विधानसभा चुनाव: ममता बनर्जी की भाजपा को चेतावनी, बंगाल जीतने के बाद दिल्ली की ओर कूच करेंगे

बंगाल केे बांकुरा में एक चुनावी रैली को संबोधित करतीं ममता बनर्जी. (ANI/16 March 2021)

बंगाल केे बांकुरा में एक चुनावी रैली को संबोधित करतीं ममता बनर्जी. (ANI/16 March 2021)

West Bengal Assembly Election: पश्चिम बंगाल की सभी 294 सीटों पर 27 मार्च से 29 अप्रैल के बीच विधानसभा चुनाव आठ चरणों में होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 9:08 PM IST
  • Share this:

कोलकाता. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि 'परिवर्तन' उनका नारा था जिसे विपक्षी पार्टी ने कॉपी कर लिया है. इसके साथ ही उन्होंने भाजपा को चेतावनी भी दी कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Elections 2021) जीतने के बाद वो दिल्ली की तरफ रुख करेंगी. खड़गपुर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने कहा, "आप ममता बनर्जी की कॉपी क्यों कर रहे हैं? बंगाल जीतने के बाद हम दिल्ली के लिए कूच करेंगे और भाजपा को उखाड़ फेकेंगे."



एक अन्य रैली में ममता ने चक्रवात ‘अम्फान’ के बाद लोगों की मदद करने को लेकर भी भाजपा नेताओं पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने प्रभावितों की हरसंभव मदद की और हो सकता है कि ‘‘एक या दो’’ लाभार्थी छूट गए हों, लेकिन भाजपा के नेताओं को संकट के उस समय में कहीं नहीं देखा गया.



पश्चिम मेदिनीपुर में एक रैली को गड़बेता में संबोधित करते हुए तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने दावा किया कि भाजपा नेता चुनाव से ठीक पहले ‘‘मतदाताओं को लुभाने और वोट हासिल करने के लिए बाहर से नकदी के साथ हेलीकॉप्टर और विमानों से यहां पहुंचते है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘तृणमूल कांग्रेस सरकार ने चक्रवात प्रभावितों के लिए हजारों करोड़ रुपये की मदद की. एक या दो अपवाद हो सकते हैं, लेकिन हम लोगों की मदद करने के लिए पहुंचे हैं. तब भाजपा के नेता कहां थे? मानवीय संकट के समय वह हमेशा गायब रहते हैं.’’




Youtube Video


बनर्जी ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) को लागू नहीं होने देगी. उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘गणना करने वालों की यात्रा के दौरान घर पर नहीं पाये जाने पर भाजपा मतदाताओं के नामों को हटा देगी. वे आपको (लोगों) निकाल देंगे, लेकिन हम उन्हें यहां रजिस्टर का अद्यतन करने की अनुमति नहीं देंगे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘किसी भी परिवार के एक भी सदस्य, देश के किसी भी नागरिक को बंगाल से निकाला नहीं जा सकता है.’’ भाजपा को ‘‘दंगाइयों की पार्टी’’ बताते हुए उन्होंने कहा, ‘‘हम हिंसा नहीं चाहते हैं, हम खून-खराबा नहीं चाहते हैं और हम बंगाल में प्रतिशोध की राजनीति नहीं चाहते हैं.’’



गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में चुनाव 27 मार्च, एक अप्रैल, छह अप्रैल, दस अप्रैल, 17 अप्रैल, 22 अप्रैल, 26 अप्रैल और 29 अप्रैल को होंगे, जबकि मतों की गिनती दो मई को होगी. चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने 26 फरवरी को चुनाव कार्यक्रम की घोषणा करते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में 2016 की तुलना में इस बार एक चरण अधिक होगा.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज