TMC का टिकट ठुकराकर BJP में गई थीं सरला मुर्मु, अब ममता से कहा- गलती हो गई माफ कर दीजिए

सरला मुर्मू  (फाइल फोटो)

सरला मुर्मू (फाइल फोटो)

टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने मालदा के हबीबपुर विधानसभा क्षेत्र से सरला मुर्मू (Sarala Murmu) को उम्मीदवार बनाया था, लेकिन उन्होंने टिकट ठुकराकर बीजेपी का दामन थाम लिया था.

  • Share this:

कोलकाता. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election 2021) में भारी बहुमत से जीत के बाद तृणमूल कांग्रेस (TMC) के दिन फिरने लगे हैं. चुनाव से पहले टीएमसी छोड़कर भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल होने वालों नेताओं को अब पुरानी पार्टी की याद आने लगी है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) की करीबी रहीं सोनाली गुहा (Sonali Guha) के बाद अब मालदा के हबीबपुर विधानसभा क्षेत्र की सरला मुर्मु (Sarala Murmu) ने TMC में वापस लौटने की इच्छा जाहिर की है. उन्होंने पार्टी सुप्रीमो ममता बनर्जी से माफी मांगते हुए कहा कि बीजेपी में शामिल होना उनकी गलती थी. इसके लिए दीदी उन्हें माफ कर दें.

TMC सुप्रीमो ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने मालदा के हबीबपुर विधानसभा क्षेत्र से सरला मुर्मू (Sarala Murmu) को उम्मीदवार बनाया था, लेकिन उन्होंने TMC का टिकट ठुकराकर बीजेपी का दामन थाम लिया था. मुर्मू के इस कदम की काफी चर्चा हुई थी. अब विधानसभा चुनाव के नतीजे आ गए है और ममता बनर्जी तीसरी बार सीएम बनी हैं. वहीं बीजेपी की करारी हार हुई है. ऐसे में टीएमसी में वापस लौटने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है.

भवानीपुर से चुनाव लड़ेंगी ममता बनर्जी! विधायक शोभन देव चटर्जी ने दिया इस्‍तीफा


सरला ने पहले कहा था- टीएमसी में काम की नहीं है अनुमति

चुनाव के पहले बीजेपी में शामिल होने पर सरला ने कहा था, 'तृणमूल कांग्रेस में केवल पद दिए जाते हैं और किसी काम की अनुमति नहीं है. हमें बीजेपी से कुछ नहीं चाहिए. बस काम करना चाहते हैं. मैं निःस्वार्थ भाव से टीम में शामिल हुई हूं.' अब सरला मुर्मु ने कहा कि वह एक सैनिक के रूप में टीएमसी में वापसी करना चाहती हैं. उन्होंने कहा कि उस वक्त गलतफहमी हो गई थी.




सोनाली गुहा ने ममता से कहा- आपके बिना जी नहीं पाऊंगी

गौरतलब है कि सोनाली गुहा ने शनिवार को ममता बनर्जी को एक खुला पत्र लिखा था. पूर्व विधायक ने शनिवार को सीधे ट्वीट कर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से वापसी का अनुरोध किया था. सोनाली गुहा ने चुनाव के ठीक पहले टीएमसी का साथ छोड़ दिया था और बीजेपी में शामिल हो गई थीं, हालांकि बीजेपी ने भी उन्हें कहीं से भी उम्मीदवार नहीं बनाया. चुनाव परिणाम के बाद राज्य में फिर ममता बनर्जी के नेतृत्व में टीएमसी की सरकार बनी और टीएमसी ने 213 सीटों पर जीत हासिल की.

सतगछिया से पूर्व विधायक सोनाली गुहा ने अपनी चिट्ठी में लिखा है, 'दीदी आप मुझे माफ नहीं करेंगी तो मैं जिंदा नहीं रहूंगी. मैंने भावनाओं में बहकर अभिमान में गलत पार्टी में जाने का निर्णय उन्होंने ले लिया था.' सोनाली ने लिखा- 'जिस तरह से मछली पानी के बगैर जिंदा नहीं रह सकती, उसी तरह से दीदी के बगैर मैं जिंदा नहीं रह सकती हूं. दीदी आप अपने आंचल के तले रहने का मौका मुझे एक बार फिर दे दीजिए.'

दीदी बिन ना जी सकेंगे! बीजेपी नेता सोनाली गुहा ने ममता को लिखा पत्र, मांगी माफी

बीजेपी ने कहा-पार्टी को कोई आपत्ति नहीं

इस संबंध में भारतीय जनता पार्टी के मुख्य प्रवक्ता शमिक भट्टाचार्य ने कहा कि अगर कोई अपनी पुरानी पार्टी में लौट कर शांति पाता है तो हमें कोई समस्या नहीं है. हालांकि, सोनाली की चिट्ठी के बारे में तृणमूल एमपी सौगत रॉय ने कहा गुहा को पार्टी में वापस लौटाने के बारे में अंतिम निर्णय ममता बनर्जी ही लेंगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज