कि यदि पुलिस किसी पर यूएपीए के तहत आरोप लगाती है तो इसका यह अर्थ नहीं है कि यह तत्काल प्रभावी हो जाएगा. उन्होंने कहा कि यूएपीए पर राज्य द्वारा नियुक्त समिति को मामले की जांच करनी होगी. विजयन ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि पार्टी को यूएपीए के खिलाफ बोलने का अधिकार नहीं है.

आरोपी के पास से केवल पर्चे मिलने के आधार पर यूएपीए नहीं लगाया जा सकता
इस बीच, यूएपीए समिति की अगुवाई करने वाले न्यायमूर्ति पीएस गोपीनाथन ने कोच्चि में संवाददाताओं से कहा कि आरोपी के पास से केवल पर्चे मिलने के आधार पर यूएपीए नहीं लगाया जा सकता. ‘‘सबूत होने पर ही यूएपीए वैध होगा.’’ इससे पहले, केरल में विपक्षी कांग्रेस नीत यूडीएफ गठबंधन ने छात्र कार्यकर्ताओं पर यूएपीए लगाने को लेकर रविवार को मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से इस्तीफा मांगा.



पिनराई विजयन को इस्तीफा देना चाहिए: रमेश चेन्नीथला
केरल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रमेश चेन्नीथला ने पत्रकारों से कहा कि विजयन जो गृह मंत्री भी हैं, को इस्तीफा देना चाहिए क्योंकि अब उनके पास कोई विकल्प नहीं बचा है. छात्रों ताहा फजल और अलान शुहेब के परिजनों ने पुलिस के इन दावों को खारिज किया कि वे माओवादियों से सहानुभूति रखते हैं.

निर्दोष लोगों के खिलाफ हथियार के रूप में यूएपीए का प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए
केरल के कानून मंत्री ए के बालन ने यूएपीए को दोधारी तलवार करार देते हुए कहा कि इसे लोकतांत्रिक नियमों के अनुसार काम कर रहे निर्दोष लोगों और कार्यकर्ताओं के खिलाफ हथियार के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए.

ये भी पढ़ें - 

कोई सत्ता में हो, न्याय व्यवस्था में भेदभाव का सामना कर रहे मुस्लिम: असदुद्दीन ओवैसी

दिल्ली में ऑड-इवन योजना आज से, अरविंद केजरीवाल ने दिल्लीवासियों से की यह अपील
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज