नीति आयोग के बयान के बाद प्रियंका ने मोदी सरकार से पूछा- 'इस नुकसान की भरपाई कौन करेगा?'

News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 4:16 PM IST
नीति आयोग के बयान के बाद प्रियंका ने मोदी सरकार से पूछा- 'इस नुकसान की भरपाई कौन करेगा?'
नीति आयोग (Niti Aayog) के उपाध्यक्ष राजीव कुमार (Rajiv Kumar) के बयान के बाद प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने ट्वीट कर सवाल किया.(PTI Photo)

नीति आयोग (Niti Aayog) के उपाध्यक्ष राजीव कुमार (Rajiv Kumar) के बयान के बाद प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने ट्वीट कर सवाल किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2019, 4:16 PM IST
  • Share this:
कांग्रेस महासचिव (Congress General Secretary) प्रियंका गांधी ( Priyanka Gandhi) ने केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की अगुवाई वाली भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party- BJP)की सरकार से सवाल किया है. आर्थिक मंदी (Economic Slowdown) के चिंताओं के बीच नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार (NITI Aayog Vice Chairman Rajiv Kumar) के बयान के बाद विवाद और बढ़ गया है. बता दें राजीव कुमार ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था 70 साल में सबसे खराब दौर में है.

राजीव के इस बयान पर प्रियंका ने ट्वीट कर सवाल किया. प्रियंका ने कहा- 'भाजपा सरकार को अब देश को साफ-साफ बताना चाहिए कि अर्थव्यवस्था की ऐसी दुर्दशा क्यों हो रही है? व्यापार टूट रहा है, उद्योग डगमगा रहे हैं, रुपया कमजोर होता जा रहा है, नौकरियां खत्म हो रही हैं. इससे हो रहे नुकसान की भरपाई कौन करेगा?'

प्रियंका के साथ ही राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया. राहुल ने लिखा- 'सरकार के अपने आर्थिक सलाहकारों ने आखिरकार स्वीकार किया जो हमने बहुत पहले कहा था. भारत की अर्थव्यवस्था पर गहरा संकट है. अब, हमारे समाधान को स्वीकार करें और जरूरतमंदों के हाथों में पैसा वापस करके अर्थव्यवस्था को फिर से संगठित करें, न कि लालची लोगों को.'

यह भी पढ़ें:  कपिल सिब्बल बोले- इकॉनमी ICU में, प्रोत्साहन पैकेज की जरूरत

बता दें राजीव कुमार ने गुरुवार को कहा कि सरकार को ऐसे कदम उठाने की जरूरत है जिससे निजी क्षेत्र की कंपनियों की आशंकाओं को दूर किया जा सके और वे निवेश के लिये प्रोत्साहित हों. आर्थिक नरमी को लेकर चिंता के बीच उन्होंने यह बात कही.



उन्होंने वित्तीय क्षेत्र में बने अप्रत्याशित दबाव से निपटने के लिये लीक से हटकर कदम उठाने पर जोर दिया. उन्होंने यह भी कहा कि निजी निवेश तेजी से बढ़ने से भारत को मध्यम आय के दायरे से बाहर निकलने में मदद मिलेगी.
Loading...

राजीव ने कहा- निजी क्षेत्र में दबाव अप्रत्याशित
कुमार ने वित्तीय क्षेत्र में दबाव को अप्रत्याशित बताया. उन्होंने कहा कि किसी ने भी पिछले 70 साल में ऐसी स्थिति का सामना नहीं किया जब पूरी वित्तीय प्रणाली में जोखिम है.



उन्होंने कहा, ‘सरकार को ऐसे कदम उठाने की जरूरत है जिससे निजी क्षेत्र की कंपनियों की आशंकाओं को दूर किया जा सके और वे निवेश के लिये प्रोत्साहित हों.’ उन्होंने यहां एक कार्यक्रम में कहा, ‘कोई भी किसी पर भी भरोसा नहीं कर रहा है ...निजी क्षेत्र के भीतर कोई भी कर्ज देने को तैयार नहीं है, हर कोई नकदी लेकर बैठा है...आपको लीक से हटकर कुछ कदम उठाने की जरूरत है.'

यह भी पढ़ें:  70 साल में सबसे ख़राब दौर से गुजर रही है इकॉनमी: राजीव कुमार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 3:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...