होम /न्यूज /राष्ट्र /

Karnataka New CM: पिता भी रहे सीएम, येदियुरप्पा के भी खासमखास- जानिए कौन हैं CM बसवराज बोम्मई?

Karnataka New CM: पिता भी रहे सीएम, येदियुरप्पा के भी खासमखास- जानिए कौन हैं CM बसवराज बोम्मई?

बीएस येदियुरप्‍पा की जगह अब बसवराज बोम्‍मई होंगे कर्नाटक के नए सीएम. (File pic)

बीएस येदियुरप्‍पा की जगह अब बसवराज बोम्‍मई होंगे कर्नाटक के नए सीएम. (File pic)

जनता दल (Janata Dal) से राजनीतिक करियर की शुरुआत करने वाले बसवराज बोम्मई (Basavaraj Bommai) सादर लिंगायत समुदाय से आते हैं. बोम्‍मई को कर्नाटक (Karnataka) के पूर्व मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा (BS Yediyurappa) का बेहद करीबी माना जाता है और वह सरकार में गृहमंत्री भी रह चुके हैं.

अधिक पढ़ें ...
    बेंगलूरु. कर्नाटक (Karnataka) के नए मुख्‍यमंत्री को लेकर बीजेपी आलाकमान में चल रहा मंथन अब खत्‍म हो चुका है. कर्नाटक के पूर्व मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा (BS Yediyurappa) की जगह अब बसवराज बोम्‍मई (Basavaraj Bommai) राज्‍य के नए मख्‍यमंत्री होंगे. भारतीय जनता पार्टी की विधायक दल की बैठक के बाद भाजपा केंद्रीय नेतृत्व के पर्यवेक्षक केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मंगलवार को यह ऐलान किया. ऐसी खबर है कि युदियुरप्‍पा ने ही बसवराज बोम्‍मई का नाम बीजेपी आलाकमान के सामने रखा था. बसवराज बोम्‍मई को केएस ईश्‍वरप्‍पा और बाकी विधायकों का समर्थन भी प्राप्‍त है.

    जनता दल से राजनीतिक करियर की शुरुआत करने वाले बसवराज बोम्मई सादर लिंगायत समुदाय से आते हैं. बोम्‍मई को येदियुरप्‍पा का बेहद करीबी माना जाता है और वह सरकार में गृहमंत्री भी रह चुके हैं. 28 जनवरी 1960 को जन्‍में बसवराज बोम्मई के पिता एसआर बोम्मई भी कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में राज्‍य की सेवा कर चुके हैं. बसवराज बोम्‍मई ने साल 2008 में भारतीय जनता पार्टी का हाथ थामा था. बीजेपी में आने के बाद से उनका करियर तेजी से आगे बढ़ा. वह पहले राज्य सरकार में जल संसाधन मंत्री रहे हैं. उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत जनता दल के साथ की थी.

    बसवराज बोम्‍मई पेशे से मैकेनिकल इंजीनियर है और उन्‍होंने टाटा समूह से अपने कॅरियर की शुरुआत की थी. बसवराज दो बार एमएलसी और तीन बार विधायक रहे हैं. साल 2008 में जनता दल (यूनाइटेड) छोड़ने के बाद वह बीजेपी में शामिल हुए और हावेरी जिले के शिगगांव निर्वाचन क्षेत्र से कर्नाटक विधानसभा के लिए चुने गए. इसके पहले वह साल 1998 और 2004 में धारवाड़ स्थानीय प्राधिकरण निर्वाचन क्षेत्र से कर्नाटक विधानपरिषद के सदस्य के रूप में चुने गए थे.

    इसे भी पढ़ें :- येडियुरप्पा को आखिर क्यों देना पड़ गया कर्नाटक के सीएम पद से इस्तीफा? जानें 7 वजह

    गौरतलब है कि येडियुरप्पा ने अपने कार्यकाल के दो वर्ष पूरे होने के दिन सोमवार को पद से इस्तीफा दे दिया था. येडियुरप्पा (78) ने 26 जुलाई को राजभवन में गहलोत को इस्तीफा सौंपा था. उन्होंने बताया था कि उनका त्याग पत्र स्वीकार कर लिया गया है और उन्होंने ‘स्वेच्छा से’ इस्तीफा दिया है. दक्षिण भारत में भाजपा की पहली सरकार बनवाने में मुख्य भूमिका निभाने वाले येडियुरप्पा ने चार बार राज्य का नेतृत्व किया. येदियुरप्पा ने चार अलग-अलग कार्यकालों के जरिए कुल 1,901 दिनों के लिए पद संभाला.

    इसे भी पढ़ें :- जानें येडियुरप्पा के उस बेटे के बारे में, जो उनके इस्तीफे की बड़ी वजह बने

    बसवराज बोम्‍मई को सीएम बनाए जाने पर येदियुरप्‍पा ने क्‍या कहा
    बोम्मई को मुख्यमंत्री पद के लिए चुने जाने पर कर्नाटक के कार्यवाहक सीएम बीएस येडियुरप्पा ने खुशी जताई. उन्होंने कहा, 'हमने सर्वसम्मति से बसवराज एस बोम्मई को भाजपा विधायक दल का नेता चुना है. मैं पीएम मोदी को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद देता हूं. पीएम के नेतृत्व में, वह (बोम्मई) कड़ी मेहनत करेंगे.' वहीं, कर्नाटक भाजपा नेता के सुधाकर ने कहा कि बोम्मई को सीएम बनाने का फैसला सभी विधायकों ने सर्वसम्मति से लिया. उन्होंने कहा, 'बोम्मई को पार्टी से ही नहीं, बल्कि पार्टी के बाहर से भी सम्मान मिलता है.'undefined

    Tags: Bharatiya janata party, BS Yediyurappa, Dharmendra Pradhan, Karnataka

    अगली ख़बर