अपना शहर चुनें

States

कृषि कानून पर बोले PM मोदी, कृषि सुधारों ने किसानों के लिए नई संभावनाओं के द्वार भी खोले हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए कृषि कानून को लेकर मन की बात कार्यक्रम में कही बात.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए कृषि कानून को लेकर मन की बात कार्यक्रम में कही बात.

मन की बात' (Mann Ki Baat) कार्यक्रम के जरिये देशवासियों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा, कृषि कानून से किसानों को काफी फायदा पहुंच रहा है और किसानों को उनके अधिकार मिल रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2020, 9:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने रविवार को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' (Mann Ki Baat) के जरिये देशवासियों को संबोधित किया. प्रधानमंत्री मोदी ने इस खास कार्यक्रम में कृषि कानून को लेकर भी अपनी बात रखी. उन्होंने बताया कि किस तरह नए कृषि कानून ने किसानों के लिए नई संभावनाओं के द्वार खोले हैं. पीएम मोदी ने कहा, कृषि कानून से किसानों को काफी फायदा पहुंच रहा है और किसानों को उनके अधिकार मिल रहे हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, भारत में खेती और उससे जुड़ी चीजों के साथ नए आयाम जुड़ रहे हैं. बीते दिनों हुए कृषि सुधारों ने किसानों के लिए नई संभावनाओं के द्वार भी खोले हैं. इन अधिकारों ने बहुत ही कम समय में किसानों की परेशानियों को कम करना शुरू कर दिया है.





आइए जानते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कृषि कानून को लेकर क्या कहा...
पीएम मोदी ने कहा, काफ़ी विचार विमर्श के बाद भारत की संसद ने कृषि सुधारों को कानूनी स्वरूप दिया. इन सुधारों से न सिर्फ किसानों के अनेक बंधन समाप्त हुए हैं, बल्कि उन्हें नए अधिकार भी मिले हैं, नये अवसर भी मिले हैं.
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, भारत में खेती और उससे जुड़ी चीजों के साथ नए आयाम जुड़ रहे हैं. बीते दिनों हुए कृषि सुधारों ने किसानों के लिए नई संभावनाओं के द्वार भी खोले हैं.
प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में महाराष्ट्र के धुले ज़िले के किसान, जितेन्द्र भोइजी का भी जिक्र किया जिन्होंने नए कृषि कानून का इस्तेमाल किया और अपनी परेशानी खत्म की और चंद ही दिन में उनका बकाया चुका दिया गया
पीएम मोदी ने बताया कि इस कानून में एक और बहुत बड़ी बात है. इस क़ानून में ये प्रावधान किया गया है कि क्षेत्र के जिलाधिकारी (SDM) को एक महीने के भीतर ही किसान की शिकायत का निपटारा करना होगा.
पीएम मोदी ने बताया, किसानों में जागरूकता बढ़ाने का ऐसा ही एक काम राजस्थान के बारां जिले में रहने वाले मोहम्मद असलम जी कर रहे हैं. ये एक किसान उत्पादक संघ के CEO भी हैं. उम्मीद है, बड़ी बड़ी कंपनियों के CEOs को ये सुनकर अच्छा लगेगा कि अब देश के दूर दराज वाले इलाको में काम कर रहे किसान संगठनों में भी CEOs होने लगे हैं.
पीएम मोदी ने बताया कि खुद उनका FPO भी किसानों से फ़सल खरीदता है, इसलिए उनके इस प्रयास से किसानों को निर्णय लेने में मदद मिलती है. मोहम्मद असलम जी ने अपने क्षेत्र के अनेकों किसानों को मिलाकर एक व्हाट्सअप ग्रुप बना लिया है. इस ग्रुप पर वो हर रोज़, आस-पास की मंडियो में क्या भाव चल रहा है, इसकी जानकारी किसानों को देते हैं.
पीएम मोदी ने कहा, जागरूकता है तो जीवंतता है. अपनी जागरूकता से हजारों लोगों का जीवन प्रभावित करने वाले एक कृषि उद्यमी श्री वीरेन्द्र यादव जी हैं जो किसानों को पराली प्रबंधन में नई दिशा दिखाते हैं. ऐसा करके आप देश में हो रहे बड़े बदलाव के सहभागी बनेंगे.
पीएम मोदी ने कहा, मेरा नौजवानों, विशेषकर कृषि की पढ़ाई कर रहे लाखों विद्यार्थियों से आग्रह है कि वो अपने आस-पास के गावों में जाकर किसानों को आधुनिक कृषि के बारे में, हाल में हुए कृषि सुधारो के बारे में जागरूक करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज