नौसेना में युद्धपोतों के लिए रूस से भारत का करार, 2026 में मिलेगा पहला जहाज

सौदे के तहत रूस भारत में युद्धपोतों के निर्माण के लिए जीएसएल को डिजाइन, प्रौद्योगिकी और कुछ सामग्री प्रदान करेगा.

भाषा
Updated: November 20, 2018, 6:38 PM IST
नौसेना में युद्धपोतों के लिए रूस से भारत का करार, 2026 में मिलेगा पहला जहाज
प्रतीकात्मक तस्वीर
भाषा
Updated: November 20, 2018, 6:38 PM IST
भारत और रूस ने मंगलवार को प्रौद्योगिकी हस्तांतरण प्रारूप के तहत भारतीय नौसेना के लिए गोवा में दो युद्धपोतों के निर्माण के लिहाज से 50 लाख डॉलर के सौदे पर हस्ताक्षर किये.

अधिकारियों ने कहा कि रक्षा क्षेत्र की पीएसयू गोवा शिपयार्ड लिमिटेड (जीएसएल) और रूस की सरकारी रक्षा निर्माता रोसोबोरोनएक्सपोर्ट के बीच परियोजना के लिए करार किया गया. यह समझौता रक्षा सहयोग के लिए सरकार से सरकार के बीच रूपरेखा के तहत किया गया.

यह भी पढ़ें- दुनिया का चक्कर लगा कर गोवा पहुंचीं नौसेना की 6 जाबांज अफसर



इस सौदे के तहत रूस भारत में युद्धपोतों के निर्माण के लिए जीएसएल को डिजाइन, प्रौद्योगिकी और कुछ सामग्री प्रदान करेगा. जीएसएल के सीएमडी शेखर मित्तल ने बताया, 'हमने गोवा में दो युद्धपोतों के निर्माण के लिए रूस के साथ 50 करोड़ डॉलर के समझौते को अंतिम रूप दिया है.'

यह भी पढ़ें-  अब महिलाओं को भी बतौर सेलर भर्ती करने की सोच रही है नौसेना

उन्होंने बताया कि युद्धपोतों का निर्माण 2020 में शुरू होगा और पहला जहाज साल 2026 में जलावतरण के लिए तैयार होगा, वहीं दूसरा साल 2027 तक तैयार होगा.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर