लाइव टीवी

JNU हिंसा: सुरक्षा के डर से कई छात्राओं ने कैंपस छोड़ा

भाषा
Updated: January 7, 2020, 4:32 AM IST
JNU हिंसा: सुरक्षा के डर से कई छात्राओं ने कैंपस छोड़ा
JNU हिंसा के बाद छात्राएं हॉस्टल छोड़कर जा रही हैं (हॉस्टल में घुसकर धमकाते उपद्रवी, वीडियो ग्रैब)

छात्राओं को छात्रावास (Hostel) से अपने बैग लेकर बाहर निकलते देखा गया. दक्षिणी दिल्ली (South Delhi) स्थित विश्वविद्यालय परिसर से बाहर निकल रही कई छात्राओं ने कहा कि उनके परिजन रविवार को हुई हिंसा (Violence) के बाद उनकी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (Jawaharlal Nehru University) में रविवार रात हुई हिंसा के बाद छात्राएं सुरक्षा (Security) के डर से सोमवार को परिसर (Campus) छोड़ कर जाने लगीं. कुछ अपने घर लौट गईं और कुछ अपने रिश्तेदारों (Relatives) के यहां चली गई हैं.

उन्हें छात्रावास (Hostel) से अपने बैग लेकर बाहर निकलते देखा गया. दक्षिणी दिल्ली स्थित विश्वविद्यालय परिसर से बाहर निकल रही कई छात्राओं ने नाम गोपनीय रखने का आग्रह किया और कहा कि उनके परिजन रविवार को हुई हिंसा (Violence) के बाद उनकी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं.

छात्राओं में कुछ अपवाद भी देखने को मिले
कोयना छात्रावास की पंचम ने कहा कि वह अपनी सुरक्षा के डर से परिसर छोड़ रही हैं. उन्होंने कहा कि मेरे माता-पिता (Parents) मेरी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं और वह वापस हरियाणा जा रही हैं.

नेपाल (Nepal) की रहने वाली एक छात्रा ने कहा कि उसके माता-पिता ने उससे कैंपस छोड़ने को कहा है. हालांकि यहां कुछ अपवाद भी देखने को मिले जिन्होंने कहा कि वे परिसर छोड़ कर नहीं जाएंगी क्योंकि उनकी कुछ जिम्मेदारियां हैं.

पूरे देश में हुए जेएनयू हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन
इसके अलावा दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में हिंसा के खिलाफ वाम दलों के कार्यकर्ताओं और छात्र संगठनों ने ओडिशा, महाराष्ट्र और तमिलनाडु में सोमवार को सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन किया.भुवनेश्वर में प्रदर्शनकारियों नें हाथों में तख्तियां और बैनर ले रखे थे जिनमें ‘जेएनयू में गुंडागर्दी रोको’ और ‘लोकतंत्र बचाओ’ जैसे नारे लिखे हुए थे. इन्होंने शहर के विभिन्न हिस्सों में रैलियां निकालीं और भाजपा नीत केन्द्र सरकार के खिलाफ नारे लगाए. इससे पहले दिन में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) ने घटना की निंदा की.

महाराष्ट्र के पुणे में विभिन्न छात्र संगठनों और युवा संगठनों ने दिल्ली में जेएनयू में छात्रों पर हुए हमले के विरोध में सावित्रीभाई फुले पुणे विश्वविद्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया. महाराष्ट्र (Maharashtra) के मंत्री एवं कांग्रेस नेता विश्वजीत कदम ने घटना की निंदा की.

तमिलनाडु (Tamil Nadu) में भी छात्रों ने जेएनयू की घटना की निंदा की और इसके खिलाफ प्रदर्शन किया.

यह भी पढ़ें: जेएनयू में हुए हमले को बॉलीवुड की हस्तियों ने बताया 'डरावना'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 7, 2020, 4:32 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर