अपने शिक्षा के लक्ष्य को प्राप्त करें BasicFirst के सुपर स्मार्ट करिकुलम के साथ

Photo by Steve Halama on Unsplash
Photo by Steve Halama on Unsplash

यह एक तरह का लर्निंग मॉड्यूल है जो खासतौर पर इस तरह डिज़ाइन किया गया है जिससे हर छात्र को चुनौतियों का सामना करने और अपनी क्षमता का इस्तेमाल करने में मदद मिले.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 13, 2020, 11:43 AM IST
  • Share this:
पिछले कुछ सालों में भारत भर के शैक्षणिक संस्थान वर्चुअल प्रोग्राम, कंप्यूटर लैब और डिजिटल ट्यूशन को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं जिसकी व्यक्तिगत शिक्षा से तुलना की जा सके. वैश्विक महामारी ने इस बदलाव में और तेज़ी लाने का दवाब बनाया है, जिससे कई संघर्षों का सामना करना पड़ रहा है. छात्रों की पढ़ाई का कर्व, ग्रेड और शिक्षा का लक्ष्य सब इससे प्रभावित हुआ है.

यह एक धुंधले पूर्वानुमान की तरह लग सकता है, लेकिन एक अच्छी खबर भी है. संपर्क रहित शिक्षा के क्षेत्र में BasicFirst के कार्यक्रम आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं. इसके एपटीट्यूड बेस्ड, कस्टमाइज़्ड मॉड्यूल्स के साथ छात्र अपने भविष्य को फिर से नियंत्रित करने के साथ ही देश के किसी भी कोने से वर्चुअली अपनी शिक्षा जारी रख सकते हैं.

Photo by Wes Hicks on Unsplash




इनका शोध-समर्थित लर्निंग मॉडल एक सुपर स्मार्ट करिकुलम पर आधारित है जो हर छात्र के कौशल और लक्ष्यों को योजना के केंद्र में रखता है. यह खासतौर पर डिज़ाइन किया गया पाठ्यक्रम है जो BasicFirst को अन्य ई-लर्निंग प्रोग्राम से बेहतर बनाता है और आपको सबसे अच्छा परिणाम देता है.
एक सुपर स्मार्ट पाठ्यक्रम
यह एक तरह का लर्निंग मॉड्यूल है जो खासतौर पर इस तरह डिज़ाइन किया गया है जिससे हर छात्र को चुनौतियों का सामना करने और अपनी क्षमता का इस्तेमाल करने में मदद मिले.

पर्सनलाइज़्ड टीचिंग मेथड्स और सावधानी पूर्वक सेल्फ स्टडी की आदत बनाने पर आधारित यह सेल्फ पेसड मॉड्यूल सुनिश्चित करता है कि छात्रों को बिना हड़बडडी के महत्वपूर्ण अवधारणाओं को अच्छी तरह समझने और आत्मसात करने का समय मिले. अनुभवी ‘ऐड्यू कोच’ अवधारणाओं को समझने के लिए छोटे टुकड़ों में तोड़कर और छात्रों के किसी भी संदेह को धैर्यपूर्वक दूर करके सीखने की प्रक्रिया को आसान बनाते हैं.

Photo by Steve Halama on Unsplash


व्यक्तिगत योजना क्यों महत्वपूर्ण है
एक छात्र, एक कोच: हर छात्र के लिए एक कोच नियुक्त किया जाता है, जो व्यक्तिगत रूप से उनका मार्गदर्शन करता है कि कैसे पढ़ना है, हर दिन क्या पूरा करना है और उनकी पूरी प्रगति पर नज़र रखता है. चेक और बैलेंस सीरिज के माध्यम से, पाठ्यक्रम को ट्विस्ट करके इस तरह विकसित किया गया है जिससे छात्र को आत्मविश्वास और व्यक्तिगत स्तर पर सहयोग मिले.

इसके अलावा, अब प्रत्येक छात्र देश के शीर्ष IIT और IIM के ट्यूटर्स और मेंटर्स तक आसानी से पहुंच सकते है, जो उनके हर संदेह को दूर करने में मदद करेंगे. सहयोगी, जानकार और बेहद धैर्यवान, शिक्षकों की एक अद्भुत टीम हमेशा बस एक फोन कॉल की दूरी पर है. चीजों को और भी आसान बनाने के लिए, उन तक ऐप, वॉयस या वीडियो कॉल के ज़रिए भी पहुंचा जा सकता है.

एक अवधारणा, एक सवाल: अनुभवी शिक्षक के रूप में BasicFirst समझता है कि हर छात्र की सीखने की ज़रूरत और तरीका अलग-अलग है. कुछ जहां विजुअल और ऑडिटरी कार्यक्रम में अच्छा प्रदर्शन करते हैं, तो कुछ पढ़ने और लिखने पर आधारित पाठ योजना में बेहतर कर सकते हैं. हर कोर्स को सब टॉपिक और सहायक गतिविधियों में बांट दिया गया है जिससे छात्र जटिल विषयों को भी मज़ेदार तरीके से और आसानी से समझ पाएं.

सफलता के लिए प्रतिबद्ध
चाहे आप IIT या मेडिकल कोर्स के लिए पढ़ाई कर रहे हों या विभिन्न राज्यों में कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षा जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं में आपको मदद की ज़रूरत हो, BasicFirst के शिक्षकों की टीम समझती है कि क्या दांव पर है. यही कारण है कि छात्रों के पास हर चरण, स्तर पर आगे बढ़ने और चुनौती से निपटने के लिए हमेशा एक मार्गदर्शक होगा.

Photo by Baim Hanif on Unsplash


शिक्षकों का लक्ष्य छात्रों को सिर्फ पढ़ाई शुरू करने के लिए कहने की बजाय उन्हें समझना है. SWOT एनालिसिस, प्री असेसमेंट और पोस्ट असेसमेंट के आधार पर लगातार रिपोर्टिंग के साथ, पाठ्यक्रम सामग्री को इस तरह ट्विस्ट और प्लान किया गया है ताकि बेहतर परिणाम की गारंटी मिल सके. इसलिए, यदि आप अपने ग्रेड को अच्छा बनाने और बेहतर तरीके से सीखने का सही तरीका खोज रहे हैं, तो यह आपके लिए सबसे अच्छी बाज़ी साबित होगी.

आज ही नामांकन करने और BasicFirst के बारे में अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें.

(यह पार्टनर्ड पोस्ट है.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज