लाइव टीवी

किसी की हिम्मत नहीं कि भारत का बंटवारा कर दे: रविशंकर प्रसाद

News18Hindi
Updated: December 10, 2019, 3:25 AM IST
किसी की हिम्मत नहीं कि भारत का बंटवारा कर दे: रविशंकर प्रसाद
रविशंकर प्रसाद ने असदुद्दीन ओवैसी की विधेयक फाड़ने पर आलोचना की है (फाइल फोटो)

असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) के इस कदम का विरोध करते हुए केंद्रीय कानून मंत्री और बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा कि किसी की हिम्मत नहीं है कि वह भारत का पार्टीशन (बंटवारा) कर दे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 10, 2019, 3:25 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय संसद में नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 (Citizenship Amendment Bill, 2019) को लेकर गहमागहमी भरी चर्चा हुई. इस दौरान AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी  (Asaduddin Owaisi) ने इस विधेयक को भारत का एक और बंटवारा करने की कोशिश बताते हुए विधेयक की प्रति को फाड़ दिया. उनके इस कदम पर बीजेपी (BJP) की ओर से तीखी प्रतिक्रिया आई.

असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) के इस कदम का विरोध करते हुए केंद्रीय कानून मंत्री और बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा है कि किसी की हिम्मत नहीं है कि वह भारत का पार्टीशन (बंटवारा) कर दे.

देश को कोई तोड़ नहीं सकता: कानून मंत्री
केंद्रीय कानून मंत्री (Union Law Minister) और बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा है कि किसी की हिम्मत नहीं है, जो भारत का पार्टीशन (Partition) कर दे. ये देश मजबूत है. हिंदू (Hindu), मुस्लिम, सिख, ईसाई, सब मिलकर साथ रहते हैं और इस देश को आगे बढ़ाते हैं. अब इस देश को कोई तोड़ नहीं सकता.



ओवैसी ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया था देश को बांटने वाला
इससे पहले AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 (Citizenship Amendment Bill, 2019) के बारे में कहा था कि ये देश में एक और पार्टीशन (बंटवारा) होने जा रहा है... यह बिल भारत के संविधान (Constitution) के विरुद्ध है और हमारे स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान करता है. मैं बिल को फाड़ता हूं, यह हमारे देश को बांटने की कोशिश कर रहा है.

यह भी पढ़ें: लोकसभा: ओवैसी ने फाड़ी नागरिकता संशोधन बिल की कॉपी, बोले- इससे देश को खतरा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 11:28 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर