होम /न्यूज /राष्ट्र /KCR के थर्ड फ्रंड को मिला ममता-औवैसी का साथ; डीएमके, सपा, शिवसेना से बातचीत जारी

KCR के थर्ड फ्रंड को मिला ममता-औवैसी का साथ; डीएमके, सपा, शिवसेना से बातचीत जारी

ममता बैनर्जी (फाइल फोटो)

ममता बैनर्जी (फाइल फोटो)

थर्ड फ्रंट के सुझाव को ओवैसी के बाद लगातार दूसरे दल और नेता अपना अपना समर्थन देने में लगे हुए है, इस कड़ी में सबसे पहले ...अधिक पढ़ें

  • News18.com
  • Last Updated :

    एआईएमआई प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने जैसे ही तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (KCR) के थर्ड फ्रंट बनाने के विचार का स्वागत किया वैसे ही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी ने भी केसीआर के इस कदम को अपना पूरा समर्थन देने की बात कह डाली.

    केसीआर के मुताबिक भारतीय राजनीति में नए बदलाव की सख्त ज़रूरत है और उनके इस विचार से ममता बैनर्जी भी सहमत है. ममता बैनर्जी की केसीआर से फोन पर हुई बातचीत में उन्होंने कहा "हम आप से एक मत है, आपके साथ रहेंगें."

    रविवार को ही ओवैसी ने भी  कांग्रेस और बीजेपी के विकल्प लाने को  इस वक्त की ज़रूरत बताया "हमने शुरुआत में उनका विरोध किया लेकिन उन्होंने जिस तरह से अलग तेलंगाना राज्य हासिल किया इससे साफ है कि राव में वो राजनीतिक बुद्धिमत्ता है जिससे वो सभी रीजनल पार्टियों को साथ ला सकते हैं. क्षेत्रीय पार्टियां अगली सरकार बनाने में एक अहम भूमिका निभा सकती हैं."

    इसके अलावा झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी फोन करके केसीआर के राष्ट्रीय राजनीति में अहम भूमिका निभाने के फैसले का स्वागत किया.

    इतना ही नहीं महाराष्ट्र के दो सांसदों समेत कई प्रतिष्ठित लोगों ने तेलंगाना राष्ट्र समिति (TSR) नेता के प्रति समर्थन जाहिर किया है.

    तेलंगाना सीएम ने शनिवार को दिए अपने बय़ान में कहा था कि बीजेपी और कांग्रेस के आलावा एक नए विकल्प का जल्द ही उदय होगा जो कि भारतीय राजनीति में नए बदलाव लाएगा. उन्होंने कहा था, "मैं अभी 64 साल का हूं लेकिन यदि किसी राजनीतिक बदलाव के लिए कुछ मदद कर पाया तो ज़रूर करूंगा."

    सपा,डीएमके, शिवसेना से हो रही बात
    सूत्रों की मानें तो टीएसआर की समाजवादी पार्टी, डीएमके, शिवसेना और अन्य क्षेत्रीय पार्टियों से इस संबंध में बातचीत जारी है. बता दें कि शिवसेना बीजेपी से नाराज चल रही है और उसने अगले चुनाव में बीजेपी के साथ गठबंधन नहीं करने का फैसला किया है.वहीं आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री और तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने कुछ दिनों पहले टीएसआर के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ने के संकेत दिए थे.

    तेलंगाना के टीडीपी नेताओं से बात करते हुए नायडू ने कहा था कि बीजेपी ने तेलंगाना में टीडीपी के साथ अपने गठबंधन का एकतरफा फायदा उठाया और कांग्रेस ने भी राज्य के साथ न्याय नहीं किया. ऐसे में हमारे पास उस पार्टी के साथ जुड़ने का विकल्प है जिसने तेलंगाना को अलग राज्य बनाने की लड़ाई लड़ी, वह तेलंगाना राष्ट्र समिति है.

    नेता ही नहीं आम जनता भी कर रही सपोर्ट
    केवल राजनेता ही नहीं तेलंगाना के अलग-अलग हिस्सों से लोग केसीआर के सरकारी आवास- प्रगति भवन पहुंचकर अपना समर्थन दे रहे हैं. विभिन्न मंदिरों के पुरोहित, ब्राह्मण समुदाय के प्रतिनिधि, अलग-अलग मस्जिदों के मौलवी, सिखों-मुस्लिमों के प्रतिनिधि, ईसाई धर्म के प्रतिनिधि, बंजारे, आदिवासी और अन्य कई लोगों ने केसीआर को समर्थन दिया है. कई टीएसआर नेता, तेलंगाना के मंत्री, विधायक, सांसद और स्थानीय नेताओं ने प्रगति भवन पहुंचकर 'देश का नेता केसीआर' के नारे भी लगाए.

    ये भी पढ़ें:
    तेलंगाना सीएम को कर देना चाहिए थर्ड फ्रंट का आगाज़ः ओवैसी
    तेलंगाना के सीएम चंद्रशेखर ने दिया कांग्रेस-बीजेपी मुक्त भारत का नारा

    (news18.com के लिए साक्षी खन्ना)

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें