Home /News /nation /

पुलवामा हमले के बाद यूपी-बिहार के युवाओं को आतंकी संगठन में जोड़ने की थी साजिश, NIA की चार्जशीट में हुआ खुलासा 

पुलवामा हमले के बाद यूपी-बिहार के युवाओं को आतंकी संगठन में जोड़ने की थी साजिश, NIA की चार्जशीट में हुआ खुलासा 

बिहार के गरीब लड़कों को पैसों का लालच देकर और उसकी मजबूरी का फायदा उठाकर उसे जिहादी बनाया गया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर )

बिहार के गरीब लड़कों को पैसों का लालच देकर और उसकी मजबूरी का फायदा उठाकर उसे जिहादी बनाया गया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर )

NIA: इस मामले की तफ़्तीश के दौरान चारों आरोपियों में से दो आतंकी बिहार के रहने वाले जबकि दो आतंकी जम्मू कश्मीर का निवासी पाया गया था. इस आरोपपत्र के मुताबिक इस आतंकी संगठन को बनाने का मकसद पाकिस्तान के आतंकियों द्वारा पुलवामा हमले के बाद बन रहे अंतरराष्ट्रीय दबाब की वजह से किया गया था.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए ( NIA ) ने आतंकी संगठन लश्कर -ए -मुस्तफा (Lashkar-e-Mustafa (LeM) से संबंधित दर्ज एक मामले में कार्रवाई और तफ़्तीश को अंजाम देते हुए चार आतंकियों के खिलाफ पूरक आरोपपत्र दायर (Supplementary Charge-sheet Against Four Terrorists) किया है. पिछले साल साल 2021 में एनआईए की जम्मू ब्रांच के द्वारा जम्मू -कश्मीर सहित कई अन्य इलाकों में इस आतंकी संगठन द्वारा आतंकी और आपराधिक साजिश (Criminal Conspiracy Case) से जुड़े मसले पर मामले की तफ़्तीश के लिए एक एफआईआर दर्ज किया था. इस मामले की तफ़्तीश के दौरान चारों आरोपियों में से दो आतंकी बिहार के रहने वाले जबकि दो आतंकी जम्मू कश्मीर का निवासी पाया गया था. इस आरोपपत्र के मुताबिक इस आतंकी संगठन को बनाने का मकसद पाकिस्तान के आतंकियों द्वारा पुलवामा हमले के बाद बन रहे अंतरराष्ट्रीय दबाब की वजह से किया गया था.

इसी वजह से पाकिस्तान में रहने वाले आतंकी मौलाना मसूद अजहर का भाई मुफ़्ती उर्फ अब्दुल ,रौफ़ उर्फ असगर सहित जैश ए मोहम्मद आतंकी संगठन के कई बड़े आतंकियों ने एक नया संगठन बनाकर उसमें यूपी -बिहार जैसे राज्यों से मजबूर युवाओं का ब्रेनवास करवाकर ,उसे पैसों का लालच, हथियार देकर उसे संगठन में जोड़ने की साजिश रची गई थी. एनआईए द्वारा 15 जनवरी दायर आरोपपत्र में प्रमुख तौर पर इन प्रमुख आतंकियों के खिलाफ तमाम सबूतों और बयानों का है जिक्र जो प्रमुख तौर पर इस प्रकार से हैं.

1.मोहम्मद अरमान अली उर्फ अरमान मंसूरी – पिता का नाम नियामुद्दीन मियां ,जो बिहार के सारण के मरहोरा इलाके का है रहने वाला है

2. मोहम्मद एहसानुल्लाह उर्फ गुड्डू अंसारी – पिता का नाम- मोहम्मद हुसैन , बिहार के सारण जिले के मरहौरा इलाके का रहने वाला

3.इमरान अहमद हजाम उर्फ इमरान नबी हजाम – पिता का नाम ग़ुलाम नबी , जम्मू कश्मीर स्थित नाथपुरा ,खनबल का रहने वाला

4. इरफान अहमद – पिता का नाम मोहम्मद याक़ूब , जम्मू कश्मीर के अनंतनाग का निवासी

पुलवामा हमला के बाद कैसे बना था जैश-ए मोहम्मद की मुखौटा संगठन लश्कर-ए मुस्तफा
पाकिस्तान के आतंकियों द्वारा साल 2019 में पुलवामा हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय दबाब से बचने के लिए लश्कर ए मुस्तफा नाम का एक मुखौटा संगठन बनाया गया था. एनआईए की तफ़्तीश के दौरान ये जानकारी मिली कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI ) के इशारे पर ही एक साजिश के तहत आतंकी संगठन जैश-ए -मोहम्मद का नाम बदलकर उसी के द्वारा इन अन्य आतंकी संगठन लश्कर-ए-मुस्तफा को तैयार किया गया. जबकि उस संगठन के तहत काम करने वाले आतंकियों ,लोकेशन, फंड सब कुछ जैश ए मोहम्मद रखा गया. इस आतंकी संगठन ने एक साजिश के तहत जम्मू कश्मीर के साथ साथ यूपी -बिहार के युवाओं को भी भर्ती करने की योजना बनाया ,जिससे कि ये लगे कि भारत के अंदर दूसरे राज्यों में भी प्रॉब्लम है. जबकि बिहार के गरीब लड़कों को पैसों का लालच देकर और उसकी मजबूरी का फायदा उठाकर उसे जिहादी बनाया गया था.

इस आतंकी संगठन लश्कर ए मुस्तफा को बनाने के बाद उस संगठन का प्रमुख हिदायत अल्लाह मालिक उर्फ हसनैन को बनाया था ,जो CRPF के काफिले पर आतंकी हमला करने वाली टीम का सदस्य था. जो पुलवामा हमला के दौरान और उसके बाद सीधे पाकिस्तान में रहने वाले आतंकी मौलाना मसूद अजहर का भाई मुफ़्ती (अब्दुल ) ,रौफ़ उर्फ असगर सहित जैश ए मोहम्मद आतंकी संगठन के कई बड़े आतंकियों के साथ जुड़ा था.

आतंकी संगठन लश्कर -ए -मुस्तफा और आतंकी संगठन जैश -ए-मोहम्मद के बीच आपसी कनेक्शन का खुलासा
एनआईए की टीम द्वारा इस मामले को दर्ज करने से पहले इस आतंकी संगठन लश्कर -ए -मुस्तफा के खिलाफ 6 फरवरी को जम्मू जिला की गंग्याल स्थानीय पुलिस के द्वारा मामला दर्ज किया गया था. उस वक्त में शुरुवाती तफ़्तीश के दौरान ही ऐसा पाया गया कि इस आतंकी संगठन और उसके आतंकियों का संबंध आतंकी संगठन जैश -ए-मोहम्मद से जुड़ने का इनपुट्स मिला था ,लिहाजा इसी मामले की गंभीरता को देखते हुए केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए ने दो मार्च 2021 को इस मामले को टेकओवर करके एक नया एफआईआर दर्ज किया गया. इस मामले की तफ़्तीश के दौरान एक दर्जन से ज्यादा आतंकियों की भूमिका सामने आई थी ,लिहाजा तफ़्तीश के बाद चार अप्रैल को एक आरोपपत्र दायर किया गय. जिसमें 6 आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया गया था.

हथियार सप्लाई के लिए बिहार से पंजाब -हरियाणा के रास्ते जम्मू कश्मीर का बनाया गया रूट
जांच के दौरान ये बातें भी सामने आई कि इस आतंकी संगठन ने बिहार के उन आरोपी युवाओं को टारगेट किया गया जो बेहद कम पैसों के लिए ही बिहार में हथियारों की सप्लाई करने के लिए तैयार हो जाते हैं. इसके लिए ज्यादा से ज्यादा पैसे देने की लालच पर उन हथियार तस्करों को बिहार में हथियार बनाकर उसे बिहार से पंजाब -हरियाणा के रास्ते जम्मू कश्मीर के अंदर हथियार सप्लाई का काम सौंपा गया था.

Tags: NIA, Pulwama attack

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर