लाइव टीवी

ट्रंप के मध्यस्थता प्रस्ताव पर भारत ने अमेरिका को फिर याद दिलाया- 'कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा'

News18Hindi
Updated: January 22, 2020, 6:10 PM IST
ट्रंप के मध्यस्थता प्रस्ताव पर भारत ने अमेरिका को फिर याद दिलाया- 'कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा'
विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने कहा है कि अमेरिका को कश्मीर मुद्दे पर भारत के रुख की जानकारी दे दी गई है (ट्रंप और इमरान खान की फाइल फोटो)

इस मामले में विदेश मंत्रालय (Foreign Ministry) के सूत्रों ने कहा है- 'कश्मीर (Kashmir) एक द्विपक्षीय मुद्दा (Bilateral Issue) है और इसे द्विपक्षीय तरीके से ही हल किया जाएगा.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 22, 2020, 6:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत ने बुधवार को एक बार फिर से कश्मीर मुद्दे (Kashmir Issue) पर अपने स्टैंड को दोहराया है. भारत ने ऐसा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के कश्मीर पर दिए बयान के बाद किया है. दरअसल अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दावोस (Davos), स्विट्जरलैंड में चल रहे वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम (World Economic Forum) में कार्यक्रम से इतर कश्मीर मुद्दे को हल करने के लिए मदद की पेशकश की थी.

इस मामले में विदेश मंत्रालय (Foreign Ministry) के सूत्रों ने कहा है- 'कश्मीर एक द्विपक्षीय मुद्दा (Bilateral Issue) है और इसे द्विपक्षीय तरीके से ही हल किया जाएगा.'

राष्ट्रपति ट्रंप ने पत्रकारों से बातचीत में कही थी मध्यस्थता की बात
इससे आगे सूत्रों ने यह भी कहा कि मोदी सरकार की नीति है कि 'बातचीत और आतंक एक साथ नहीं चल सकते.' विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने कहा, 'किसी भी बातचीत के लिए, पाकिस्तान को पहले आतंकवाद (Terrorism) पर लगाम लगानी पड़ेगी.'

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) से मुलाकात से पहले मंगलवार को पत्रकारों से एक बातचीत के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने एक बार फिर से अपनी मध्यस्थता की पेशकश को दोहराया था.

एक साल से भी कम समय में तीन बार ट्रंप से मिल चुके हैं इमरान खान
राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा था, "हम कश्मीर की स्थितियों पर बातचीत करेंगे. हम इस मसले पर मध्यस्थता कर सकते हैं. हम पाकिस्तान के साथ कुछ सीमाओं पर काम कर रहे हैं. और हम भारत-पाकिस्तान के बीच कश्मीर (Kashmir) के संबंध में जो हो रहा है, उसकी बात कर रहे हैं. अगर हम मदद कर सकते हैं, तो हम जरूर मदद करेंगे. हम इस पर नजर बनाए हुए हैं और बहुत से करीब से इसकी निगरानी कर रहे हैं."यह बैठक दोनों ही नेताओं (इमरान खान और डोनाल्ड ट्रंप) के बीच एक साल से भी कम समय में तीसरी सीधी बैठक थी.

इस मीटिंग में दोनों ही देशों का प्रतिनिधिमंडल (Delegation) शामिल हुआ और क्षेत्रीय सुरक्षा के मुद्दे, अफगान शांति प्रक्रिया, अमेरिका-ईरान संघर्ष और जम्मू-कश्मीर के हालात की चर्चा इस मीटिंग में हुई.

यह भी पढ़ें: ट्रंप ने फिर स्वीकारा PM का दबदबा, कहा- फेसबुक पर मैं नंबर 1 और मोदी नंबर 2

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 6:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर