Assembly Banner 2021

पीएम मोदी के बाद CM नीतीश और नवीन ने भी लगवाई कोरोना वैक्सीन, बीजेपी के सांसद-विधायक पैसे देकर लगवाएंगे टीका

पीएम मोदी के बाद CM नीतीश और नवीन ने भी लगाई कोरोना वैक्सीन

पीएम मोदी के बाद CM नीतीश और नवीन ने भी लगाई कोरोना वैक्सीन

COVID-19 Vaccination 2.0 : सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी की ओर निर्देश दिया गया है कि साठ साल से ऊपर के मंत्री, सांसद और विधायक या फिर गंभीर बीमारी से पीड़ित 45 से अधिक उम्र वाले नेतागन अपने-अपने क्षेत्र में पैसे देकर टीका लगवाएंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण (COVID-19 Vaccination 2.0) का दूसरा चरण आज से शुरू हो गया है. इस चरण की शुरुआत होते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi Vaccination) सोमवार सुबह दिल्ली स्थित एम्स अस्पताल पहुंचे और उन्होंने कोवैक्सीन का पहला डोज लिया. पीएम को भारत बायोटेक और ICMR द्वारा निर्मित कोवैक्सीन की डोज दी गई है. पीएम मोदी के अलावा बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भी कोरोना वैक्सीन का पहला डोज़ लगवा लिया है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) भी आज कोरोना रोधी टीका लगएंगे. वहीं वरिष्ठ कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे का कहना है कि युवाओं को वैक्सीन दी जानी चाहिए.

पैसे देकर  टीका लगवाएं बीजेपी के सांसद और मंत्री
दूसरी ओर बीजेपी ने बताया है कि पार्टी के सारे मंत्री, सांसद और विधायक अगले एक सप्ताह में कोरोना का टीका लगवाएंगे. सूत्रों के मुताबिक, पार्टी की ओर निर्देश दिया गया है कि साठ साल से ऊपर के मंत्री, सांसद और विधायक या फिर गंभीर बीमारी से पीड़ित 45 से अधिक उम्र वाले नेतागन अपने-अपने क्षेत्र में पैसे देकर टीका लगवाएंगे.

बीजेपी सूत्रों के अनुसार पैसा देकर टीका लगवाने का निर्देश इसलिए दिया गया है, ताकि सरकारी अस्पतालों में केवल उन्हें ही मुफ्त टीका मिले जो इसकी कीमत नहीं चुका सकते. इसके साथ सभी से कहा गया है कि वे अपने-अपने क्षेत्रों में टीका लगवाएं, जिससे आम लोगों में टीके के प्रति भरोसा जगेगा.



बता दें सरकार ने बुधवार को घोषणा की थी कि 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों तथा किसी दूसरी बीमारी से ग्रसित 45 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों को एक मार्च से कोरोना वायरस रोधी टीका सरकारी केंद्रों पर नि:शुल्क लगाया जाएगा. निजी क्लिनिकों एवं केंद्रों पर उन्हें इसके लिए 250 रुपये तक का शुल्क देना पड़ेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज