कब तक कांग्रेस की कमान संभालेंगी सोनिया, राहुल को इस्तीफा वापस लेना होगा: शशि थरूर

कब तक कांग्रेस की कमान संभालेंगी सोनिया, राहुल को इस्तीफा वापस लेना होगा: शशि थरूर
10 अगस्त 2019 को कार्यसमिति ने सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष चुना था.

कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने कहा, 'अब हमें पार्टी के नेतृत्व को आगे बढ़ाने के बारे में स्पष्ट होना चाहिए. मैंने पिछले साल अंतरिम अध्यक्ष के तौर पर सोनिया जी की नियुक्ति का स्वागत किया था, लेकिन मेरा मानना है कि उनसे अनिश्चितकाल तक इस जिम्मेदारी को उठाने की उम्मीद करना उचित नहीं होगा.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 11:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस (Congress) के नेतृत्व को लेकर अभी तक कोई फैसला नहीं होने के मद्देनजर सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) अंतरिम अध्यक्ष का कार्यकाल पूरा होने के बाद भी पार्टी की कमान अभी संभालती रहेंगी. सोनिया के दोबारा अंतरिम अध्यक्ष बनने के बाद से पार्टी के अंदर से ही आवाज उठने लगी है. कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने कहा, 'अब हमें पार्टी के नेतृत्व को आगे बढ़ाने के बारे में स्पष्ट होना चाहिए. मैंने पिछले साल अंतरिम अध्यक्ष के तौर पर सोनिया जी की नियुक्ति का स्वागत किया था, लेकिन मेरा मानना है कि उनसे अनिश्चितकाल तक इस जिम्मेदारी को उठाने की उम्मीद करना उचित नहीं होगा.'

न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत करते हुए शशि थरूर ने कहा, यदि राहुल गांधी नेतृत्व को फिर से शुरू करने के लिए तैयार हैं, तो उन्हें केवल अपना इस्तीफा वापस लेना होगा. मुझे लगता है कि पार्टी कार्यकर्ता, कांग्रेस कार्य समिति और हर कोई यह स्वीकार करेगा, क्योंकि वह दिसंबर 2017 में निर्वाचित अध्यक्ष थे. अगर वह कहते हैं कि वो वापस पार्टी की कमान को संभालना नहीं चाहते हैं. तो बात अलग होगी. शशि थरूर ने कहा कि सिर्फ मैं ही नहीं बल्कि पार्टी का हर नेता यह सवाल पूछ रहा है कि आखिरकार कब तक ऐसा ही चलता रहेगा.

पार्टी में नई जान फूंकने की जरूरत
थरूर ने कहा कि एक पूर्णकालिक अध्यक्ष तलाशने की प्रक्रिया में तेजी लाकर कांग्रेस द्वारा फौरन इस मुद्दे का समाधान करने की जरूरत है. इसे एक भागीदारीपूर्ण और लोकतांत्रिक प्रक्रिया से किया जाए जो विजेता उम्मीदवार को वैध अधिकार एवं विश्वसनीयता प्रदान करे, जो पार्टी में सांगठनिक एवं संरचनागत स्तर पर नई जान फूंकने के लिए बहुत जरूरी है.
इससे पहले पीटीआई भाषा से बातचीत करते हुए थरूर ने कहा था, 'एक भागीदारीपूर्ण लोकतांत्रिक प्रक्रिया भावी नेतृत्व की विश्वसनीयता और वैधता को मजबूती प्रदान करेगी, जो एक महत्वपूर्ण चीज होगी क्योंकि वह पार्टी में नयी ऊर्जा का संचार करने के साथ सांगठनिक चुनौतियों से उत्साहपूर्ण तरीके से निपटेगी. थरूर ने कहा कि व्यापक तर्क किसी व्यक्ति विशेष के बारे में नहीं है, बल्कि एक प्रक्रिया या प्रणाली की हिमायत करने के बारे में है, जिसके जरिए कांग्रेस नेतृत्व के मौजूदा मुद्दे का हल कर सकती है और फिर पार्टी में नयी जान फूंक सकती है तथा राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी में नयी ऊर्जा का संचार कर सकती है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading