जेल में बीती जवानी फिर 21 साल बाद हत्या के मामले से बरी

ओडिशा हाईकोर्ट (Odisha High Court) ने हत्या के एक मामले में 21 साल और नौ महीने तक जेल की सजा काटने के बाद साधु प्रधान को बरी कर दिया.

News18Hindi
Updated: August 24, 2019, 5:08 AM IST
जेल में बीती जवानी फिर 21 साल बाद हत्या के मामले से बरी
21 साल जेल में बिताने के बाद हत्या के मामले से बरी
News18Hindi
Updated: August 24, 2019, 5:08 AM IST
जवानी, जिंदगी का वो पड़ाव होता है जब जिंदगी में कुछ बनने का जज्बा पैदा होता है. लेकिन अगर किसी की जवानी जेल की दीवारों के भीतर कैदी बनकर गुजर जाए और फिर दो दशक बीतने के बाद एक दिन उसे रिहा कर दिया जाए और बताया जाए कि पर्याप्त सबूत नहीं मिले, इसलिए उन्हें रिहा किया जाता है. ऐसा ही एक मामला ओडिशा के रहने वाले साधु प्रधान के साथ हुआ. ओडिशा हाईकोर्ट (Odisha High Court) ने हत्या के एक मामले में 21 साल और नौ महीने तक जेल की सजा काटने के बाद साधु प्रधान को बरी कर दिया.

हाईकोर्ट (High Court) ने साधु प्रधान को तुरंत जेल से रिहा किए जाने का आदेश दिया है. गंजम जिले के कंटापाड़ा गांव के निवासी साधु प्रधान को एक महिला की हत्या के मामले में नवंबर 1997 में गिरफ्तार किया गया था. जिला अदालत ने उसे अगस्त 1999 में आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी.

जुलाई में हुई थी सुनवाई पूरी
निचली अदालत के फैसले के खिलाफ उसकी एक याचिका उच्च न्यायालय में न्यायाधीश एस के मिश्रा और ए के मिश्रा की अदालत में लंबित थी. जिसने जुलाई में इस मामले में सुनवाई पूरी की.

हत्या की नहीं थी कोई वजह
हाईकोर्ट ने सोमवार को दिए अपने फैसले में प्रधान को बरी करते हुए कहा कि निचली अदालत ने सबूतों को उचित परिदृश्य में नहीं देखा. कोर्ट ने कहा कि अभियोजन पक्ष हत्या के पीछे के मकसद का पता लगाने में नाकाम रहा.

ये भी पढ़ें-
Loading...

पति करता था शक, मां ने कर दी 8 माह के बच्चे की हत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्राइम टीवी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 24, 2019, 5:08 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...