आदर पूनावाला ने अब कोरोना वैक्‍सीन पर PM मोदी के दृष्टिकोण को सराहा, कहा- आपके इंतजाम भारतीयों का ख्‍याल रखेंगे

आदर पूनावाला ने पीएम मोदी के दृष्टिकोण की अब तारीफ की.
आदर पूनावाला ने पीएम मोदी के दृष्टिकोण की अब तारीफ की.

सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) हैं आदर पूनावाला (Adar Poonawalla). एसआईआई द्वारा ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ मिलकर कोरोना वायरस के संभावित टीके का उत्पादन कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2020, 3:30 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) आदर पूनावाला (Adar Poonawalla) ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के उस दृष्टिकोण की साराहना की है, जिसमें उन्‍होंने आश्‍वासन दिया था कि वैश्विक स्‍तर पर कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Vaccine) से लड़ाई में भारत हरसंभव सकारात्‍मक कदम उठाएगा. इससे पहले आदर पूनावाला ने सवाल किया था कि क्‍या कोरोना वैक्‍सीन खरीदने और उसके वितरण के लिए सरकार 80 हजार करोड़ रुपये का इंतजाम करेगी.

रविवार को आदर पूनावाला ने पीएम मोदी का एक ट्वीट शेयर किया और लिखा, 'वैश्विक समुदाय तक कोरोना वैक्‍सीन पहुंचाने के आपके विजन की हम सराहना करते हैं नरेंद्र मोदी जी. यह भारत के लिए गर्व की बात है. आपके नेतृत्‍व और समर्थन के लिए धन्‍यवाद. यह पूरी तरह साफ है कि आपकी ओर से भारतीयों के लिए किए गए इंतजाम उनका ख्‍याल रखेंगे.'
बात दें कि इससे पहले आदर पूनावाला ने सवाल किया था कि क्या सरकार कोरोना वायरस के टीके को खरीदने और उसके वितरण के लिए 80,000 करोड़ रुपये का इंतजाम करेगी. एसआईआई द्वारा ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ मिलकर कोरोना वायरस के संभावित टीके का उत्पादन कर रही है. पूनावाला ने ट्वीट किया था, 'झटपट सवाल: क्या भारत सरकार के पास अगले एक साल के दौरान 80,000 करोड़ रुपये उपलब्ध होंगे? भारत में सभी के लिए टीका खरीदने और उसका वितरण करने के लिए इतनी राशि की जरूरत होगी.'

उन्होंने इसमें प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को भी टैग किया था. पूनावाला ने कहा कि अगली यह चुनौती है जिससे हमें जूझना होगा. उन्होंने कहा था, 'मैं यह सवाल इसलिए पूछ रहा हूं क्योंकि भारत और विदेश के वैक्सीन विनिर्माता खरीद और वितरण के मामले में हमारे देश की जरूरत को पूरा कर पाएं, इसके लिए योजना और दिशा की जरूरत है.' एसआईआई ने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के जेनर इंस्टिट्यूट द्वारा विकसित संभावित टीके का ब्रिटेन-स्वीडन की फार्मा कंपनी एस्ट्रजेनेका के साथ सहयोग में निर्माण के लिए करार किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज