• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Afghanistan Crisis: काबुल में फंसे भारतीयों को निकालेंगे 6 देश, कतर समेत इन देशों ने जताई सहमति

Afghanistan Crisis: काबुल में फंसे भारतीयों को निकालेंगे 6 देश, कतर समेत इन देशों ने जताई सहमति

काबुल में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए सरकार द्वारा लगातार कदम उठाए जा रहे हैं. फाइल फोटो

काबुल में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए सरकार द्वारा लगातार कदम उठाए जा रहे हैं. फाइल फोटो

Afghanistan Crisis: विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने शनिवार को अपने समकक्ष जर्मनी के विदेश मंत्री हीको मास के साथ बातचीत की और अफगानिस्तान से लोगों को निकालने की प्रक्रिया पर बात की.

  • Share this:

    नई दिल्ली. अमेरिका, ब्रिटेन, संयुक्त अरब अमीरात, फ्रांस, जर्मनी और कतर ने अपने भारतीय नागरिकों (Indian Nationals) को अफगानिस्तान (Afghanistan Crisis) से निकालने पर सहमति जताई है. ये भारतीय नागरिक इन 6 देशों के लिए अफगानिस्तान में काम कर रहे थे. बाद में भारत सरकार इन नागरिकों को वापस स्वदेश लाएगी. माना जा रहा है कि इससे अफगानिस्तान (Afghanistan Crisis) में फंसे लोगों को निकालने के काम में आसानी होगी. बता दें कि सोमवार को अफगानिस्तान से 146 भारतीय नागरिकों को काबुल से दोहा ले जाया गया, जबकि 78 अन्य नागरिकों को काबुल से एयरफोर्स के C-130 विमान के जरिए निकाला गया.

    हालांकि काबुल एयरपोर्ट पर फायरिंग की घटना के बाद कोई अन्य विमान उड़ान नहीं भर सका. फायरिंग की इस घटना में पश्चिमी देशों की सेनाओं के लिए काम कर रहा, एक अफगानी सुरक्षा गार्ड मारा गया, जिसकी वजह से एयरपोर्ट पर भगदड़ मच गई. वहीं मंगलवार को भी काबुल से एक फ्लाइट ने उड़ान भरी और कई सारे हिंदू और सिख लोगों को भारत लेकर आई. आधिकारिक सूत्रों के हवाले से टाइम्स ऑफ इंडिया ने जानकारी दी है कि अफगानिस्तान से निकासी की प्रक्रिया में भारतीय नागरिकों को प्राथमिकता दी जा रही है.

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल के साथ फोन पर अफगानिस्तान की स्थिति को लेकर चर्चा की. दोनों नेताओं ने बातचीत में अफगानिस्तान में शांति और सुरक्षा की स्थिति पर चर्चा की और काबुल में फंसे लोगों को निकालने को प्राथमिकता देने पर सहमति जताई. मोदी और मर्केल ने इस पर भी सहमति जताई कि अफगानिस्तान की सुरक्षा स्थिति का प्रभाव क्षेत्रीय और वैश्विक सुरक्षा व्यवस्था पर भी पड़ेगा.

    इससे पहले विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने शनिवार को अपने समकक्ष जर्मनी के विदेश मंत्री हीको मास के साथ बातचीत की और अफगानिस्तान से लोगों को निकालने की प्रक्रिया पर बात की. वहीं पिछले हफ्ते न्यूयॉर्क दौरे के दौरान फ्रांस के विदेश मंत्री जीन वेस ली ड्रियन के साथ भी एस. जयशंकर ने बात की और अफगानिस्तान की स्थिति पर चर्चा की.

    पढ़ेंः गनी के भाई हशमत बोले- तालिबान को कंट्रोल करने के लिए PAK के पास नहीं है पैसे

    जर्मनी की सेना ने एक दिन पहले इस बात की पुष्टि की थी कि काबुल एयरपोर्ट पर हुई फायरिंग की घटना में अमेरिका और जर्मनी की सेनाएं भी शामिल थीं. सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक काबुल एयरपोर्ट पर हिंसक संघर्ष तब शुरू हुआ, जब एयरपोर्ट के बाहर से एक स्नाइपर ने अफगान गॉर्ड्स को निशाना बनाया, जोकि अमेरिकी फौजों की मदद कर रहा था. फायरिंग में तीन अफगान गॉर्ड घायल हुए हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज