Assembly Banner 2021

टीएमसी नेता के घर में मिली ईवीएम तो पंचायत चुनाव के हवाले कांग्रेस ने TMC पर जड़ा आरोप

पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी. (फाइल फोटो)

पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी. (फाइल फोटो)

West Bengal Assembly Election 2021: दिलचस्प ये है कि अधीर रंजन चौधरी टीएमसी पर चुनाव को प्रभावित करने का आरोप लगा रहे हैं तो टीएमसी केंद्र सरकार पर आरोप लगा रही है.

  • Share this:
नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने तृणमूल कांग्रेस पर बड़ा आरोप लगाया है. चौधरी का आरोप है कि प्रशासन सत्ताधारी पार्टी के पक्ष में मतदान कर रहा है. यही वजह है कि पिछले पंचायत चुनाव में 34 फीसदी वोटर मतदान नहीं कर पाए और इसका परिणाम ये हुआ कि सत्ताधारी पार्टी को 20 हजार सीटों पर सीधे जीते मिली. दरअसल अरिंदम चौधरी का बयान टीएमसी नेता के घर में ईवीएम और वीवीपैट मशीनें पाए जाने के बाद आया है. दिलचस्प ये है कि अधीर रंजन चौधरी टीएमसी पर चुनाव को प्रभावित करने का आरोप लगा रहे हैं तो टीएमसी केंद्र सरकार पर आरोप लगा रही है.

ममता ने लगाया आरोप
बता दें कि प्रदेश की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी ने ‘‘मतदाताओं को प्रभावित’’ करने के लिये केंद्रीय बलों का ‘‘जबरदस्त दुरूपयोग’’ किये जाने का आरोप लगाया है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘लगातार हमारी ओर से मसले को उठाये जाने के बावजूद यहां केंद्रीय बलों का जबरदस्त दुरूपयोग जारी है और निर्वाचन आयोग लगातार मूक दर्शक बना हुआ है. कई स्थानों पर इन बलों का दुरूपयोग तृणमूल कांग्रेस के मतदाताओं एवं अन्य लोगों को एक पार्टी के पक्ष में प्रभावित करने के लिये किया जा रहा है.’’

Youtube Video

ममता ने बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस समर्थकों के बीच गोघाट विधानसभ क्षेत्र में हुए संघर्ष की एक तस्वीर भी साझा की है. तृणमूल कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुये और डायमंड हार्बर से भगवा पार्टी के उम्मीदवार दीपक हलदर ने आरोप लगाया कि उनकी पूर्व पार्टी मतदाताओं को मतदान केंद्रों पर नहीं आने दे रही है. उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘तृणमूल के कार्यकर्ता बीजेपी समर्थकों को आने तथा निष्पक्ष रूप से मतदान नहीं करने दे रहे हैं, और दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से केंद्रीय बल मूक दर्शक बने हुये हैं.’’


सत्तारूढ़ दल ने हलदर के आरोपों को ‘‘निराधार’’ करार दिया है.

प्रदेश की धनेखली सीट पर राज्य सरकार के मंत्री असीम पात्रा ने बीजेपी समर्थकों पर लोगों को मतदान केंद्रों पर आने से रोकने का आरोप लगाया है जिसे भगवा पार्टी ने खारिज कर दिया है. इस बीच पुलिस ने बताया कि हुगली जिले में मतदान शुरू होने से पहले एक बीजेपी समर्थक के परिवार के सदस्य की कथित रूप से हत्या कर दी गयी. हावड़ा जिले की उलूबेरिया उत्तर विधानसभा सीट से तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवार के घर से चार ईवीएम मशीन और इतनी ही संख्या में वीवीपैट मशीन बरामद की गयी हैं जिसके बाद एक चुनाव अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है.

बंगाल में तीसरे चरण का मतदान
बता दें कि पश्चिम बंगाल में मंगलवार को तीसरे चरण के लिये जारी मतदान के बीच कुछ स्थानों पर छिटपुट हिंसा की खबरें आई हैं, लेकिन कुल मिलाकर स्थिति शांतिपूर्ण है और पूर्वाह्न 11 बजे तक 34.71 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर लिया है. चुनाव आयोग के मुताबिक प्रदेश के दक्षिण 24 परगना जिले (भाग दो) की 16 सीटों पर, हावड़ा (भाग एक) की सात सीटों पर और हुगली (भाग एक) की आठ सीटों पर मतदान कोविड-19 प्रोटोकॉल के सख्त पालन के साथ जारी है.

निर्वाचन आयोग के एक अधिकारी ने बताया कि पूर्वाह्न 11 बजे तक 31 विधानसभा सीटों पर 34.71 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज