31 साल बाद हिज्बुल आतंकियों से मुक्त हुआ त्राल, जून में मारे गए 46 आतंकवादी

31 साल बाद हिज्बुल आतंकियों से मुक्त हुआ त्राल, जून में मारे गए 46 आतंकवादी
जम्मू-कश्मीर में इस महीने 15 एनकाउंटर में अब तक 46 आतंकी मारे जा चुके हैं.

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) पुलिस की ओर से गुरुवार को त्राल सेक्टर में तीन आतंकवादियों (Terrorists) के मारने के बाद दावा किया गया है कि दशकों के बाद इस क्षेत्र में हिज्बुल मुजाहिद्दीन (Hizbul Mujahideen) की कोई उपस्थिति नहीं रही.

  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में भारतीय सुरक्षाबलों की चौकसी के चलते दहशतगर्दों की शामत आ चुकी है. इसे भारतीय सुरक्षाबलों (Indian security forces) की सतर्कता का नतीजा ही कहेंगे कि आतंकियों (Terrorists) का गढ़ कहे जाने वाले दक्षिण कश्मीर (south kashmir) के पुलवामा सेक्टर अब आतंकियों से मुक्त हो चुका है. बता दें कि पिछले कुछ दिनों में जिस तरह से भारतीय सुरक्षाबलों ने आतंकियों को मुठभेड़ में मार गिराया है उसके बाद से कश्मीर के त्राल क्षेत्र में हिज्बुल मुजाहिद्दीन का एक भी सक्रिय आतंकवादी नहीं बचा है. जम्मू-कश्मीर पुलिस की ओर से गुरुवार को त्राल सेक्टर में तीन आतंकवादियों के मारने के बाद दावा किया गया है कि दशकों के बाद इस क्षेत्र में हिज्बुल मुजाहिद्दीन की कोई उपस्थिति नहीं रही.

दक्षिण कश्मीर के पुलवामा ​सेक्टर एक समय में आतंकियों को ठिकाना था. यहां के त्राल से आतंकी कमांडर बुरहान वानी और जाकिर मूसा जैसे दहशतगर्द आतंकी गतिविधियों को अंजाम दिया करते थे. हालांकि भारतीय सुरक्षाबलों इन दोनों को पहले ही मार गिराया था. शुक्रवार को त्राल के चेवा उल्लार इलाके में 3 आतंकी ढेर किए जाने के बाद कश्मीर जोन के आईजी विजय कुमार ने बताया कि अब इस इलाके में हिज्बुल मुजाहिद्दीन का एक भी सक्रिय आतंकवादी नहीं बचा है. उन्होंने बताया कि 1989 से त्राल में आतंकी सक्रिय थे, लेकिन अब यहां के सारे आतंकी मारे जा चुके हैं.

गौरतलब है कि पुलिस को खुफिया जानकारी मिली थी कि अवंतीपोरा के त्राल में कुछ आतंकी छुपे हुए हैं और किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने की योजना बना रहे हैं. गुरुवार शाम सेना, सीआरपीएफ और पुलिस ने एक टीम ने इलाके में तलाशी अभियान चलाया. सेना के बिग्रेडियर वी महादेवन ने बताया कि हमने आतंकियों को सरेंडर करने के लिए कहा था लेकिन उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी. जवाबी कार्रवाई में 3 आतंकवादी मारी गए.



इसे भी पढ़ें :- जम्मू-कश्मीर में सरकार के खिलाफ किशोरों को भर्ती करते हैं सशस्त्र समूह : अमेरिकी रिपोर्ट
जून में अब तक 15 एनकाउंटर में 46 आतंकी ढेर
भारतीय सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हर दिन कहीं न कहीं मुठभेड़ हो रही है. जम्मू-कश्मीर में इस महीने 15 एनकाउंटर में अब तक 46 आतंकी मारे जा चुके हैं. गुरुवार को ही बारामूला के सोपोर इलाके में भी 2 आतंकी मारे गए थे. आतंकियों को मारने के साथ उनके मददगारों को भी पकड़ने का सिलसिला जारी है. बडगाम के नरबल इलाके में बुधवार को लश्कर-ए-तैयबा के 5 मददगारों को गिरफ्तार किया था.

इसे भी पढ़ें :- वीजा देकर कश्मीरी युवाओं को आतंक की ट्रेनिंग पर भेज रहा पाक उच्चायोग: रिपोर्ट

IED धमाका एक गंभीर खतरा बनता जा रहा है
कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार के मुताबिक भारतीय सुरक्षाबल के जवान आतंकियों का सफाया करने में लगे हुए हैं लेकिन उनपर भी खतरा कम नहीं है. खुफिया जानकारी के मुताबिक सेना को आईईडी हमलों या धमाकों की संभावनाओं को लेकर अलर्ट किया गया है. उन्होंने कहा कि खुफिया जानकारी के मुताबिक आतंकवादी इस हमले के लिए कार का इस्तेमाल कर धमाका कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading