Neet 2020: शोएब आफताब की सफलता से मिट जाएगा राउरकेला के इस मोहल्ले पर लगा दाग़!

 शोएब आफ्ताब (Shoeb Aftab) ने NEET 2020 में पहली रैंक हासिल की
शोएब आफ्ताब (Shoeb Aftab) ने NEET 2020 में पहली रैंक हासिल की

नीट (Neet 2020) की परीक्षा में शोएब आफताब (Shoeb Aftab) की इस सफलता से राउरकेला के नाला रोड रोड स्थित आजाद मोहल्ला के लोग काफी खुश हैं. उन्हें उम्मीद है कि अब उनके मोहल्ले पर लगा एक दाग धुल जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2020, 12:04 PM IST
  • Share this:
आनंद एसटी दास
राउरकेला. मेडिकल फील्ड में एडमिशन के लिए बीते दिनों आयोजित नीट (Neet 2020) की परीक्षा के परिणाम शुक्रवार शाम को जारी कर दिए गए. इस परीक्षा में ओडिशा (Odisha) के शोएब आफताब (Shoeb Aftab) ने पहली रैंक हासिल की. आफताब को इस परीक्षा में 100 फीसदी अंक मिले हैं, यानी 720 में 720 अंक. उनकी इस सफलता पर राउरकेला के नाला रोड रोड स्थित आजाद मोहल्ला के लोग काफी खुश हैं. यह इलाका चार साल पहले राष्ट्रीय सुर्खियों में आया था, जब यहां से सिमी के चार संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार किए गए थे. 2016 में चार कट्टर सिमी ऑपरेटर्स की गिरफ्तारी हुई थी. नाला रोड को एक संदिग्ध स्थान माना जाने लगा था. शेख महबूब, अमजद खान, जाकिर हुसैन और एमडी सालिक को उस साल 16 फरवरी की रात को कुरैशी मोहल्ले में एक किराए के घर से गिरफ्तार किया गया था. ये सभी यहां छिपकर रह रहे थे.

हालांकि आफताब के नीट टॉप करने के बाद स्थानीय लोगों को उम्मीद है कि उनके मोहल्ले पर चार साल पहले लगा दाग अब धुल जाएगा.

आफताब और अब्बास को दी बधाई
पड़ोसी आफताब की सफलता के बारे में जानने के बाद उन्हें और उनके पिता मोहम्मद शेख अब्बास को बधाई देने में व्यस्त थे. आफताब और उनका परिवार वर्तमान में राजस्थान के कोटा में है जहाँ आफताब पिछले दो वर्षों से NEET के लिए कोचिंग कर रहे थे.



राउरकेला में देसुजा के स्कूल के प्रिंसिपल अलेक्जेंडर देसोजा ने कहा कि आफताब शुरू से ही मेधावी लड़का था. हमेशा अपनी पढ़ाई में मन लगाता था. अगर मुझे सही याद है, तो मेडिकल डॉक्टर बनना उनका बचपन का सपना था. मुझे पता था कि लड़का किसी दिन बड़ा काम करेगा. मैं उसके लिए बहुत खुश हूं.

मिट जाएगा वह काला धब्बा!
आफताब के पिता मोहम्मद शेख अब्बास ठेकेदार हैं. वहीं आफताब, उनकी छोटी बहन और उनकी माँ सुल्ताना पिछले 2 साल से कोटा में रह रही हैं. आईसीएसई में 95% से अधिक के साथ आफताब ने डि'सुजा स्कूल से क्लास 10 पास करने के तुरंत बाद एक स्थानीय कॉलेज में 12वीं के लिए दाखिला लिया और इसी दौरान NEET की तैयारी करने के लिए कोटा के कोचिंग इंस्टीट्यूट से पढ़ने लगा.

आफताब के पड़ोसी और प्लांटसाइड उर्दू प्राइमरी स्कूल के हेडमास्टर ने अल्ताफ़ शकील कहा- ' आफताब ने राउरकेला और ओडिशा के लिए राष्ट्रीय पटल पर गौरवान्वित किया है. हम उसके लिए बहुत खुश हैं और यहां उसकी उपलब्धि का जश्न मना रहे हैं. उसकी इस सफलता ने चार साल पहले लगे काले धब्बे को मिटा दिया है.'



नाला रोड निवासी  पूर्व पार्षद अफरोज अहमद ने कहा, 'वह (सिमी आतंकियों की गिरफ्तारी) एक बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी. यह पूरे इलाके के लिए शर्म की बात थी. लेकिन आफताब के रिजल्ट ने उस बुरी याद को मिटा दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज