उत्तर प्रदेश: सड़क छोड़ अब जातीय गणित के सहारे 2022 के विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटी कांग्रेस

उत्तर प्रदेश: सड़क छोड़ अब जातीय गणित के सहारे 2022 के विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटी कांग्रेस
प्रियंका गांधी

Congress Caste Politics: ऐतिहासिक रूप से अस्सी के दशक के मध्य से भारत की आजादी के बाद से, ब्राह्मण और दलित वोटर कांग्रेस का मूल आधार थे. ब्राह्मण, काफी हद तक हिंदुत्व की राजनीति के बढ़ते प्रभाव के तहत भाजपा में चले गए, जबकि दलित धीरे-धीरे बसपा की जाति-आधारित पहचान की राजनीति की ओर बढ़ गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 13, 2020, 1:07 PM IST
  • Share this:
(प्रियांशु मिश्रा)

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश में अगस्त के महीने में कांग्रेस पार्टी (Congress) बेहद शांत दिखी. सड़कों पर पार्टी की तरफ से कोई आंदोलन नहीं दिखा, जबकि इससे पहले पार्टी ने प्रवासी मजदूर (Migrant Workers) के मुद्दे पर योगी आदित्यनाथ की सरकार को जमकर घेरा था. दरअसल पिछले कुछ समय कांग्रेस अपने घर को दुरुस्त करने में लगी है. आंतरिक कलह से लेकर पुराने और नए नेताओं की लड़ाई, हर चीज को सुधारने की कोशिश की जा रही है. ऐसे में सवाल भी उठने लगे थे कि आखिर प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) कहा हैं? दरअसल इन दिनों आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता और सांसद संजय सिंह भाजपा सरकार के खिलाफ चौतरफा हमले के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं.

खास मिशन पर पार्टी
बता दें कि पार्टी में कम हलचल की वजह एक बड़ी रणनीति का हिस्सा है. ये चीजें सामने से दिख नहीं रही है, लेकिन लखनऊ में पार्टी के राज्य मुख्यालय में गतिविधियों का दौर लगातार चल रहा है. यहां इस काम को देख रहे हैं उत्तर प्रदेश में पार्टी महासचिव और प्रभारी प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह. सूत्रों का कहना है कि सिंह अपने नेता द्वारा सौंपे गए एक विशेष मिशन पर 16 अगस्त से लखनऊ में हैं. इनका काम है नए और पुराने नेताओं के बीच एकजुटता पर बल देना और विधानसभा चुनाव के लिए एक मजबूत पिच तैयार करना. लिहाजा पार्टी इन दिनों जातिगत गणित पर काम कर रही है.

ब्राह्मण वोट बैंक पर पार्टी की नजर

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading